द्रव क्रिस्टल किसे कहते है | what is liquid crystal in hindi meaning and definition द्रव क्रिस्टल परिभाषा

By  

द्रव क्रिस्टल परिभाषा क्या है ? द्रव क्रिस्टल किसे कहते है | what is liquid crystal in hindi meaning and definition ?

प्रश्न : द्रव क्रिस्टल किसे कहते है ? (liquid crystal in hindi)

उत्तर : कुछ कार्बनिक क्रिस्टलीय ठोस गर्म करने पर निश्चित ताप परास में द्रव के समान अवस्था प्राप्त कर लेते है लेकिन इनके अणु एक निश्चित दिशा में अभिविन्यस्त रहते है जिससे उनमें विषम दैशिक गुण बना रहता है , ऐसे पदार्थो को द्रव क्रिस्टल कहते है। ये क्रिस्टल एलसीडी (लिक्विड क्रिस्टल डिस्प्ले) में प्रयुक्त किये जाते है। एलसीडी का उपयोग इलेक्ट्रॉनिक घड़ियों और सूक्ष्म गणकों में किया जाता है।
अर्थात
द्रव क्रिस्टल किसी भी पदार्थ की वह अवस्था है जिसके गुण मूल ठोस और द्रव के मध्य पाए जाते है , अर्थात कुछ गुण उसमें ठोस के हो सकते है और कुछ गुण द्रव के विद्यमान हो सकते है। उदाहरण के लिए यदि किसी विशेष कार्बनिक क्रिस्टलीय ठोस को गर्म करने पर माना यह द्रव क्रिस्टल में परिवर्तित हो गया है तो इसमें द्रव का बहने का गुण देखने को मिल सकता है अर्थात यह द्रव पदार्थ के भाँती बहने का गुण प्रदर्शित कर सकता है लेकिन इसमें अणु एक निश्चित दिशा में अभिविन्यासित रहते है अर्थात इस अवस्था में भी इसमें विषम दैशिक का गुण पाया जाता है , अत: कह सकते है कि इसमें ठोस और द्रव दोनों पदार्थो के गुण है लेकिन यह पूर्णतया किसी एक अवस्था के गुणों को प्रदर्शित नहीं कर रहा है अर्थात यह पदार्थ की एक नयी अवस्था प्राप्त हो जाती है , पदार्थ की इसी अवस्था को हम द्रव क्रिस्टल कहते है। अध्ययन करने पर हम यह पाते है कि द्रव क्रिस्टलीय अवस्था कई प्रकार की हो सकती है , इन विभिन्न द्रव क्रिस्टल अवस्थाओं को उनके प्रकाशीय गुणों के आधार पर विभाजित किया जा सकता है अर्थात प्रकाशीय गुणों के आधार पर द्रव क्रिस्टल अवस्था अलग अलग प्रकार की हो सकती है।
द्रव क्रिस्टल अवस्थाओं को थर्मोट्रोपिक, लियोट्रोपिक और मेटालोट्रोपिक आदि में विभाजित किया जा सकता है। इनमें से थर्मोट्रोपिक और लियोट्रोपिक में जो अणु पाए जाते है वे कार्बनिक अणु प्रकार के होते है। जब तापमान में परिवर्तन किया जाता है तो थर्मोट्रोपिक द्रव क्रिस्टल में अवस्था संक्रमण से द्रव क्रिस्टल अवस्था में परिवर्तित हो जाता है।