hen and golden egg story in hindi / english with moral | The hen that laid golden eggs

By   May 6, 2020

The hen that laid golden eggs story with moral in english and hindi , hen and golden egg (हें एंड गोल्डन एग स्टोरी इन हिंदी) , सोने के अंडे देने वाली मुर्गी की कहानी , मोरल या सिख या नैतिक के साथ |
Once upon a time , there was a farmer . He had a wonderful hen. the hen laid a golden egg daily. the farmer became rich but still he was not happy because he was very greedy man . he wanted to get all golden eggs at a time so he thought a plan to get all the eggs at a time . He brought a sharp knife.
He caught the hen and cut it open but there was no golden egg inside it. He was very sad because the hen died and he lost the golden eggs which he was getting on daily basis. He repented for his mistake and greedy.
Moral of the story : Greed is a curse

सोने के अंडे देने वाली मुर्गी की कहानी

एक बार एक गाँव में एक लालची किसान रहता था | उस किसान के पास एक मुर्गी थी , वह मुर्गी अद्भुत थी | वह मुर्गी रोजाना एक सोने का अंडा देती थी | धीरे धीरे वह किसान अमीर बन गया | लेकिन चूँकि वह किसान बहुत अधिक लालची था इसलिए वह उस रोजाना के एक सोने के अंडे से खुश नहीं था | वह चाहता था कि वह मुर्गी उसको सभी सोने के अंडे एक साथ दे दे जिससे वह किसान बहुत अधिक अमीर आदमी बन जाए और जिन्दगी भर उसे कोई कार्य न करना पड़े |

एक दिन उसने एक प्लान सोचा जिसके द्वारा वह उन सभी सोने के अंडो को एक साथ प्राप्त कर सके | उसने बाजार से एक धारदार चाक़ू ख़रीदा और घर पर जाकर मुर्गी को पकड़ा और उसे काट दिया ताकि उसके पेट में जितने भी सोने के अंडे हो वो बाहर निकाल सके |

लेकिन उसने देखा कि उस मुर्गी में एक भी अंडा भी नहीं था और वह मुर्गी भी मर चुकी थी | वह किसान अपनी इस करनी पर बहुत पछताया क्योंकि अब उसे जो रोज सोने का अंडा मिल रहा था वह भी मिलना बंद हो गया था | अपने इस लालच के कारण वह अपनी सोने के अंडे देने वाली मुर्गी को खो चूका था | लेकिन अब उसके पास पछताने के अतिरिक्त कोई अन्य रास्ता नहीं था |

कहानी से सीख या नैतिक : लालच बुरी चीज है |

अगर वह लालच नहीं करता और मुर्गी जो रोज का एक सोने का अंडा दे रही थी उससे संतुष्ट रहता तो वह रोज एक सोने का अंडा हमेशा प्राप्त करता रहता लेकिन उसने अपने लालच के कारण सोने के अंडे देने वाली मुर्गी को खो दिया |

इसलिए कहा जाता है कि लालच बुरी चीज है , लालच नहीं करना चाहिए अन्यथा इसमें सदैव स्वयं का ही नुक्सान होता है |

अगर वह धीरे धीरे यानी रोज एक सोने का अंडा ही प्राप्त करता रहता तो हो सकता है भविष्य में उसे वह मुर्गी अधिक अंडे देने लगती या वह और अधिक अमीर आदमी बन जाता |