अनिषेकफलन क्या है , parthenogenesis की परिभाषा , असंगाजनन एवं बहुभूणता

असंगाजनन एवं बहुभूणता ,  अनिषेकफलन (parthenogenesis definition in hindi):-

बिना निषेचन के अण्डाशय के फलों में बदलने की क्रिया अनिषेक कहलाती है। इस प्रकार के फलों का अनिषेकफल कहते है। उदाहरण:-कैला।

 असंगाजनन एवं बहुभूणता:-

बिना निषेचन के बीज के निर्माण की क्रिया के असंगाजनन कहते है। कोई अण्डकोशिका बिना अर्द्धसूत्री विभाजनके बनती है तथा यह सिधे ही भू्रण का निर्माण करती है। उदाहरण:-ऐस्ट्रेसिया, घास

 महत्व:-

1-असंगजनन की क्रिया में अर्द्धसूत्री विभाजन नहीं होता है अतः जीव विनिभय की क्रिया के अभाव के कारण संतति में नये लक्षण नहीं आते है। अतः इस प्रकार बनी संतति को एक पूर्वज संतति (क्लोन) कह सकते है।

2- असंगजन से बनी संतति में नये लक्षण नहीं आते है। यदि किसान संमहित संकर बीजों का प्रयोग करता है तो संतति में लक्षण बदल सकते है। जबकि असंगजनन द्वारा प्राप्त बीजों से उत्तम लक्षण नहीं बदलते है अतः किसान इनका प्रयोग प्रतिवर्ष कर सकता है तथा उसे प्रतिवर्ष संकर बीजों के खरीदने की आवश्यकता नहीं होती है। एक से अधिक भूणों की उपस्थिति बहुभूणता कहलाती है। बीजाण्डकाय की कोई कोशिका सीधे ही भूण में बदल जाती है।

उदाहरण:-नीबू, संतरा।

One thought on “अनिषेकफलन क्या है , parthenogenesis की परिभाषा , असंगाजनन एवं बहुभूणता”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *