आयनन ऊर्जा किसे कहते हैं , आयनन ऊर्जा की परिभाषा दीजिए क्या है ? ionization energy in hindi

By  

ionization energy in hindi meaning and definition ?

आयनन ऊर्जा किसे कहते हैं , आयनन ऊर्जा की परिभाषा दीजिए क्या है ?

उत्तर : किसी इलेक्ट्रॉन को मूल ऊर्जा स्तर (ग्राउंड एनर्जी लेवल) से आयनित ऊर्जा स्तर (n = अनंत) (ionised energy level) तक संक्रमण करने के लिए आवश्यक ऊर्जा को परमाणु की आयनन ऊर्जा कहते है और इलेक्ट्रॉन को आयनन ऊर्जा प्राप्त करने के आवश्यक त्वरक विभव , आयनन विभव कहलाता है।

प्रश्न : आयोडीन परमाणु (परमाणु संख्या = 53 और परमाणु द्रव्यमान = 126) की त्रिज्या ज्ञात कीजिये ?

उत्तर : आयोडीन परमाणु (53) का इलेक्ट्रॉन वितरण = 2 , 8 , 18 , 18 , 7

rn = 2.5 x 10-11 मीटर

प्रश्न : हाइड्रोजन परमाणु में किसी कक्षा में इलेक्ट्रॉन की कुल ऊर्जा -15 eV है। इस कक्षा में इलेक्ट्रॉन की स्थितिज ऊर्जा कितनी होगी ?

उत्तर : इलेक्ट्रॉन की स्थितिज ऊर्जा = -30 eV

प्रश्न : जब हाइड्रोजन परमाणु की निम्नतम ऊर्जा अवस्था में कोई इलेक्ट्रॉन 12.1 eV ऊर्जा का फोटोन अवशोषित करता है तो उसके कोणीय संवेग में परिवर्तन ज्ञात कीजिये।

हल : 12.1 eV ऊर्जा का फोटोन अवशोषित करने पर इलेक्ट्रॉन की ऊर्जा = -13.6 + 12.1 = -1.5 eV

हल करने पर

n = 3

अत: इलेक्ट्रॉन निम्नतम ऊर्जा-अवस्था n = 1 से n = 3 अवस्था में पहुँचता

अत: इलेक्ट्रॉन के कोणीय संवेग में परिवर्तन

△L = 2.11 x 10-34  जूल-से

प्रश्न : हाइड्रोजन परमाणु में किसी इलेक्ट्रॉन को मूल ऊर्जा – स्तर से प्रथम उत्तेजित अवस्था में पहुँचने के लिए आवश्यक उत्तेजन ऊर्जा और उत्तेजन विभव ज्ञात कीजिये।

उत्तर : उत्तेजन ऊर्जा = 10.2 eV

संगत उत्तेजन विभव = 10.2 वोल्ट

प्रश्न : हाइड्रोजन परमाणु में n वीं कक्षा में इलेक्ट्रॉन की ऊर्जा En = -13.6/n2 eV द्वारा दी जाती है। परमाणु को आयनित करने के लिए आवश्यक आयनन ऊर्जा और आयनन विभव ज्ञात कीजिये।

उत्तर : आयनन ऊर्जा = 13.6 eV

आयनन विभव = 13.6 वोल्ट

कुछ महत्वपूर्ण बिंदु –

 

  • प्रत्येक पदार्थ अत्यंत सूक्ष्म कणों से मिलकर बना है , जिन्हें परमाणु कहते है।
  • प्रत्येक परमाणु पूर्ण रूप से वैद्युत उदासीन होता है।
  • टॉमसन परमाणु मॉडल के अनुसार परमाणु लगभग 10-10 मीटर कोटि का धनावेशित गोला है जिसमें ऋण आवेशित इलेक्ट्रॉन जगह जगह पर व्यवस्थित रहते है।
  • रदरफोर्ड ने सोने की पतली पन्नी पर अल्फ़ा कणों की बमबारी की और उससे निर्गत एल्फा कणों का अध्ययन किया।
  • कुछ एल्फा कण छोटे कोण से कुछ एल्फा कण 90 डिग्री अथवा उससे बड़े कोण पर विक्षेपित होते है और बहुत कम एल्फा कण अपने मार्ग पर वापस लौट आते है।
  • रदरफोर्ड का परमाणु मॉडल परमाणु के स्थायित्व और परमाणुओं के रेखीय स्पेक्ट्रम की व्याख्या करने में असमर्थ रहा।
  • बोहर के परमाणु मॉडल के अनुसार इलेक्ट्रॉन नाभिक के चारों ओर केवल उन कक्षाओं में परिक्रमण करते है जिनका कोणीय संवेग h/2π अथवा उसके सरल गुणक होता है।
  • ये कक्षाएँ स्थायी कक्षाएं कहलाती है , जिनमें परिक्रमण करते समय इलेक्ट्रॉन ऊर्जा का उत्सर्जन नहीं करते है।
  • बोहर का परमाणु मॉडल केवल एकल इलेक्ट्रॉन परमाणु या आयन जैसे H , He+ , Li++ आदि के लिए सत्य है।
  • जब इलेक्ट्रॉन ऊर्जा उत्सर्जित कर निम्न ऊर्जा स्तर से उच्च ऊर्जा स्तर में जाता है तो वहां केवल 10-8 सेकंड रुकता है और अपेक्षाकृत किसी निम्न ऊर्जा स्तर में लौटते हुए अतिरिक्त ऊर्जा को उत्सर्जित करता है।
  • हाइड्रोजन स्पेक्ट्रम में पांच श्रेणियाँ प्राप्त होती है – लाइमन श्रेणी , बामर श्रेणी , पाश्चन श्रेणी , ब्रैकेट श्रेणी , फूंड श्रेणी।
  • लाइमन श्रेणी , पैराबैंगनी क्षेत्र में प्राप्त होती है।
  • बामर श्रेणी , दृश्य क्षेत्र में प्राप्त होती है।
  • पाश्चन , ब्रैकेट और फुण्ड श्रेणियाँ अवरक्त क्षेत्र में प्राप्त होती है।