सब्सक्राइब करे youtube चैनल

What does “pour on ice” mean बर्फ की प्रकृति छिद्रयुक्त (porous) क्यों होती है ? why ice natures is of porous in hindi pour ?

प्रश्न 1 : बर्फ की प्रकृति छिद्रयुक्त (porous) क्यों होती है ?

उत्तर : क्योंकि H2O अणुओं में अंतर आण्विक हाइड्रोजन आबंधन के कारण बर्फ की संरचना पिंजड़े की तरह होती है।

प्रश्न 2 : क्रिस्टलीय और अक्रिस्टलीय ठोसों में से किसकी प्रकृति समदैशिक होती है ?

उत्तर : अक्रिस्टलीय ठोसों की प्रकृति समदैशिक होती है। इसका आशय यह है कि वैद्युत चालकता , उष्मीय चालकता , यांत्रिक प्रबलता आदि जैसे इनके भौतिक गुण दिक् स्थान में सभी दिशाओं में समान होते है।

प्रश्न 3 : आणविक ठोसों में आबंधन बलों (binding force) की प्रकृति क्या होती है ? दो उदाहरण दीजिये।

उत्तर : आण्विक ठोसों में आबंधन बल वांडरवाल का आकर्षण बल होता है जो कि सामान्यतया दुर्बल बल होता है। नैफ्थेलीन , आयोडीन आदि आण्विक ठोसों के उदाहरण है।

प्रश्न 4 : एकक कोष्ठिका में बिंदु सभी कोनों और सभी फलकों पर स्थित है। आप इसे क्या नाम देंगे ?

उत्तर : यह कोष्ठिका फलक केन्द्रित घनीय (एफसीसी) कोष्ठिका कहलाती है।

प्रश्न 5 : आद्य एकक कोष्ठिका क्या है ?

उत्तर : आद्य एकक कोष्ठिका वह कोष्ठिका है जिसके सभी कोनों पर बिंदु स्थित होते है।

प्रश्न 6 : निबिड़ संकुलित N गोलों में कितने चतुष्फलकीय और अष्टफलकीय छिद्र होते है ?

उत्तर : चतुष्फलकीय छिद्रों की संख्या = 2N

अष्टफलकीय छिद्रों की संख्या = N

प्रश्न 7 : Agl का क्रिस्टलीकरण जिंक सल्फाइड (ZnS) के प्रकार की घनीय निविड़ संकुलित संरचना में होता है। चतुष्फलकीय स्थलों का कितना प्रतिशत Ag+ आयनों द्वारा अध्यासित होगा ?

उत्तर : Ag+ आयनों द्वारा अध्यासित चतुष्फलकीय स्थल 50 प्रतिशत है।

प्रश्न 8 : उच्च दाब डालने पर NaCl प्रकार की संरचना पर क्या प्रभाव पड़ता है ?

उत्तर : उच्च दाब डालने पर NaCl संरचना (6 : 6 उप सहसंयोजन) CsCl संरचना (8 : 8 उपसहसंयोजन) मे परिवर्तित हो जाती है।

प्रश्न 9 : NaCl क्रिस्टल में Cl आयन , FCC व्यवस्था में होते है। एकक कोष्ठिका में Cl आयनों की संख्या कितनी है ?

उत्तर : NaCl की एकक कोष्ठिका में प्रति एकक कोष्ठिका चार Cl आयन है।

प्रश्न 10 : फ्रेंकेल और शॉटकी दोषों में से कौनसा दोष क्रिस्टल का घनत्व घटा देता है ?

उत्तर : शॉट्की दोष क्रिस्टल का घनत्व घटा देता है , क्योंकि जालक से आयन लुप्त हो जाते है। फ्रेंकेल दोष में आयन जालक में केवल अपनी स्थिति परिवर्तित करते है।

प्रश्न 11 : n प्रकार के अर्द्ध चालक विद्युत चालन कैसे करते है ?

उत्तर : n प्रकार के अर्द्ध चालकों में वैद्युत चालन उन इलेक्ट्रॉनों की उपलब्धता के कारण होता है जो आबंधन में भाग नहीं लेते है।

प्रश्न 12 : सोडियम क्लोराइड के क्रिस्टल का रंग हल्का पीला क्यों होता है ?

उत्तर : आसानी से उत्तेजित होने वाले F केन्द्र नामक इलेक्ट्रॉनों की उपस्थिति के कारण NaCl क्रिस्टल का रंग हल्का पीला होता है।

प्रश्न 13 : अति चालकों की विद्युत चालकता ताप के साथ कैसे परिवर्तित होती है ?

उत्तर : ताप में वृद्धि के साथ यह घटती है।

प्रश्न 14 : क्या AgCl क्रिस्टल में फ्रेंकेल दोष इसका घनत्व घटाता है ?

उत्तर : फ्रेन्केल दोष AgCl क्रिस्टल का घनत्व नहीं घटता है क्योंकि आयन क्रिस्टल जालक को छोड़ते नहीं है वरन किसी अन्य स्थिति पर स्थान ग्रहण कर लेते है।

प्रश्न 15 : 12-16 यौगिक का एक उदाहरण दीजिये।

उत्तर : यह वर्ग 12 और वर्ग 16 के तत्वों के संयोजन से बना यौगिक होता है। उदाहरण के लिए जिंक सल्फाइड (ZnS)

प्रश्न 16 : फलक केन्द्रित घनीय जालक का संकुलन भिन्न (packing fraction) कितना होता है ?

उत्तर : घनीय निबिड़ संकुलन में अध्यासित दिकस्थान का आयतन अथवा संकुलन भिन्न 0.74 (या 74%) होता है।

प्रश्न 17 : उस क्रिस्टलीय यौगिक का सूत्र क्या है जिसमें सभी आठों कोनों पर परमाणु A होता है तथा सभी छ: फलकों के केंद्र पर परमाणु B होता है ?

उत्तर : इसका सूत्र AB3 है।

प्रश्न 18 : सरल घनीय , अंत: केन्द्रित घनीय और फलक केन्द्रित घनीय जालकों को अध्यासित दिक् स्थान के भिन्न के आरोही (बढ़ते हुए) क्रम में व्यवस्थित कीजिये।

उत्तर : सरल घनीय < अन्त: केन्द्रित घनीय < फलक केन्द्रित घनीय

प्रश्न 19 : एक ठोस AB में सेंधा नमक की संरचना है। एकक कोष्ठिका में A तथा B के कितने परमाणु उपस्थित है ?

उत्तर : प्रति एकक कोष्ठिका A तथा B दोनों के चार चार परमाणु है।

प्रश्न 20 : अष्टफलकीय रिक्ति की उप सहसंयोजन संख्या (C.N.) कितनी होती है ?

उत्तर : अष्टफलकीय रिक्ति की उप सहसंयोजन संख्या छ: होती है।

प्रश्न 21 : प्रकाश वोल्टीय यौगिक क्या है ?

उत्तर : वे यौगिक जो प्रकाश के सामने रखने पर (विद्युत) धारा उत्पन्न करते है , प्रकाश वोल्टीय यौगिक कहलाते है।

प्रश्न 22 : दाब विद्युत क्रिस्टल क्या है ?

उत्तर : ये ऐसे क्रिस्टल होते है जो यांत्रिक प्रतिबल डालने पर विद्युत धारा उत्पन्न करते है।

प्रश्न 23 : CdCl2  और NaCl में से कौनसा AgCl क्रिस्टल में मिलाने पर शॉटकी दोष उत्पन्न करेगा ?

उत्तर : CdCl शॉटकी दोष उत्पन्न करेगा।

प्रश्न 24 : घनीय क्रिस्टलों में सामान्यतया पाए जाने वाले त्रिविमीय संकुलन के प्रकार बताइये।

उत्तर : सामान्यतया तीन प्रकार के संकुलन होते है। ये है – सरल , फलक केन्द्रित और अन्त: केन्द्रित।

प्रश्न 25 : अंत: केन्द्रित निबिड़ संकुलित संरचना में प्रत्येक गोले की उप सहसंयोजन संख्या (C.N.) कितनी होती है ?

उत्तर : प्रत्येक गोले की उप सहसंयोजन संख्या 8 होती है।

प्रश्न 26 : ताप विद्युत कैसे उत्पन्न होता है ?

उत्तर : यह सूक्ष्म विद्युत धारा होती है जो ध्रुवीय क्रिस्टलों को गर्म करके उत्पन्न की जाती है।

प्रश्न 27 : क्रिस्टलों में कितने प्रकार के स्टाइकियोमिट्री दोष पाए जाते है ?

उत्तर : ये दो प्रकार के होते है – फ्रेंकेल और शॉटकी दोष।

प्रश्न 28 : सिलिकन को आर्सेनिक से डोपित करने पर किस प्रकार का अर्द्ध चालक बनता है ?

उत्तर : यह n प्रकार का अर्द्ध चालक होता है क्योंकि प्रत्येक सिलिकन परमाणु का एक इलेक्ट्रॉन ऐसा होता है , जो आबंधन में भाग नहीं लेता है।

प्रश्न 29 : क्षारकीय धातु हैलाइडो को , जो कि अन्यथा रंगहीन होती है , कभी कभी रंगीन कैसे बनाता है ?

उत्तर : इलेक्ट्रॉनों द्वारा भरी जाने वाली ऋण आयन रिक्तियों के कारण उत्पन्न धातु आधिक्य दोष के कारण ऐसा होता है।

प्रश्न 30 : क्रिस्टलीय ठोसों की वैद्युत चालकता पर फ्रेंकेल दोष का क्या प्रभाव पड़ता है ?

उत्तर : उत्पन्न हुई रिक्तियों के कारण यह (चालकता) बढ़ जाती है।

प्रश्न 31 : क्रिस्टलों में उत्पन्न होने वाली दो प्रकार की नॉन स्टाइकियोमिट्री दोषों का नाम बताइये।

उत्तर : ये धातु आधिक्य और धातु न्यूनता दोष है।

प्रश्न 32 : क्रिस्टलों में विस्थापन क्या है ?

उत्तर : ये वे दोष होते है जो क्रिस्टल जालक में विभिन्न तलों के अशुद्ध अभिविन्यास से उत्पन्न होते है।

प्रश्न 33 : अन्तराकाशी ठोस कैसे बनते है ?

उत्तर : जब क्रिस्टल जालक के रिक्त स्थान , जिसे अंतराकाश कहते है। हाइड्रोजन , बोरान , कार्बन , नाइट्रोजन आदि जैसे लघु परमाणुओं से पूरित होते है तब अंतराकाशी ठोस बनते है।

प्रश्न 34 : किस तापक्रम पर अधिकांश धातुएँ अतिचालक बन जाती है ?

उत्तर : 0.1 K से 10K ताप के मध्य।

प्रश्न 35 : किसी तत्व की hcp क्रिस्टल संरचना के इकाई सेल में परमाणुओं की अधिकतम संख्या कितनी होती है ?

उत्तर : बारह होती है।

प्रश्न 36 : CaF2 क्रिस्टल जालक में Ca2+ और F आयनों की उप सहसंयोजन संख्या कितनी होती है ?

उत्तर :   Ca2+ आयन की उप सहसंयोजन संख्या = 8 और  F आयन की उप सहसंयोजन संख्या = 4 होती है।

प्रश्न 37 : फलक केन्द्रित एकक कोष्ठिका में कितने कण होते है ?

उत्तर : प्रत्येक एकक कोष्ठिका में चार कण होते है।

प्रश्न 38 : क्षारकीय धातुओं को रंगीन बनाने के लिए उत्तरदायी नॉन स्टाइकियोमीट्री बिंदु दोष का नाम बताइये।

उत्तर : इसे धातु अधिक्य दोष कहते है। क्षारकीय धातुओं को रंगीन बनाने के लिए उत्तरदायी इलेक्ट्रॉन f केंद्र कहलाते है।

प्रश्न 39 : उस घनीय एकक कोष्ठिका में कितने परमाणु होते है जिसके प्रत्येक कोने पर एक परमाणु तथा प्रत्येक अन्त: विकर्ण पर दो परमाणु होते है ?

उत्तर : घनीय एकक कोष्ठिका के चार अंत: विकर्ण पर स्थित परमाणुओं का कुल योगदान 8 (4 x 2 = 8) और कोनों पर स्थित परमाणुओं का योगदान 1 होता है। अत: उपस्थित परमाणुओं की कुल संख्या 9 होती है।

प्रश्न 40 : शॉट्की दोष के कारण किसी क्रिस्टल का घनत्व कैसे परिवर्तित होता है ?

उत्तर : क्रिस्टल का घनत्व घटता है क्योंकि जालक से कुछ आयन लुप्त हो जाते है।

प्रश्न 41 : NaCl के क्रिस्टल का रंग पीला दिखाई दे रहा है , इसका कारण लिखिए।

उत्तर : NaCl क्रिस्टल को जब Na वाष्प के साथ गर्म किया जाता है तो उसमें धातु अधिक्य दोष उत्पन्न होता है , इस कारण उसका रंग पीला दिखाई दे रहा है।

प्रश्न 42 : घनीय निबिड़ संकुलित संरचना (ccp) की संकुलन क्षमता लिखिए।

उत्तर : ccp संरचना में संकुलन क्षमता = 74%

प्रश्न 43 : n प्रकार के अर्धचालक को परिभाषित कीजिये।

उत्तर : यदि किसी अचालक पदार्थ में उसके परमाणु से अधिक संयोजकता के परमाणु का अपमिश्रण (डोपिंग) किया जाता है तो जालक में अतिरिक्त इलेक्ट्रॉन के कारण ऋण आवेशित छिद्र बन जाता है जिससे उसमें कुछ चालकता उत्पन्न हो जाती है , यह पदार्थ n प्रकार का अर्द्धचालक कहलाता है।

Si में P का अपमिश्रण इसका उदाहरण है।

प्रश्न 44 : एक परमाणु की त्रिज्या 220 pm है। यदि इसका क्रिस्टल फलक केन्द्रित घनीय (एफसीसी) एकक कोष्ठिका में होता है तो इकाई सेल की भुजा क्या होगी ?

उत्तर : फलक केन्द्रित घनीय (fcc) एकक कोष्ठिका में

r = a/2 √2

a = 2 √2 r

= 2 x 1.414  x 220 pm

= 622.16 pm

प्रश्न 45 : एक क्रिस्टल में उपस्थित अष्टफलकीय तथा चतुष्फलकीय रिक्तियों की त्रिज्या का अनुपात क्या होगा ?

उत्तर : यदि क्रिस्टल में उपस्थित परमाणु की त्रिज्या R हो तो

अष्टफलकीय रिक्ति की त्रिज्या r1 = 0.414 R

चतुष्फलकीय रिक्ति की त्रिज्या r2 = 0.225R

r1/r2 = 0.414R/0.225R = 1.84

प्रश्न 46 : सौर सेल क्या है ?

उत्तर : प्रकाश ऊर्जा को विद्युत उर्जा में बदलने के लिए फोटो सैल (सौर सेल) का उपयोग किया जाता है। अक्रिस्टलीय सिलिकन एक सौर सेल की तरह कार्य करता है।

प्रश्न 47 : फास्फोरस अपमिश्रित तथा गैलियम अपमिश्रित सिलिकन अर्द्धचालकों में क्या अंतर है ?

उत्तर : फास्फोरस अपमिश्रित सिलिकन n प्रकार का अर्द्धचालक है जबकि गैलियम अपमिश्रित सिलिकन p प्रकार का अर्द्धचालक है।

प्रश्न 48 : एक निबिड़ संकुलित संरचना में N गोले है। इस संरचना में कितनी चतुष्फलकीय तथा अष्टफलकीय रिक्तियाँ होगी ?

उत्तर : चतुष्फलकीय रिक्तियाँ = 2N

अष्टफलकीय रिक्तियाँ = N

प्रश्न 49 : पुरानी इमारतों की खिडकियों के काँच दुधिया दिखाई देते है क्यों ?

उत्तर : पुरानी इमारतों में खिडकियों के कांच बरसों तक दिन में धुप के कारण गर्म होते है तथा रात्री में ठन्डे। इस प्रकार गर्म ठण्डे होने का कारण काँच में कुछ क्रिस्टलन हो जाता है तथा वे दुधिया दिखाई देने लगते है।

प्रश्न 50 : एक यौगिक घनीय जालक के रूप में XYZ परमाणुओं से बना है। X परमाणु एक कोने को छोड़कर सभी कोनों पर उपस्थित है जबकि Y परमाणु इस एक कोने पर स्थित है। Z परमाणु सभी फलक केन्द्रों पर उपस्थित है। इस यौगिक का सूत्र क्या होगा ?

उत्तर : X परमाणुओं की संख्या = 7 x 1/8 = 7/8

Y परमाणुओं की संख्या = 1 x 1/8  = 1/8

Z परमाणुओं की संख्या = 6 x 1/2 = 3

अत: यौगिक का सूत्र = X7/8Y1/8Z3 = X7YZ24