गाल बजाना मुहावरे का अर्थ | गाल बजाना मुहावरे का वाक्य क्या है | gaal bajana ka muhavara in hindi

By  

gaal bajana ka muhavara in hindi गाल बजाना मुहावरे का अर्थ | गाल बजाना मुहावरे का वाक्य क्या है ?

71. गाल फुलाना = रूठ जाना।
प्रयोग-बहू तुम जरा-जरा सी बात पर गाल फुला लेती हो, यह अच्छी बात नहीं।
72. गाल बजाना = डींगें हाँकना ।
प्रयोग-अपनी बहादुरी का बखान करके, क्यों गाल बजा रहो हो, तुम्हारी असलियत हमें पता है।
73. गूलर का फूल होना = दुर्लभ होना।
प्रयोग-आप तो लगता है गूलर के फूल हैं, आज सालों बाद दिखे हैं।
74. गड़े मुर्दे उखाड़ना = बीती बातों का पुनः स्मरण कराना।
प्रयोग-अन्तर्राष्ट्रीय मंचों पर कश्मीर का मामला उठाकर पाकिस्तान जब तब गड़े मुर्दे उखाड़ता रहता है और यह भूल जाता है कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग बन चुका है।
75. गुड़ गोबर करना = काम बिगाड़ना ।
प्रयोग-शादी के लिए कितना बढ़िया पण्डाल बनवाया था, पर अचानक आई बारिश ने सारा गुड़ गोबर कर दिया।
76. घाट-घाट का पानी पीना = अत्यन्त अनुभवी होना।
प्रयोग-राजनीति में मोदी जी को पकड़ना सम्भव नहीं है, क्योंकि वे घाट-घाट का पानी पिये हुए हैं।
77. घड़ों पानी पड़ना = अत्यधिक लज्जित होना।
प्रयोग-बरात में जब मोहन को दोस्तों के साथ शराब पीते हुए पिताजी ने देखा, तब उन पर घड़ों पानी पड़ गया।
78. घाव हरा होना = भूला दुःख याद आना।
प्रयोग- करवाचैथ पर सभी स्त्रियों को श्रृंगार करते देखकर राधा का घाव हरा हो गया, क्योंकि पिछले माह ही तो उसके पति की दुर्घटना में मौत हुई थी।
79. घी के दिये जलाना = प्रसन्नता व्यक्त करना।
प्रयोग-राम के अयोध्या वापस आने पर जनता ने घी के दिये जलाये ।
80. घोड़े बेचकर सोना = निश्चिन्त हो जाना।
प्रयोग- बेटी का विवाह हो जाने के बाद सोहन तो घोड़े बेचकर सो रहा है।
81. घाव पर नमक छिड़कना = दुखी व्यक्ति को और दुःख पहुँचाना।
प्रयोग-एक तो वह जेब कटवा कर वैसे ही दुखी है ऊपर से आप उसे मूर्ख बताकर घाव पर नमक छिड़कने का काम कर रहे हैं।
82. घोड़े, पर चढ़े आना = बहुत जल्दी मचाना।
प्रयोग-ग्राहक ने जब दुकानदार से सौदा जल्दी देने को कहा तो दुकानदार बोला-भाई जी आप तो घोड़े पर चढ़े आए हैं, पहले मुझे उन ग्राहकों को तो निपटा लेने दो जो आपसे पहले आए हैं।
83. घात लगाना = अवसर की तलाश में रहना।
प्रयोग-दुष्ट लोग सदैव घात लगाए रहते हैं अतः सावधान, सचेत रहकर ही आप बच सकते हैं।
84. घर घाट एक करना = कठिन परिश्रम करना।
प्रयोग-नौकरी पाने के लिए उसे घर घाट एक करना पड़ा फिर यह नौकरी मिल पाई।
85. चाँदी का जूता मारना = रिश्वत देना।
प्रयोग-सरकारी दफ्तरों में चाँदी का जूता मारकर लोग अपना काम करा लेते हैं।
86. चाँद का टुकड़ा होना = अत्यन्त सुन्दर होना।
प्रयोग-अभिनेत्री हेमामालिनी अपने जमाने में इतनी सुन्दर थीं कि लोग उन्हें चाँद का टुकड़ा कहते थे।
87. चिराग तले अँधेरा होना = विद्वान् के घर मूर्ख होना।
प्रयोग-अध्यापक पुत्र होने पर भी वह निरक्षर ही रहा। यह देखकर लोगों ने टिप्पणी की कि भैया चिराग तले अँधेरा होता ही है।
88. चार चाँद लगना = शोभा बढ़ जाना।
प्रयोग-आपके आने से हमारे समारोह में चार चाँद लग गये हैं।
89. चोली-दामन का साथ होना = गहरा सम्बन्ध होना।
प्रयोग-शराब और जुए का चोली-दामन का साथ है, क्योंकि शराबी अक्सर जुआरी होते हैं और जुआरी अक्सर शराबी होते हैं।
90. चारों खाने चित्त होना = परास्त होना।
प्रयोग-क्रिकेट में ऑस्ट्रेलिया की टीम के आगे दुनिया की सभी टीमें चारों खाने चित्त हो चुकी हैं।
91. चल बसना = मर जाना।
प्रयोग-मैं तो उनसे ज्योतिष विद्या सीखना चाहता था, पर पता लगा कि वे पिछले महीने ही चल बसे ।
92. चाँदी काटना = अधिक लाभ कमाना।
प्रयोग-आप जैसे व्यापारी ही तो युद्ध होने पर चाँदी काटने में लग जाते हैं, देशहित की चिन्ता नहीं करते।
93. चैन की वंशी बजाना = आनंदपूर्वक जीवन-यापन करना।
प्रयोग-अब तो मेरे पुत्र की सरकारी नौकरी लग गई है, इसलिए सारी उम्र चैन की वंशी बजाऊँगा।
94. छक्के छुड़ाना = हरा देना।
प्रयोग-भारतीय टीम ने विश्व कप 2011 में पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के छक्के छुड़ा दिये।
95. छठी का दूध याद आना = अत्यन्त कष्टप्रद (कठिन) होना।
प्रयोग- गणित का पेपर देखकर मुझे तो छठी का दूध याद आ गया।
96. छाती पर साँप लोटना = अत्यधिक ईर्ष्या होना।
प्रयोग-पड़ोसी की समृद्धि देखकर आपकी छाती पर साँप क्यों लोट रहा है?
97. जहर की पुड़िया होना = अत्यधिक दुष्ट होना ।
प्रयोग-मेरी छोटी ननद हमेशा ताने कसती रहती है, क्योंकि वह पूरी तरह जहर की पुड़िया है।
98. जनवासे की चाल चलना = अत्यधिक सुस्त (धीमा) होना।
प्रयोग-देखो जनवासे की चाल चलकर यह काम पूरा नहीं हो सकता, जरा फुर्ती दिखाओ।
99. जी छोटा करना = निराश होना।
प्रयोग-फेल हो जाने पर जी छोटा मत करो, बल्कि दूने उत्साह से परिश्रम करो, सफलता अवश्य मिलेगी।
100. जी-का जंजाल होना = व्यर्थ का झंझट।
प्रयोग-अरे यार यह मेहमान तो जी-का जंजाल हो गया है। सात दिन से टिका है, जाने का नाम ही नहीं लेता।