हिन्दी का पहला उपन्यास किसे माना जाता है | हिंदी का प्रथम उपन्यास कौन सा है hindi ka pratham upanyas kaun sa hai

By  

hindi ka pratham upanyas kaun sa hai हिन्दी का पहला उपन्यास किसे माना जाता है | हिंदी का प्रथम उपन्यास कौन सा है ?

प्रभाकर
2. आधुनिक काल की विभिन गद्य विधाएँ
(प) उपन्यास
उपन्यासकार उपन्यास
लाला श्रीनिवास दास परीक्षा गुरु (1882 ई.) हिन्दी का पहला
उपन्यास (आचार्य रामचन्द्र शुक्ल के
अनुसार)
श्रद्धाराम फिल्लौरी भाग्यवती (1877 ई.)
देवकीनन्दन खत्री चन्द्रकान्ता (1891), चन्द्रकान्ता संतति,
भूतनाथ, काजर की कोठरी
राधाकृष्णदास निःसहाय हिन्दू (1890)
हरिऔध ठेठ हिन्दी का ठाठ, अधखिला फूल
प्रेमचन्द सेवा सदन (1918 ई), प्रेमाश्रम (1922 ई), रंगभूमि (1925), कायाकल्प (1926 ई.), निर्मला (1927), गबन (1931), कर्मभूमि (1933), गोदान (1935) मंगलसूत्र (अपूर्ण)
कौशिक माँ, भिखारिणी
जयशंकर प्रसाद कंकाल, तितली, इरावती (अपूर्ण)
चतुरसेन शास्त्री वैशाली की नगरवधू, वयं रक्षामः, सोमनाथ, आलमगीर, सोना और खून ।
वृंदावनलाल वर्मा गढ़ कुण्डार, विराटा की पद्मिनी, झाँसी की रानी, माधव जी सिन्धिया।
निराला अप्सरा, अलका, निरुपमा, प्रभावती।
जैनेन्द्र परख, सुनीता, त्यागपत्र, कल्याणी सुखदा, विवर्त, व्यतीत।
इलाचन्द्र जोशी संन्यासी, परदे की रानी, प्रेत और छाया, जहाज का पंक्षी, जिप्सी, ऋतु चक्र ।
अज्ञेय शेखर एक जीवनी (दो भाग), अपने अपने अजनबी, नदी के द्वीप।
यशपाल दादा कामरेड, पार्टी कामरेड, देशद्रोही, मनुष्य के रूप, अमिता, दिव्या, झूठा-सच, तेरी मेरी उसकी बात।
अमृतलाल नागर बूंद और समुद्र, सुहाग के नूपुर, खंजन नयन, मानस का हंस, अमृत और विष ।
हजारीप्रसाद द्विवेदी बाणभट्ट की आत्मकथा, चारु चन्द्र लेख, पुनर्नवा, अथ रैक्व आख्यान ।
फणीश्वरनाथ ‘रेणु‘ मैला आंचल (1954), परती परिकथा, जुलूस, दीर्घतपा।
नागार्जुन रतिनाथ की चाची, वरुण के बेटे, दुखमोचन, बाबा केदारनाथ, बलचनमा ।
शिवप्रसाद गुप्त देहाती दुनिया।
शिवप्रसाद सिंह अलग-अलग वैतरणी, गली आगे मुड़ती है, नीला चांद, वैश्वानर, कुहरे में युद्ध ।
श्री लाल शुक्ल राग दरबारी, आदमी का जहर।
निर्मल वर्मा लाल टीन की छत, रात का रिपोर्टर, वे दिन, एक चिथड़ा सुख ।
उषा प्रियवंदा पचपन खंभे लाल दीवारें।
मन्नू भण्डारी आपका बंटी, महाभोज, एक इंच मुस्कान (राजेन्द्र यादव के साथ)।
सुरेन्द्र वर्मा मुझे चाँद चाहिए।
मनोहर श्याम जोशी कुरु कुरु स्वाहा, क्याप, लखनऊ मेरा लखनऊ।
वदी उज्जमा एक चूहे की मौत।
धर्मवीर भारती गुनाहों का देवता।
शैलेश मटियानी बोरीबली से बोरीबन्दर।
अमृत राय बीज, नागफनी का देश, हाथी के दाँत, सुख-दुःख।
सर्वेश्वर दयाल सक्सेना सोया हुआ जल, पागल कुत्तों का मसीहा, सूने चैखटे।
नरेन्द्र कोहली दीक्षा, संघर्ष, युद्ध, अवसर, आतंक, महासागर (8 भाग)।
नरेश मेहता डूबते मस्तूल, प्रथम फाल्गुन।
गिरिराज किशोर पहला गिरमिटिया।
मृदुला गर्ग चितकोबरा, कठगुलाब, उसके हिस्से की धूप।
विष्णु प्रभाकर अर्द्धनारीश्वर।
महेन्द्र भल्ला एक पति के नोट्स।
ममता कालिया दुक्खम सुक्खम, बेघर, नरक-दर-नरक।
तुलसीराम मृणाल पाण्डेय
मणि कर्णिका। षटरंग पुराण, रास्तों पर भटकते हुए।
कमलेश्वर डाक बँगला, काली आँधी, सुबह दोपहर शाम, एक सड़क सत्तावन गलियाँ ।
काशीनाथ सिंह काशी का असी, रेहन पर रघु ।
ज्ञान चतुर्वेदी नरक यात्रा।
