मोललता : molality परिभाषा क्या है , मोललता किसे कहते है (molality in hindi) (molalta kya hai in hindi)

By  
(molality in hindi) (molalta kya hai in hindi) मोललता : molality परिभाषा क्या है , मोललता किसे कहते है : मोललता को भी विलयन की सांद्रता को व्यक्त करने के लिए बहुत उपयोग में लिया जाता है , विभिन्न प्रकार के प्रोडक्ट जो हम दैनिक जीवन में उपयोग करते है उनमें सांद्रता का बहुत महत्व है जैसे हम कोई प्रोडक्ट खरीदते है तो यह किस किस पदार्थ से मिलकर बना होता है और कौनसे पदार्थ की कितनी मात्रा है इस आधार पर हम उसे खरीदते है , यही सांद्रता का आधार है।

मोललता की परिभाषा : ” एक किलोग्राम विलायक में विलेय के घुले हुए मोलों की संख्या को उस विलयन की मोललता कहते है। “
इसे m द्वारा प्रदर्शित किया जाता है।
मोललता की परिभाषा के अनुसार इसका सूत्र निम्न होता है –
मोललता = विलेय के मोल /किलोग्राम में विलायक का द्रव्यमान
प्रश्न : जब 1.57 मोल विलेय को 2.35 किलोग्राम जल में मिलाया जाता है तो इस विलयन की मोललता ज्ञात कीजिये।
उत्तर : विलेय के मोल = 1.57 मोल
विलायक (जल) का भार = 2.35 किलोग्राम
मोललता = विलेय के मोल /किलोग्राम में विलायक का द्रव्यमान
सूत्र में दोनों मानों को रखने पर –
मोललता = 1.57/2.35
मोललता = 0.668 मोलल
मोललता का उदाहरण : यदि किसी NaCl विलयन की सांद्रता को 1m द्वारा व्यक्त किया गया है इसका तात्पर्य है कि NaCl के एक मोल अर्थात 58.5 ग्राम NaCl को एक किलोग्राम जल में घोला गया है।
विलयन की सांद्रता को यदि m के साथ व्यक्त किया गया है तो इसका तात्पर्य है कि यह मोललता के रूप में दिया गया है क्यूंकि मोललता को m द्वारा व्यक्त किया जाता है।
नोट : मोललता पर ताप का प्रभाव नहीं पड़ता है।
प्रश्न : यदि 124.2 ग्राम NaOH को एक किलोग्राम जल में घोला जाता है तो इस विलयन की मोललता ज्ञात करो।
उत्तर : चूँकि यहाँ NaOH अर्थात विलेय को ग्राम में दिया हुआ है इसलिए हम पहले इसे मोल के रूप में परिवर्तित करेंगे।
NaOH का अणु भार निम्न होगा –
Na = 22.99
O = 16
H = 1.01
NaOH का कुल अणु भार = 22.99 + 16 + 1.01 = 40
NaOH के मोल = NaOH का ग्राम में भार/अणुभार
NaOH के मोल = 3.105 मोल
अत: NaOH के 3.105 मोल 1 किलोग्राम जल में घुला हुआ है तो इस विलयन के लिए मोललता निम्न होगी –
मोललता = 3.105/1 = 3.105 मोलल