द्रवीकरण या संघनन की परिभाषा क्या है , उदाहरण , चित्र वर्णन (Liquification or condensation in hindi)

(Liquification or condensation in hindi) द्रवीकरण या संघनन की परिभाषा क्या है , उदाहरण , चित्र वर्णन : जब पदार्थ वाष्प अवस्था से द्रव अवस्था में परिवर्तित होता है तो वाष्प से द्रव में अवस्था परिवर्तन को ही द्रवीकरण या संघनन कहते है।

यह वाष्पन या वाष्पीकरण की बिल्कुल उल्टी प्रक्रिया है , वाष्पन में द्रव पदार्थ वाष्प में बदलता है लेकिन द्रवीकरण में वाष्प , द्रव में बदलती है।

हमेशा याद रखे कि वायु में पानी नमी के रूप में हमेशा विद्यमान रहता है , इसे हम वाष्प की तरह देख सकते है , जब हम एक कप में कुछ बर्फ के टुकड़े डालकर रखते है तो हम देखते है कि कुछ देर बाद बर्फ पिघलने लगती है और गिलास की बाहरी सतह पर कुछ पानी की बुँदे लगी हुई प्राप्त होती है , ये पानी की बुँदे द्रवीकरण या संघनन का उदाहरण है।

जो वाष्प या पानी वायु में उपस्थित रहता है वह इस ठन्डे गिलास के संपर्क में आता है और चूँकि गिलास के आस पास का ताप बहुत कम है इसलिए वायु में उपस्थित वाष्प सा संघनन या द्रवीकरण होता है और यह वाष्प , द्रव अवस्था में बदल जाती है और यही द्रव हमें गिलास के चारो तरफ प्राप्त होता है , इसे हम द्रवीकरण या संघनन का उदाहरण कह सकते है।

ऐसा ही सर्दियों के दिनों में होता है , जब हम सुबह उठकर हमारे मोबाइल की स्क्रीन देखते है तो हमें इस पर कुछ पानी की परत का एहसास होता है , इसका कारण भी द्रवीकरण अथवा संघनन है।  चूँकि सर्दियों के दिनों में रात्री के समय में ताप बहुत कम होता है इसलिए वायु में उपस्थित नमी या वाष्प का द्रवीकरण होता है और यह हमें मोबाइल की स्क्रीन पर पानी के रूप में हल्का सा मिल जाता है।

इसी प्रकार खेतो में पेड़ो पर्स सर्दियों के समय में हमें पानी मिलता है यह भी संघनन अथवा द्रवीकरण का ही एक उदाहरण है , यहाँ भी वायु में उपस्थित नमी , वाष्प अवस्था से द्रव में बदलती है और हमें पेड़ो पर मिल जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *