Linked List : Swapping in c language in hindi , लिंक लिस्ट में स्वपिंग क्या होती है c भाषा में हिंदी में

By  
लिंक लिस्ट में स्वपिंग क्या होती है c कंप्यूटर भाषा में हिंदी में  Linked List : Swapping in c language in hindi :-
Swapping  linked list मे सबसे common और मुश्किल operation है | क्योकि इस operation के लिए हमे कई सारे conditions को check करना पड़ता है |

Explanation 

इस code मे , employee एक structure है जो की linked लिस्ट के single node को define करता है |
इसमें चार function है :-
void create_list(int n): ये function का use , linked लिस्ट को create करने के लिए किया जाता है |
int swapping(): इस function का use, linked list के दो nodes को swap करने के लिए किया जाता है |
void display_list(): इस function का use linked लिस्ट के सभी items को display करने के लिए किया जाता है |
int counting() : इस function का use ,linked list के nodes की सख्या को calculate करता है |

int  swapping(struct employee *list, int position1, int position2)

1.Singly linked लिस्ट को create किया जाता है और linked लिस्ट के first node के  reference को head pointer मे store किया जाता है |
2.यूजर से swaping के लिए दो position को input करवाते है |जिसे position1 और position2 कहते है |
3.अगर यूजर द्वारा दिए गये position invalid है तब function ‘-1’ return करता है |
4.सभी चार node variable n1 ,n2 ,pre1 और pre2 को null से initial करते है |जहा पर n1 और n2 (जिन nodes को swap करना है ) के address को hold करता है |और pre1 और pre2 इस nodes के पहले के node के address को hold करता है |
5.इसके अलावा दुसरे node type variable ‘t’ को “list” से initial करते है |
6.इसके बाद हम ,node के position को set करते है इसके साथ ही इन node के पहले वाले  node की position को set करते है |
7.loop के अन्दर :
अगर i==position1-1 हो  तब pre1 से t तक update होती है |
अगर i==position1 हो तब position 1 के address से t तक update होती है |
अगर i==position2-1 हो तब pre1 से t तक update होती है |
अगर i==position2 हो तब position 2 के address  से t तक update होती है |
इसके बाद ‘t’ को ‘t’ के addressfield मे store address से update कर देते है |
जब loop एक बार completes होता है तब तक हमे swap किये जाने वाले node की position मिल जाती है |
8.pre1 के address field को n2 से और pre2 के address field को n1 से लिंक कर देते है |
9.उसके बाद n2 के address feild को n1 के से लिंक करा देते है |
10.head node को adjust करा देते है अगर जरुरत है |

void create_list(int n) मे ,

1.सबसे पहले दो pointer variable addnode, t को declare किया जाता है जो की structure data है |
2.इसके अलावा दो variable ‘s’ और ‘i’ को declare किया गया है |
3.फिर pointer variable ‘h’ मे dynamic memory allocate space के address को store किया जाता है |
अगर pointer की null होती तो no more space का message आउटपुट होगा |
अन्यथा ‘h’ के item field मे user input salary को assign किया जाता है |और ‘h’ के address field को ‘null’ assign किया जाता है |इस प्रकार से linked list create हो जाती है लेकिन इसमें केवल एक ही node है |
4.create linked लिस्ट मे , यूजर द्वारा दिए node को insert करने के लिए for loop चलाया जाता है |जिसमे addnode pointer मे , allocate memory के address को assign करा देते है |
अगर addnode की value null होती तब no more space का message print हो जाता है |
अन्यथा
addnode के item field मे , यूजर input salary को assign किया जाता है और addnode के address field को null से assign किया जाता है |
linking की जाती है इसका मतलब है ‘t’ variable के address field मे addnode के address को assign किया जाता है |और t को t address बनाया जाता है |

void display_list() मे ,

1.सबसे पहले एक variable ‘t’ को declare किया जाता है जिसका data type structure employee है |
2.अगर head pointer ‘h’ null है tab empty लिस्ट का message आएगा |
अन्यथा t की h से initial करेगे |फिर while loop चलेगा |
3.while loop की body मे , printf() statement से head pointer या ‘t’ की item को display करा देगे |
फिर t को t के address field मे सेव address से set करगे |
4.step 3 जब तक्क चलगे जब तक की t का address feild मे null नहीं आ जाता है |

int count_nodes() मे 

1.while loop की body मे , c को 1 से set करगे और l को l  के address field मे सेव address से set करेगे |
2. while loop मे , l की address field को check करेगे |अगर null नहीं है तब , ‘c’  को 2 से set करगे और ‘l’ को ‘l’ के address से set करेगे |
3.step 1 और step 2  तक चलता रहेगा जब तक की  l  की address field की value null नहीं हो जाती है |
4.’c’ की value को return करेगे |
source code
#include <stdio.h>
#include <stdlib.h>
#include <conio.h>
struct employee{
int salary;                            // salary
struct employee *address; // Address
} * h;
/* Function declaration */
void create_list(int n);
void display_list();
int  counting(struct employee *l );
int  swapping(struct employee *list , int position1, int position2);
void main()
{
int num, pos1, pos2;
printf(“Enter nodes number : “);
scanf(“%d”, &num);
create_list(num);
printf(“\n\nsalary in list before swappingping: \n”);
display_list();
printf(“\nEnter first node position that you want to swapping : “);
scanf(“%d”, &pos1);
printf(“\nEnter second node position that you want to swapping : “);
scanf(“%d”, &pos2);
if (swapping(h, pos1, pos2) == 1)
{
printf(“\n salary swapping successfully.\n”);
printf(“salary in list after swapping  %d node with %d: \n”, pos1, pos2);
display_list();
}
else
{
printf(“Invalid position”\n);
printf(“please enter position greater than 0 and less than nodes in list.\n”);
}
return 0;
}
int counting(struct employee *l)
{
int c = 0;
while (l != NULL)
{
c++;
l = l->address;
}
return c;
}
void create_list(int n)
{
struct employee *addnode, *t;
int s, i;
h = (struct employee *)malloc(sizeof(struct employee));
if(h == NULL)
{
printf(“no more space “);
}
else
{
printf(“Enter the salary : “);
scanf(“%d”, &s);
h->salary = s;      // assign the user inpur salary into salary field of ‘h’
h->address = NULL; //  assign null to address field of ‘h’
t = h;
for(i=2; i<=n; i++)
{
addnode = (struct employee *)malloc(sizeof(struct employee));
if(addnode == NULL)
{
printf(” No more space “);
break;
}
else
{
printf(“Enter the salary : “);
scanf(“%d”, &s);
addnode->salary = s;     // assign the user input salary into salary field of new node
addnode->address = NULL; // assign null to address field of new node
t->address = addnode;   // node linking mean make a link between t or addnode
t = t->address;
}
}
}
}
void display_list()
{
struct employee *t;
if(h == NULL)
{
printf(” Empty List “);
}
else
{
t = h;
while(t != NULL)
{
printf(“salary = %d\n”, t->salary);
t = t->address;
}
}
}
int swapping(struct employee *list, int position1, int position2)
{
struct employee *n1, *n2, *pre1, *pre2, *t;
int i;
const int maxposition = (position1 > position2) ? position1 : position2;
const int total = counting(list);
if ((position1 <= 0 || position1 > total) || (position2 <= 0 || position2 > total))
{
return ( -1 );
}
if (position1 == position2)
{
return 1;
}
/* find out position of items that you want to be swapping */
i = 1;
t  = list;
pre1 = NULL;
pre2 = NULL;
while (t != NULL && (i <= maxposition))
{
if (i == position1 – 1)
pre1 = t;
if (i == position1)
n1 = t;
if (i == position2 – 1)
pre2 = t;
if (i == position2)
n2 = t;
t = t->address;
i++;
}
/* swappinging start */
if (n1 != NULL && n2 != NULL)
{
// Link previous of n1 with n2
if (pre1 != NULL)
pre1->address = n2;
// Link previous of n2 with n1
if (pre2 != NULL)
pre2->address = n1;
/* swapping n1 and n2 by interchange their address */
t = n1->address;
n1->address = n2->address;
n2->address = t;
/8 swaping first element .*/
if (pre1 == NULL)
h = n2;
else if (pre2 == NULL)
h = n1;
}
return 1;
}