Exception in c++ language in hindi , ofstream , ifstream , fstream , Exception Example

By  

ofstream , ifstream , fstream , Exception Example , Exception in c++ language in hindi :-

इससे पहले के article मे , file handling को discuss किया था | अब इस article मे exception handeling को discuss करेगे | इससे पहले एक file handeling के सार को discuss करेगे |

file handling मे किसी file से data को read और write करने के operation को perform करने के method को discuss करते है | क्सिसी file को use करने एक लिए निन्म operation को perform करता है |
open an file : इस operation मे किसी file को open किया जाता है इसके लिए निन्म syntax को use किया जाता है :-
open();
इस file को open करने के लिए किया जाता है |
close() : इस function का use किसी file को क्लोज करने के लिए किया जाता है |
इसके अलावा निन्म command को use किया जाता है |
1. ofstream
इस data type क use output file stream के लिए किया जाता है | इस data type से file को create किया जाता है और इसमें केवल data को लिखा जाता है |.

2. ifstream
इस data type क use input file stream के लिए किया जाता है | इस data type से file को create किया जाता है और इसमें केवल data को  पढ़ा  जाता है |

3. fstream
इस data type को use file stream के लिए किया जाता है | इसमें ifstream और ofstream की तरह कार्य करता है | यानि इस data type का use किसी file को create , read और write करने एक लिए किया जाता है | समतातः इस data type का use ifstream और ofstream से ज्यादा किया जाता है |

इस article मे , exception handeling को discuss करेगे | जिसका use किसी c++ language मे काफी ज्यादा होता है |
exception एक problem है जो की किसी किसी प्रोग्राम के execution की समय generate होता है | c++ execution किसी exceptional circumstance(परिस्तिथि) मे प्राप्त होता है जब कोई प्रोग्राम run होता है | जैसे किसी प्रोग्राम मे 1 को 0 से divid करना |
exceptional का use प्रोग्राम के एक पार्ट सी control को प्रोग्राम के दुसरे प[art मे shift करने के लिए किया जाता है | c++ exception handling मे तीन keyword होते है :-
try , catch और Throw | इस keyword का use निन्म task के लिय किया जाता है :-

Throw : Throw keyword का use किसी exception को high ligth करने के लिए किया जाता है | जब किसी  प्रोग्राम मे exception प्रॉब्लम आती है तब इस keyword को use किया जाता है |

catch : इस keyword से किसी प्रोग्राम मे से throw किसी गये exception को catch किया जाता है | अतः इस keyword से किसी प्रोग्राम मे से place को indentify किया जाता है झा पर exception को handel करना है | इस keyword का नाम catch इसलिए है क्योकि इस keyword का use किसी exception को catch करने के लिए किया जाता है |

try : इस keyword का use किसी प्रोग्राम के block को indetify करने के लिए किया जाता है जिसमे किसी exceptionको activate किया जता है | इस block मे एक या एक से ज्यादा catch statement हो सकता है |

उदाहरन के लिए किसी code block मे exception को generate किया जाता है | किसी method मे , किसीexception को catch करने के लिए try – catch statement को use किया जाता है | try/catch block को किसी प्रोग्राम block मे बीच मे execute किया जाता है | जिससे exception बन जाता है | किसी  try/catch block  मे declare किये गए block का mode protected होता है |the syntax for using try/catch निन्म है  −

try {
// protected code
} catch( ExceptionName E1 ) {
// catch block
} catch( ExceptionName E2 ) {
// catch block
} catch( ExceptionName EN ) {
// catch block
}

Exception Example
जैसे की exception का उदाहरन निन्म है :
#include<iostream>
#include<conio>
using namespace std;
void main()
{
int a , b ;
a=0;
b=1;
int c = b/a ; // exception example
cout<<“Exception value : “<<c;
getch();
}
इस उदाहरन मे , जब 1 को 0 से divid किया जाता है तब infinite value मिलती है जो की c++ language मे exception को generate होता है |

exception handling का निन्म application होता है :
1. Error Handling code को  Normal Code से Separation :
नोरमल programing code मे , error को handel करने के लिए if else statement को use करता है | इस method मे , error कपड़े नोरमल code मे मिक्स हो जाता है |और इस तरह का code less readable and maintainable होता है |try catch blocks से error code को नार्मल फ्लो से अलग किया जाता है |

2) Functions/Methods can handle any exceptions they choose:
किसी function मे एक या एक से ज्यादा  exceptions होता है | लेकिन इसमें से कुछ ही को error handling मे use किया जाता है | जब किसी कॉलर किसी exceptionsको catch नहीं करता है जब exceptions को caller by caller catch किया जाता है |
c++ language , function को किसी exceptions को specify करने के लिए किया जाता है जिसे throw keywordसे प्रोगार्म से throw किया जाता है |

3) Grouping of Error Types:
c++ language , class का data type और object को किसी exceptions की तरह throw किया जाता है | इस तरह  a hierarchy of exception objects, group exceptions in namespaces or classes को बना सकता है और  इसके type की हिसाब इसे category भी कर सकते है |

इस article मे exception के basic को discuss किया है अब आगे के article मे advance concept को discuss करेगे |