चुम्बकीय फ्लक्स की परिभाषा क्या है , चुंबकीय फ्लक्स का मात्रक , विमा Magnetic Flux in hindi

Magnetic Flux in hindi चुम्बकीय फ्लक्स की परिभाषा क्या है , मात्रक , विमा : जब किसी चुम्बकीय क्षेत्र में किसी सतह को रखा जाता है तो स्वाभाविक है की इस सतह से चुम्बकीय बल रेखाएं गुजरेंगी , हम चुम्बकीय फ्लक्स को निम्न प्रकार परिभाषित कर सकते है

” किसी चुम्बकीय क्षेत्र में रखे किसी तल से गुजरने वाली चुंबकीय क्षेत्र रेखाओ की संख्या को इस तल से संबध चुंबकीय फ्लक्स कहलाता है ” इसे ϴ से व्यक्त करते है।
 माना एक चुम्बकीय क्षेत्र है जिसका परिमाण B है , इसमें एक तल जिसका क्षेत्रफल A है , चुम्बकीय बल रेखाओ (चुंबकीय रेखाओं) के लंबवत रखा हुआ है अतः इस पृष्ठ से सम्बद्ध चुम्बकीय फ्लक्स का मान निम्न सूत्र से दिया जाता है
चुंबकीय फ्लक्स = चुंबकीय क्षेत्र x तल का क्षेत्रफल
ϴ = BA
माना रखा हुआ तल चुम्बकीय बल रेखाओं के लंबवत नहीं है इस स्थिति में माना तल के अभिलम्ब तथा चुंबकीय रेखाओं के मध्य कोण θ है तो चुंबकीय फ्लक्स
ϴ = BA cosθ
जब θ = का मान शून्य होता है अर्थात तल के अभिलम्ब व चुम्बकीय क्षेत्र रेखाओ के मध्य शून्य कोण हो तो चुंबकीय फ्लक्स का मान अधिकतम होगा 
ϴ = BA cos
 cos0 = 1 
ϴ = BA
जब θ का मान 90 डिग्री हो अर्थात तल के अभिलम्ब व चुम्बकीय क्षेत्र रेखाओ के मध्य 90 डिग्री का कोण हो तो चुम्बकीय फ्लक्स का मान शून्य होगा जो की न्यूनतम है  
 ϴ = 0
चुंबकीय फ्लक्स एक अदिश राशि है। 
इसकी विमा[ML2T-2A1] होती है।
इसका SI मात्रक वेबर (Wb) होता है। 

7 thoughts on “चुम्बकीय फ्लक्स की परिभाषा क्या है , चुंबकीय फ्लक्स का मात्रक , विमा Magnetic Flux in hindi”

  1. Please sir physics notes ka sabhi chapter nahi khul raha hai
    Please send sir
    Bseb ncert notes chahiye
    Please send kijiye please

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *