विटामिन D की कमी से होने वाला रोग कौन सा है | विटामिन डी के आहार | विटामिन डी शरीर में कितना होना चाहिए

By  

vitamin d ki kami se hone wale rog in hindi , विटामिन D की कमी से होने वाला रोग कौन सा है | विटामिन डी के आहार | विटामिन डी शरीर में कितना होना चाहिए ?

विटामिन

विलेयता के आधार पर विटामिनों को दो वर्गों में विभाजित किया गया हैः

1. जल में घुलनशील विटामिनः विटामिन B व विटामिन C

2. वसा में घुलनशील विटामिन । A , D , E तथा K

* विटामिनों का संश्लेषण मानव शरीर की कोशिकाओं द्वारा नहीं हो सकता है एवं इसकी पूर्ति विटामिन युक्त खाद्य पदार्थों से होती है।

* विटामिन से कोई कैलोरी नहीं प्राप्त होती है।

* विटामिन ऊतकों में एन्जाइम का निर्माण करते हैं।

* विटामिन को रक्षात्मक खाद्य कहा जाता है।

* विटामिन बी 11 प्रकार के विटामिनों का समूह है। इसमें छ पाया जाता है।

* सूर्य की किरणें त्वचा में उपस्थित इर्गेस्टीरॉल को विटामिन D में परिवर्तित कर देती हैं।

* विटामिन K यकृत में प्रोथम्बिन के निर्माण के लिए आवश्यक है।

* कोलीनः तंत्रिकाओं और मांसपेशियों के सही ढंग से कार्य करने के लिए महत्वपूर्ण है। इसके साथ यह मस्तिष्क विकास और स्मरण शक्ति को बढ़ाने में भी मदद करता है।

* आयोडीन की आवश्यकता थायरॉयड हार्मोन का उत्पादन करने के लिए होती है जोकि थायरॉयड ग्रंथि के सामान्य रूप से काम करने के लिए जरूरी होती है।

* फोलेट नई कोशिकाओं के विकास और उन्हें बनाये रखने के लिए आवश्यक है। यह गंभीर जन्म दोषों के खिलाफ रक्षा करने में मदद करता है, खासकर गर्भवती महिलाओं के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है।

* आयरन पूरे शरीर में ऑक्सीजन पहुंचाने और ऊर्जा के उत्पादन में मदद करने के लिए आवश्यक है। आयरन एनीमिया को रोकने में मदद करता है।

* बेहतर दृष्टि बनाए रखने में ल्यूटीन एवं जीजेंथिन बहुत ही सहायक होते हैं, साथ ही साथ ये आयु से संबंधित आंखों की बीमारियों को कम करने में सहायता करते हैं, जैसे मोतियाबिन्द व धब्बेदार विकार।

* प्रोटीन मांसपेशियों, अंगों, त्वचा, बालों और शरीर के अन्य ऊतकों के निर्माण और उनकी मरम्मत के लिए आवश्यक होते हैं। इनकी आवश्यकता हार्मोन, एंजाइम, और रोग-प्रतिकारकों (एंटीबॉडीज) के उत्पादन के लिए होती है।

* सेलेनियम शरीर के ऊतकों को टूटने से रोकने में मदद करता है। यह कोशिकाओं में डीएनए, प्रोटीन और वसा की क्षति होने पर रक्षा करता है। सेलेनियम स्वस्थ्य प्रतिरक्षा प्रणाली और थायरॉयड ग्रंथि के पूरी तरह से कार्य करने के लिए महत्वपूर्ण है।

* विटामिन A की आवश्यकता कोशिकाओं के स्वस्थ विकास के लिए होती है। यह स्वस्थ त्वचा और आंखों के ऊतक व रात्रि दृष्टि को बनाए रखने में सहायता करता है। विटामिन A प्रतिरक्षा प्रणाली को भी बढ़ाता है।

* विटामिन बी 2 (राइबोफ्लेविन)ः यह त्वचा और आंखों को स्वस्थ रखता है।

* विटामिन बी 12ः यह लाल रक्त कोशिकाओं के निर्माण के लिए आवश्यक है। यह हृदय रोग के खिलाफ रक्षा करने में मदद करता है।

* विटामिन बी 5ः यह शरीर की उपापचय प्रक्रिया, भोजन से ऊर्जा निकालने और मानसिक कार्य करने के लिए महत्वपूर्ण होता है।

* विटामिन डी स्वस्थ हड्डियों और दांतों के लिए आवश्यक है। यह शरीर में कैल्शियम के अवशोषण के लिए आवश्यक है।

* विटामिन ई प्रजनन प्रणाली, तंत्रिकाओं और मांसपेशियों को बनाए रखने में मदद करता है।

फाइबर

फाइबर मुख्यत पादप कोशिकाओं की सतहों का निर्माण करते हैं। मनुष्य फाइबर को नहीं पचा सकता है।