भीष्म साहनी तमस, बसंती, झरोखे, कड़ियाँ ।
भगवतीचरण वर्मा चित्रलेखा, टेढ़े-मेढ़े रास्ते, भूले-बिखरेद्य चित्र, सामर्थ्य और सीमा ।
(पप) आत्मकथाएँ
आत्मकथा लेखक
अर्द्धकथानक बनारसीदास जैन
मेरी जीवन यात्रा राहुल सांकृत्यायन
सिंहावलोकन यशपाल
मेरी अन्तर्कहानी चतुरसेन शास्त्री
मेरी असफलताएँ बाबू गुलाबराय
क्या भूलूँ क्या याद करूँ हरिवंश राय बच्चन
नीड़ का निर्माण फिर हरिवंश राय बच्चन
दस द्वार से सोपान तक हरिवंश राय बच्चन
प्रवास की डायरी हरिवंश राय बच्चन
चाँद सूरज के वीरन देवेन्द्र सत्यार्थी
अपनी खबर पाण्डेय बेचन शर्मा ‘उग‘
साठ वर्ष-एक रेखांकन सुमित्रानन्दन पन्त
गालिब छुटी शराब रवीन्द्र कालिया
जो मैंने जिया कमलेश्वर
गुड़िया भीतर गुड़िया मैत्रेयी पुष्पा
(पपप) जीवनी
जीवनी लेखक
भक्तमाल नाभादास
आवारा मसीहा (शरत चन्द्र की जीवनी) विष्णु प्रभाकर
कलम का सिपाही (प्रेमचन्द की जीवनी) अमृतराय
निराला की साहित्य साधना रामविलास शर्मा
(निराला की जीवनी) (3 खण्ड)
गुरू नानक मन्मथनाथ गुप्त
प्रेमचन्द घर में शिवरानी देवी
दिनकर-एक सहज पुरूष शिवसागर मिश्र
रांगेय राघव-एक अंतरंग परिचय सुलोचना रांगेय राघव
बाबूजी (नागार्जुन) शोभाकान्त
महाप्राण निाराला गंगाप्रसाद पाण्डेय
चम्पारन में महात्मा गांधी राजेन्द प्रसाद
मेरे जीवन में गांधी जी घनश्यामदास बिड़ला
वट वृक्ष की छाया में कुमुद नागर
महामानव महापण्डित कमला सांकृत्यायन
(पअ) नाटक
लेखक नाटक
भारतेन्दु हरिश्चन्द्र वैदिकी हिंसा, हिंसा न भवति (1873), सत्य हरिश्चन्द्र (1875), श्री चंद्रावली (1876), भारत दुर्दशा (1880), नील देवी (1881), अंधेर नगरी (1881), सती प्रताप (1883), प्रेम जोगिनी (1875), भारत जननी (1877)।
श्रीनिवास दास प्रहलाद चरित्र, तप्तासंवरण, रणधीर-प्रेम मोहिनी।
राधाकृष्णदास महाराणा प्रताप, महारानी पद्मावती, धर्मालाप, दुःखिनी बाला ।
बालकृष्ण भट्ट दमयंती स्वयम्वर, वेणी संहार, कलिराज की सभा, शिक्षादान, रेल का विकट खेल
राधाचरण गोस्वामी तन मन धन गोसाईं जी के अर्पन, बूढ़े मुँह मुहासे, लोग देखें तमासे, अमर सिंह राठौर, सती चन्द्रावली।
जयशंकर प्रसाद राज्यश्री (1915), विशाख (1921), अजातशत्रु (1922), कामना (1924), जनमेजय का नागयज्ञ (1926 ई.), स्कंदगुप्त (1928), एक घुट (1930), चन्द्रगुप्त (1931), ध्रुवस्वामिनी (1933 ई. )।
हरिकृष्ण ‘प्रेमी‘ रक्षाबन्धन, प्रतिशोध, स्वप्नभंग, आहुति, आन का मान, अमृत पुत्री, विषपान, कीर्ति स्तम्भ, स्वर्ण विहान।
लक्ष्मी नारायण मिश्र संन्यासी, मुक्ति का रहस्य, राजयोग, सिन्दूर की होली, आधी रात, गरुड़ध्वज, वितस्ता की लहरें।,
विष्णु प्रभाकर समाधि, डॉक्टर, युगे युगे क्रान्ति, टूटते परिवेश।
जगदीशचन्द्र माथुर कोणार्क, शारदीया, पहला राजा, दशरथ नन्दन।
मोहन राकेश आषाढ़ का एक दिन, लहरों के राजहंस, आधे-अधूरे।
लक्ष्मीनारायण लाल अन्धा कुआँ, दर्पण, मादा कैक्टस, सूर्य मुख, मिस्टर अभिमन्यु, कर्म्य, अब्दुल्ला दीवाना, सगुन पंछी, सबरंग-मोहभंग।
सुरेन्द्र वर्मा सेतुबंध, द्रौपदी, नायक खलनायक विदूषक, आठवाँ सर्ग, छोटे सैयद बड़े सैयद, शकुन्तला की अंगूठी।
नरेश मेहता सुनहरे घण्टे, खण्डित यात्राएँ।
भीष्म साहनी कबिरा खड़ा बजार में।
मणि मधुकर रस गन्धर्व, बुलबुल सराय ।
गिरिराज किशोर नरमेध, प्रजा ही रहने दो।
सुमित्रानन्दन पन्त रजत शिखर, शिल्पी।
बेचन शर्मा ‘उग्र‘ चुम्बन, डिक्टेटर।