स्पेक्ट्रम किसे कहते है ? Spectrum in hindi definition and meaning स्पेक्ट्रम की परिभाषा क्या है अर्थ मतलब

By  

Spectrum in hindi definition and meaning स्पेक्ट्रम की परिभाषा क्या है अर्थ मतलब स्पेक्ट्रम किसे कहते है ?

स्पेक्ट्रम (Spectrum) -जब श्वेत प्रकाश प्रिज्म में से होकर गुजरता है तो वह विभिन्न रंगों के नियमित क्रम में विभाजित हो जाता है। रंगों के इस क्रम को ही स्पेक्ट्रम कहते हैं।
 चाल (Speed)-किसी वस्तु द्वारा एकांक समय में चली गई दूरी को चाल कहते हैं।
 विकृति (Strain)-बाह्य बल लगाने पर वस्तु की आकृति अथवा आकार में हुए परिवर्तन को विकृति कहते हैं।
 अतिचालकता (Superconductivity)-जब कुछ धातुओं, जैसे पारा जस्ता आदि का ताप अत्यधिक कम कर दिया जाता है तो इन धातुओं का विद्युत् प्रतिरोध शून्य हो जाता है तथा इस अवस्था में इन धातुओं में धारा की दिनों तक बगैर किसी विद्युत् स्रोत के बहती रहती है। इसी को अतिचालकता कहते हैं।
 अतिशीतलन (Supercooling)-द्रवों का धीमा तथा लगातार शीतलन, जिसके कारण उनका ताप, उनके हिमांक से नीचे पहुँच जाता है।
 मन्दक (Moderator)- यह वह पदार्थ है (जैसे ग्रेफाइट, हेवी वाटर आदि) जिसका उपयोग नाभिकीय रिएक्टर में न्यूट्रॉनों को मन्दित (slow) करने के लिए किया जाता है।
 निकट दृष्टि (Myopia)-यह एक दृष्टि दोष है जिसमें व्यक्ति दूर की वस्तुओं को स्पष्ट रूप से नहीं देख पाता है। इस दोष के निवारण के लिए उचित फोकस दूरी वाला अवतल लैंस से बना चश्मा पहनना पड़ता है। चश्मे की पावर ऋणात्मक होती है।
 नाविक मील (Nautical mile)-इनका प्रयोग समुद्री यात्रा में दूरी के मात्रक के रूप में किया जाता है।
1 नाविक मील = 6,080 फीट = 1,852 मीटर =1.15078 मील।
 नेफोस्कोप (Nephoscope)-खगोलीय पदार्थों (जिनमें बादल भी शामिल हैं) की चाल मापने वाला यंत्र।
 आउन्स (ounce)-संहति मापने का एक मात्रक।
1 आउन्स (oz) = 31.1 ग्राम
 ओजोन पर्त (Ozone Layer)-ऊपरी वायुमण्डल में 15 से 50 किलोमीटर के मध्य ओजोन-समृद्ध पर्त होती है। इस पर्त की सघनता लगभग 23 किलोमीटर की ऊँचाई पर अधिकतम होती है।
 पेरीहीलियन (Perihelion)-किसी ग्रह या धूमकेतु के पथ का वह बिन्दु जबकि वह ग्रह या धूमकेतु सूर्य के निकटतम होता है।
 फोन (Phon)-यह ध्वनि की प्रबलता को मापने का एक मात्रक है।
 क्वार्क (Quarks)-ये प्रत्येक पदार्थ के अंतिम अंश हैं इनका विद्युत् आवेश, इलेक्ट्रॉन आवेश म की एक भिन्न या होता है। इलेक्ट्रॉन, म्यूऑन आदि भी लेप्टोक्वार्क मात्रक क्वार्क से बने होते हैं।
 रमन प्रभाव (Raman ffeect)-जब एक ही तरंगदैर्घ्य वाला प्रकाश (Monochromatic light) किसी पारदर्शी माध्यम में से गुजरता है तो प्रारम्भिक प्रकाश के कुछ फोटॉन या तो ऊर्जा प्राप्त करते हैं या ऊर्जा खो देते हैं (gain or lose energy), फलस्वरूप निर्गत प्रकाश में प्रारम्भिक तरंगदैर्घ्य के अतिरिक्त अन्य तरंगदैर्घ्य भी उपस्थित होती है, जिनके परिमाणों में एक निश्चित अंतर होता है। इस खोज के लिए भारतीय वैज्ञानिक प्रो. सी.वी. रमन को सन् 1930 में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था।
 टैक्योन (ज्मबीलवद)-एक संभावित कण जिसकी चाल, प्रकाश की चाल से भी अधिक हो सकती है। इसका प्रस्ताव एक भारतीय वैज्ञानिक ई.सी.जी. सुदर्शन ने रखा था। अभी तक इस कण को प्रयोग द्वारा नहीं देखा जा सका है।
 टोमोग्राफी (Tomography)-यह वह तकनीक (Technique) है जिसके द्वारा शरीर के किसी भी तल (Plane) का x-किरणों की सहायता से फोटो लिया जा सकता है।

