मनुष्य में कंकाल तंत्र , कार्य , प्रकार , चित्र , संरचना , गमन एवं संचालन , अस्थि के प्रकार human skeletal system

गमन एवं संचालन

गमन : ऐसी गति जिसमे प्राणी का सम्पूर्ण शरीर एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाता है अर्थात स्थान परिवर्तन होता है , गमन कहा जाता है |

गति के प्रकार –

  1. अमीबीय गति (Amoebaid movement) : यह गति कूटपादों द्वारा होती है जो अस्थायी प्रवर्ध होते है , कुपादों का निर्माण कोशिका द्रव्य के प्रवाह के कारण आकृति में परिवर्तन होने से होता है | अमीबा के बाह्य द्रव में एक्टिन व मायोसीन प्रोटीन के बने सूक्ष्म तन्तु होते है , एक्टिन तंतुओ से निर्मित प्लैज्मा व जैल मायोसीन की उपस्थिति में संकुचित होता है |
  2. पक्ष्माभी गति (ciliary movement) : पक्ष्माभो से होने वाली गति को पक्ष्माभी गति कहते है , पक्ष्माभ मुख्यतः प्रोटोजोआ के सदस्यों में मुख्यतः पैरामिशियम में पाये जाते है | पक्ष्माभ संकुचनशील सूक्ष्म नलिकाओ द्वारा बनते है , ये गति के अतिरिक्त अन्य कार्य भी करते है , मैरामिशियम में ये पक्ष्माभ आगे पीछे दोलन गति करते है जिससे प्राणी आगे की ओर गति करता है | युग्लिना ट्रिपेनोसोमा आदि में कक्षाभ द्वारा तरंगित गति होती है |
  3. पेशीय गति (muscular movement) : पेशीय के संकुचन से होने वाली गति को पेशीय गति कहते है , इस प्रकार की गति स्पंजो के अलावा सभी बहुकोशिकीय जीवों में होती है , मनुष्य में गमन पेशियों को संकुचनशीलता के कारण होता है | चलन में प्रयुक्त होने वाली पेशियाँ अस्थियो से संलग्न होती है , पेशियाँ संकुचन के कारण उपांगो की अस्थियो में गति उत्पन्न होती है , अस्थियों व पेशियों की समन्वित गति के फलस्वरूप गमन संभव होता है |

मनुष्य में कंकाल तंत्र (human skeletal system)

मानव शरीर का ढांचा हड्डियों का बना होता है , ढांचा बनाने वाले अंगो को सामूहिक रूप से कंकाल तन्त्र कहते है | कंकाल तंत्र दो प्रकार का होता है –

  • बाह्य कंकाल : बाह्य कंकाल की उत्पत्ति भ्रूणीय एक्टोडर्म या मिसोडर्म से होती है जैसे त्वचा , बाल , शल्क , फर्न आदि बाह्य कंकाल बनाते है |
  • अन्त: कंकाल : शरीर के अन्दर पाये जाने वाले इस कंकाल की उत्पत्ति भ्रूणीय मीसोडर्म से होती है , यह शरीर का मुख्य ढांचा बनाता है , यह मांशपेशियों से ढका होता है , यह दो भागों से बना होता है –
  1. अस्थि (bone) : यह ठोस कठोर मजबूत संयोजी उत्तक है , जो तन्तुओ व मेट्रिक्स से बना होता है , मैट्रिक्स में Ca व Mg के लवण पाये जाते है , इनके कारण अस्थियाँ कठोर होती है , प्रत्येक अस्थि के चारो ओर तंतुमय संयोजी उत्तक से निर्मित दोहरा आवरण पाया जाता है , इस आवरण के द्वारा लीगामेन्टस , टेंडन्स व दूसरी पेशियाँ जुडी रहती है |

मोटी व लम्बी अस्थियों में एक खोखली गुहा पायी जाती है जिसे मज्जागुहा कहते है , मज्जागुहा में एक तरल पदार्थ भरा होता है जिसे अस्थिमज्जा कहते है | अस्थिमज्जा मध्य पीली तथा शिरो पर लाल होती है | लाल अस्थि मज्जा RBC का निर्माण करती है जबकि पीली अस्थिमज्जा WBC का निर्माण करती है |

अस्थि के प्रकार

  • कलाजात अस्थि : यह त्वचा के नीचे संयोजी उत्तक की झिल्लियो से निर्मित होती है , इसे मेम्ब्रेन अस्थि भी कहते है , खोपड़ी की सभी चपटी अस्थियाँ कलाजात अस्थियां होती है |
  • उपास्थि जात अस्थि : कशेरुकी दण्ड , हाथ व पैरो की अस्थियाँ उपास्थिजात अस्थियाँ होती है |
  1. उपास्थि (cortilage) : यह अर्द्ध ठोस , पारदर्शक एवं ग्लाइको प्रोटीन से बने मैट्रिक्स का बना होता है , इसके मैट्रिक्स में इलास्टिन तन्तु व कोलेजन तन्तु भी पाये जाते है | उपास्थि बाह्य कर्ण , नाक की नोक व संधियों के मध्य स्थित होती है , मनुष्य के कंकाल में कुल 206 अस्थियाँ होती है | कंकाल तंत्र दो भागों का बना होता है |

A . अक्षीय कंकाल (axial skeleton) : शरीर के मुख्य अक्ष बनाने वाले कंकाल को अक्षीय कंकाल कहते है , इसमें मनुष्य की खोपड़ी , कशेरुकी खण्ड व वक्ष की अस्थियां आती है , अक्षीय कंकाल में कुल 80 अस्थियाँ होती है | ये 29 अस्थियाँ होती है जो सवीनो द्वारा परस्पर जुडी रहती है –

  • कपालीय अस्थियां : ये कुल 8 अस्थियां होती है , जो परस्पर दृढ़ता से जुड़कर अस्थिल कोष्ठ बनाती है , जिसमे मस्तिष्क सुरक्षित रहता है |
  • आननी अस्थियाँ : इनकी संख्या 14 होती है , ये नासिका दृढतालु उपरी व निचली जबड़े व खोपड़ी का अग्र भाग बनाती है |
  • कंठीका अस्थि : यह मुखगुहा के फर्श पर पायी जाने वाली एकल अस्थि है |
  • मध्य कर्ण की अस्थियाँ : ये 6 अस्थियां होती है , प्रत्येक कर्ण में तीन अस्थियाँ पायी जाती है –

मैलियस

इन्कस

स्टेपिज

  • कशेरुकी दण्ड (vertebral column) : यह अक्षीय कंकाल का दूसरा प्रमुख भाग है , कशेरुकी दण्ड में 33 कशेरुकीयें पायी जाती है , ऊपर की ओर खोपड़ी से व नीचे की ओर श्रेणी मेखला से जुडी होती है | ऊपर की प्रथम कशेरुकी की एक्सिस तथा दूसरी कशेरुकी का एटलस कहते है , इन दोनों में त्रिविमीय गति संभव है , सबसे अन्तिम कशेरुकी पुच्छ कशेरुकी कहलाती है |

B . अनुबंधी कंकाल (appendicular skeleton) : मनुष्य की अंश मेखला , श्रेणी मेखला , अग्र व पच्छ पाद की अस्थियाँ मिलकर अनुबंधी कंकाल का निर्माण करती है , मनुष्य के अनुबन्धी कंकाल में 126 अस्थियां होती है |

 

Leave a Reply

error: Content is protected !!