फेफडो के आयतन एवं क्षमता , फेफडो की क्षमताएँ , श्वसन का नियमन , श्वसन में विकार

(Lung Volumes and Capacities in hindi ) फेफडो के आयतन एवं क्षमता : फेफड़ो के आयतन एवं क्षमताएँ मापने के लिए स्पाईरोमीटर उपकरण का उपयोग किया जाता है |

फेफड़ो के निम्न आयतन होते है –

  1. ज्वारीय आयतन (TV) : निश्वसन में ली जाने वाली वायु या उच्छ श्वसन में निकाली जाने वायु के आयतन को ज्वारीय आयतन कहते है , इसका मान 500ml होता है |
  2. निश्वसन आरक्षित आयतन (IRV) : निश्वसन के बाद अधिकतम निश्वसित की जा सकने वाली वायु के आयतन को निश्वसन आरक्षित आयतन कहते है , इसका मान 3000ml होता है |
  3. उच्छश्वसन आरक्षित आयतन (ERV) : उच्छ श्वसन के बाद अधिकतम उच्चश्वसित की जा सकने वाली वायु के आयतन को उच्चश्वसन आरक्षित आयतन कहते है | इसका मान 1100ml होता है |
  4. अवशिष्ट आयतन (RV) : उच्छश्वसन के बाद शेष वायु के आयतन को अवशिष्ट आयतन कहते है , इसका मान 1200ml होता है |

फेफडो की क्षमताएँ

फेफडो के आयतनो में से दो या दो से अधिक के योग को फेफड़ो की क्षमता कहा जाता है |

  1. निश्वसन क्षमता (IC) : ज्वारीय आयतन (TV) व निश्वसन आरक्षित आयतन (IRV) के योग को निश्वसन श्वसन कहते है |

IC = TV + IRV

IC = 500 + 3000

IC = 3500ml

  1. कार्यात्मक अवशिष्ट क्षमता (ERC) : उच्छश्वसन आरक्षित आयतन व अवशिष्ट आयतन के योग को कार्यात्मक अवशिष्ट क्षमता कहते है |

ERC = ERV + RV

ERC = 1100 + 1200

ERC = 2300ml

  1. जैव क्षमता (VC) : निश्वसन आरक्षित आयतन का ज्वारीय आयतन व उच्च श्वसन आरक्षित आयतन के योग को जैव क्षमता कहते है |

VC = IRV + TV + ERV

VC = 3000 + 500 + 1100

VC = 4600ml

  1. कुल फुफ्फुसीय क्षमता (TLC) : जैव क्षमता व अवशिष्ट आयतन के योग को कुल फुफ्फुसीय क्षमता कहते है |

TLC = VC + RV

TLC = 4600 + 1200

TLC = 5800 ml

श्वसन का नियमन

श्वसन का नियंत्रण मेडुलाऑबलागेटा एवं पोन्स में स्थित तंत्रिका कोशिकाओ के समूह के द्वारा होता है , ये समूह श्वसन केन्द्र कहलाते है , मनुष्य में तीन श्वसन केन्द्र होते है |

  1. पृष्ठ श्वसन केन्द्र (dorsal respiratory centre) : यह मेडुलाऑबलागेटा के पृष्ठ भाग में स्थित होता है , यह निश्वसन को नियन्त्रित करता है |
  2. न्यूमोटोक्सिक केन्द्र (neumotexic centre) : यह पोन्स में स्थित होता है , यह निश्वसन को रोकता है तथा उच्छश्वसन को उद्दीप्त करता है |
  3. अद्यर श्वसन केंद्र (longitudanci respiratory centre) : यह मेडुलाऑबलागेटा के अद्यर भाग में स्थित होता है , यह व्यायाम व शारीरिक श्रम के समय फेफडो के सवांतन में बढ़ी हुई आवश्यकता की पूर्ति करता है |

श्वसन में विकार

  1. अस्थमा या दमा : यह रोग धूल के कण , परागकण , खाद्य पदार्थ , ठण्ड या धुम्रपान के कारण होता है | यह एक एलर्जी रोग है इस रोग के दौरान श्वसन में कठिनाई तथा खाँसी आती है , इसका दौरा पड़ने पर सिटी की आवाज आती है | इस रोग से बचने के लिए एलर्जी के कारणों से दूर रहना चाहिए तथा ब्रोंकोडाइलेटर व एन्टी-बायोटिक दवाओ का उपयोग चिकित्सक की सलाह से करना चाहिए |
  2. ब्रोंकाइटिस : यह विकार बीडी या सिगरेट का उपयोग लम्बे समय तक करने पर उत्पन्न होता है , इस रोग के दौरान ग्रसनी की आन्तरिक सतह पर सुजन आ जाती है , रोगी की खांसी , श्लेष्मा व हरे-पीले रंग का कफ निकलता है | साथ ही श्वसन में कठिनाई होती है , इस रोग से बचने के लिए धुम्रपान से दूर रहना चाहिए |
  3. वातस्फित : यह विकार धुम्रपान के कारण उत्पन्न होता है , इस विकार के दौरान श्वसन मार्ग में सुजन तथा श्वसनिकाएँ सकरी हो जाती है | रोगी को कफ आता है तथा श्वसन में कठिनाई होती है , इस रोग से बचने के लिए धूम्रपान से दूर रहना चाहिए |
  4. न्युमोनिया : यह रोग स्ट्रेप्टोकोकस नामक जीवाणु के कारण उत्पन्न होता है , यह रोग वृद्ध व बच्चो में अधिक होता है , इस रोग के दौरान कुपिकाओं में सुजन तथा साँस लेने में कठिनाई होती है | इस रोग के उपचार हेतु ब्रोंकोडाइलेटर व एन्टी-बायोटिक दवाओं का उपयोग करना चाहिए |
  5. फेफडो में कैंसर : यह रोग धूम्रपान जैसे – बीडी , सिगरेट आदि के उपयोग के कारण होता है | इस रोग के दौरान श्वसनियों की उपकला में उत्तेजना उत्पन्न होती है , जिससे कोशिकाओं में अनियन्त्रित कोशिका विभाजन प्रारम्भ हो जाता है , धीरे धीरे पूरे फेफड़े में कैंसर हो जाता है | फैफडो के कैंसर से बचने के लिए धूम्रपान से दूर रहना चाहिए |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!