उपकरण का नाम आविष्कारक का नाम वर्ष उपकरण का मुख्य कार्य
ऽ सेस्कोग्राफ
ऽ सोनोमीटर
ऽ साइक्लोट्रोन

ऽ कम्प्यूटर (इलेक्ट्रॉनिक)

ऽ कारबुरेटर
ऽ डायनमो
ऽ गैल्वेनोमीटर
ऽ गाइगर-मुलर-काउन्टर

ऽ माइक्रोफोन
ऽ फोटोमीटर
ऽ गोबर गैस संयंत्र

ऽ हर्ट लंग मशीन

ऽ सैक्सटेन्ट
ऽ बुनसन बर्नर
ऽ परमाणु भट्टी

ऽ सीस्मोमीटर
ऽ टेलीप्रिंटर

ऽ ट्रांसफार्मर

ऽ एयर ब्रेक
ऽ टोलोग्राफी
ऽ लिफ्ट
ऽ टेपरिकॉर्डर

ऽ टेलीविजन

ऽ कैलकुलेटर
ऽ डायलेसिस मशीन

ऽ आर्क लैंप

ऽ एयर कण्डीशनर

ऽ बैरोमीटर जे.सी. बोस
जॉन हैरिसर
अरनेस्ट ऑरलैण्डो लॉरेंस

ब्रेनर्ड इंकर्ट और मैन्युली

गॉटलीब डैमलर
हाइपोलाइट पिक्सी
स्वीपर
गाइगर

बरलाइन
एडवर्ड, चार्ल्स पिकरिंग
डॉ. सी.बी. देसाई

डॉ. डेनिस मेलरोज

कॉमपेल
रॉबर्ट विलहेम बुनसेन

रॉबर्ट मैलेट
इमाइल बेनडोट और जॉनजार्ज

माइकेल फैराडे

जार्ज वेस्टिंगहाउस
डेनिस गबोर
इलिश ग्रेविस ओटिस
पाउलसेन

जॉन लोगी बेयर्ड

बी. पास्कल कोल्फ
कोल्फ

डेवी

विल्स हैवीलैण्ड कैरियर

इवांगेलिस्टो टॉरीसेली 1900
1735
1929

1946

1876
1832
1820
1913

1877
1910
1939

1940

1757
1841
1934

1867
1972

1831

1872
1970
1852
1899

1925

1642
1844

1809

1902

1644 यह यंत्र पौधों में हुई वृद्धि को मापने का कार्य करता है।
इसका उपयोग जहाज में ठीक समय जानने के लिए किया जाता है।
यह परमाणु विज्ञान का महत्वपूर्ण उपकरण है जिससे कणों की उत्पन्न करने की गति को तीव्र किया जाता है।
इस उपकरण से गणितीय गणनाएँ, श्रेणीकरण, विश्लेषण, टेबुल आदि करना अत्यंत सरल है।
ईंधन में वायु का निश्चित भाग मिलाने वाला यंत्र।
यह यंत्र यांत्रिक ऊर्जा को विद्युत् ऊर्जा में परिवर्तित करता है।
यह अल्प परिणाम की विद्युत् धारा को मापने वाला यंत्र है।
इस यंत्र के द्वारा परमाणु कण की उपस्थिति और उसकी संख्या की जानकारी ली जाती है।
