सब्सक्राइब करे youtube चैनल

tatsama meaning in english and in hindi , तत्सम क्या है ? तत्सम शब्द के उदाहरण , परिभाषा लिस्ट किसे कहते है ?

तत्सम —किसी भाषा के मूल शब्द को तत्सम कहते हैं। तत्सम का अर्थ है-उसके समान अर्थात ज्यों का त्यों। जैसे-संस्कृत के तत्सम शब्द अपभ्रंश से होते हुए हिन्दी में आये हैं, जो इस प्रकार हैं-आम्र (संस्कृत)-आम (हिन्दी), गोमल (संस्कृत) गोबर (हिन्दी), क्षीर (संस्कृत) खीर (हिन्दी), शत (संस्कृत)- सौ (हिन्दी)। अर्द्धतत्सम-यह तत्सम और तद्भव के बीच का एक प्रकार का शब्द है जो प्राकृत से होकर आते हुए भी प्राकृत की अपेक्षा संस्कृत के अधिक निकट है। अर्द्धतत्सम शब्द अपने मूल रूप से मिलते-जुलते हैं। जैसे-

तत्सम  अर्द्धतत्सम हिन्दी (तद्भव)

अग्नि  अगिन आग

वत्स बच्छ बच्चा

इसी प्रकार हिन्दी में अर्द्धतत्सम शब्दों के और रूप भी मिलते हैं-किशन, चन्दर आदि ।

तद्भव- जो शब्द संस्कृत और प्राकृत से विकृत होकर हिन्दी में आए हैं उन्हें तद्भव कहते हैं। जैसे–

संस्कृत  प्राकृत हिन्दी (तद्भव)

मया मई  मैं

अग्नि अगिन  आग

मध्य  मज्झ में

वत्स  वच्छ बाछा, बच्चा

अनुकरणवाचक शब्द-वे शब्द जो वस्तु या पदार्थ की यथार्थ अथवा कल्पित ध्वनि के अनुकरण पर बने होते हैं, अनुकरणवाचक शब्द कहलाते हैं। जैसे लड़खड़ाना, ललकारना, दुरदुराना, सेटकिनी, पटाका आदि ।

देशज शब्द- ऐसे शब्दों की व्युत्पत्ति का पता नहीं चलता। कहा जाता है कि बोलचाल के क्रम में अपने देश में ही कुछ शब्द बन जाते हैं। जैसे-बियाना, लोटा, जूता, पगड़ी, डिबिया।

विदेशज शब्द- वे शब्द जो विदेशी भाषाओं से हिन्दी में आ गये हैं विदेशज हैं। अंग्रेजी, पुर्तगाली, फ्रांसीसी, तुर्की, फारसी, अरबी आदि वे भाषाएँ हैं जिनके शब्द हिन्दी में आ मिले हैं। जैसे- ईंजन, अफसर, अलकतरा, आलपीन, आलमारी, कैंची, कुली, तोप, अदा, आराम, आफत, अजायब, अक्ल आदि ।