यह ध्वनि को विद्युत् आवेगों में परिवर्तित करता है।
इस यंत्र से दीप्ति शक्ति मापी जाती है।
इस संयंत्र से जानवरों के मल (गोबर) आदि द्वारा गैस उत्पन्न की जाती है, जो भोजन बनाने, रोशनी उत्पन्न करने आदि में प्रयोग की जाती है।
यह मशीन शल्य चिकित्सा के समय रोगी के फेफड़ों का भार उठा लेती है और इसकी गति को सामान्य बनाये रखती है।
यह यंत्र दूर स्थित वस्तुओं की ऊँचाई मापने के काम आता है।
यह बर्नर प्रयोगशालाओं में प्रयोग किया जाता है।
इसमें परमाणु का कृत्रिम विखण्डन नियंत्रित दायरे में किया जाता है और इसके द्वारा ऊर्जा प्राप्त की जाती है।
यह यंत्र भूकंप की तीव्रता अभिलिखित करता है।
इसमें टेलीग्राफी द्वारा संदेश भेजे जाते हैं जो रिसीवर स्टेशन पर छप जाते हैं। इसमें टाइपराइटर मशीन लगी होती है जो स्वतः संदेशों को छापती है।
इस संयंत्र के द्वारा ए.सी. विद्युत् धारा के वोल्टेज को कम या अधिक किया जाता है।
इसके द्वारा वायु के दाब से स्वचालित वाहनों में ब्रेक लगाये जाते हैं।
इसकी सहायता से त्रि-विमीय चित्र बनाया जाता है।
बहुमंजिली इमारतों में लोगों को ऊपर तथा नीचे लाने वाला संयंत्र ।
इसमें ध्वनि की तरंगों को एक टेप पर विद्युत् तरंगों में बदल दिया जाता है और पुनः उनको ध्वनि की तरंगों में बदला जा सकता है।
इस उपकरण द्वारा दूर बैठकर अन्य व्यक्तियों तथा दृश्यों के क्रियाकलाप देख सकते हैं।
इसके द्वारा गणितीय समस्याओं को हल किया जाता है।
इसके द्वारा रोगी की किडनी खराब हो जाने पर उसके रक्त से हानिकारक पदार्थों को अलग करते हैं।
बहुत तेज प्रकाश करने वाला यंत्र जिसमें दो कार्बन इलेक्ट्रोडों के बीच विद्युत् आर्क के कारण प्रकाश होता है।
इस उपकरण द्वारा ताप और आर्द्रता को नियंत्रित करके स्थान को ठण्डा या गर्म रखा जाता है।
यह संयंत्र वायुमण्डलीय दाब मापता है।

प्रौद्योगिकी आधारभूत नियम
ऽ रेडियो, टेलीविजन तथा संचार प्रणाली
ऽ अन्तरिक्ष यान एवं कृत्रिम उपग्रहों का प्रक्षेपण
ऽ ऊष्मा इंजन, भाप इंजन, रेफ्रिरेटर, वातानुकूलन
ऽ वायुयान, जलयान, पनडुब्बी
ऽ कण त्वरण (Particle accelerator) रेडियोलॉजी,
ऽ रेडियो समस्थानिक चिकित्सा आदि
ऽ नाभिकीय रिएक्टर
ऽ कम्प्यूटर
ऽ विद्युत् जनित्र (Generator)
ऽ जल-विद्युत् ऊर्जा का उत्पादन
ऽ सौर ऊर्जा युक्तियाँ (solar energy devices)
ऽ भाप इंजन
ऽ नाभिकीय रिऐक्टर
ऽ रेडियो तथा टेलीविजन
ऽ कम्प्यूटर
ऽ अति उच्च चुम्बकीय क्षेत्रों का उत्पादन
ऽ लेसर
ऽ रॉकेट नोदन
ऽ विद्युत् जनित्र
ऽ जल विद्युत् शक्ति
ऽ वायुयान
ऽ कण त्वरित्र
ऽ सोनार
ऽ प्रकाशिक रेशे
ऽ इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी
ऽ प्रकाश-विद्युत् सेल
ऽ संलयन परीक्षण रिऐक्टर (टोकामैक)
ऽ वृहत् मीटर वेब रेडियो टेलिस्कोप (GMRT)
ऽ बोस-आइंस्टान दाब विद्युत्-चुम्बकीय तरंग सिद्धान्त
न्यूटन का सार्वत्रिक गुरुत्वाकर्षण नियम एवं गतिविषयक नियम
ऊष्मागतिकी के सिद्धान्त
बरनौली प्रमेय तथा द्रवगतिकी के अन्य नियम
विद्युत् क्षेत्र तथा चुम्बकीय क्षेत्र में आवेशित कणों की गति के नियम, लॉरेन्ज
बल आदि
मंद न्यूट्रॉनों द्वारा यूरेनियम का विखण्डन
अर्द्धचालक भौतिकी तथा इलेक्ट्रॉनिकी के नियम
विद्युत् की चुम्बकीय प्रेरण के नियम
ऊर्जा संरक्षण नियम एवं विद्युत्-चुम्बकीय प्रेरण के नियम
प्रकाशिकी तथा अर्द्धचालक भौतिकी के नियम
ऊष्मागतिकी के नियम
नियंत्रित नाभिकीय विखण्डन
विद्युत्-चुम्बकीय तरंगों का उत्पादन तथा संचरण संसूचण
अंकीय तार्किकता
अति चालकता
विकिरणों के उद्दीपित उत्सर्जन द्वारा प्रकाश का प्रवर्धन
न्यूटन के गति के नियम
फैराडे के विद्युत-चुम्बकीय प्रेरण के सिद्धान्त
गुरुत्वीय स्थितिज ऊर्जा का विद्युत् ऊर्जा में रूपांतरण
तरलगतिकी में बर्नोली का सिद्धान्त
विद्युत्-चुम्बकीय क्षेत्रों में आवेशित कणों की गति
पराश्रव्य तरंगों का परावर्तन
प्रकाश का पूर्ण आंतरिक परावर्तन
इलेक्ट्रॉन की तरंग प्रकृति
प्रकाश-विद्युत् प्रभाव
प्लाज्मा का चुम्बकीय परिरोध
कॉस्मिक रेडियो किरणों का संसूचन
लेसर पुन्जों तथा चुम्बकीय क्षेत्रों द्वारा परमाणुओं का प्रग्रहरण तथा शीलन

 ट्रांसपोण्डर (Transponder)-एक ऐसा इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जिसकी सहायता से किसी सिग्नल को प्राप्त किया जा सकता है और फिर उसकी अनुक्रिया (Response) भी उपकरण द्वारा स्वतः ही दी जा सकती है।
 यूडोमीटर (Udometer)-वर्षामापक यंत्र (Rain gauge) को ही यूडोमीटर कहते हैं।
 वेन्चुरीमीटर (Venturimeter)-एक ऐसी युक्ति (Device) है जिसकी सहायता से तरल पदार्थों (द्रव तथा गैस) के प्रवाह की दर (Rate ffolow) ज्ञात की जाती है।