CLASS IMPLEMENTATION in c++ language in hindi , Class implementation file

By  
इससे पहले के article मे , class ऑफ़ object को discuss किया था अब इस article मे object के array को implement को discuss करेगे |जब किसी character की array को declare किया जाता है तब इस array मे केवेल length – 1 ही charecter store होते है | उदहार के लिए निम् उदाहरन को discuss करेगे :-
array name [30];
इस उदाहरन मे declare name मे 30 element की जगह 29 element ही store होते है | ठीक उसी प्रकार object की array के साथ भी होता है | उदाहरन के लिए
stock firm_detail{“ABC,POR,CDA”,30,353};
इस उदाहरन मे अगर firm_detial की size 10 है तब इसमें ABC,POR,CD store होगा | A truncating हो जाता है |

इस तरह के size restriction की प्रॉब्लम के solution को इस article मे discuss करेगे | length restriction को class implement से solve किया जा सकता है | इस प्रॉब्लम को solve करने के लिए निन्म methods को use किक्या जाता है :-
1.पहले method मे array की size को बढाया जाता है | जो की मेमोरी wasted की प्रॉब्लम को generate करता है |
2.दुसरे method मे array के स्थान पर string को use किया जाना चाहिए | और string की size automatic होनी चाहिए | इस method को implement करने के लिए class मे तीन मुख्य changes करने होते है |
change1 : string class को add  किया जाता है | string class को अड़ करने एक लिए header position पर string.h header file को इन्क्लुए किया जाता है |
change2 : दुसरे changes मे , class के private सेक्शन को change किया जाता है | private सेक्शन मे company का नाम के लिए array को define किया गया था लेकिन अब string को define करेगे |
change 3 : तीरसे change मे constructor को change किया गया था | जिसमे कंपनी name को कंपनी array मे copy किया गया था और इस array के last block मे null pointer को assign किया गया था | लेकिन string के साथ केवल string को एक वर्तिअब्ले मे से दुसरे variable मे assign किया जाता जाता है |

इन तीनो changes से  क्लास के implement मे किया जाता है  | class के private method मे ही change करना है | उसके public method मे कोई change नहीं होगा |
कई बार प्रोग्रामर class implement मे कोई भी change नहीं कर सकता है | लेकिन इसके जगा एक नए constructor’
को add कर सकते है | जिसमे इस कंपनी name को assign किया जा सकता है |

नार्मल code :
class stock
{
private :
char company [50];
int share ;
double sharevalue ;
double total ;
double total ;
public :
void total (){ return total = share value * share;}
stick ();
void buy();
void sell();
void show();
void update ();
};
इस code मे आप देख सकते है की कम्पनी के नाम को store करने के लिए company [] array को use किया गया है जिसकी size 50 है इसमें 50 charecter store हो सकते है | इस array की size काफी बड़ी है | इसलिए इसमें सभी कंपनी के नाम store हो सकता है | लेकिन कभी कभी कंपनी का नाम बहुत छोटा होता है तब memory wasteage बहुत ज्यादा होता है | इस memory wastage को कम करने के लिए string को use किया जाता है |

Modified code 2 :

class stock
{
private :
string company [50];
int share ;
double sharevalue ;
double total ;
double total ;
public :
void total (){ return total = share value * share;}
stick ();
void buy();
void sell();
void show();
void update ();
};

इस code मे array की जगह string class के string data type को use किया गया है | string data type को use करने एक लिए header section मे string class को include किया जाता है | जिसका स्यन्त्याक्स निन्म होता है :
#include<string>
या
#include<string.h>
इस दोनों syntax से string class को code मे include किया जा सकता है  |

Constructer code :
stock :: stock (const char * compnany , int n =0 , double price = 0.0 )
{
std :: strcpy ( name ,company,50 );
name[50]=’\0′;
}
इस code मे constructor को define किया गया है जो की array के साथ use किया जाता है | इसमें company variable के data को  name array मे assign किया जाता है | और array के last block मे null pointer को assign किया जाता है |

Modified code :
stock :: stock (const char * compnany , int n =0 , double price = 0.0 )
{
name = company ;
}
इस code मे केवल , string variable name मे compnany के data को assign किया जाता है | जिसके लिए simple string assignment operator को use किया जाता है |

और अगर यूजर द्वारा class के code को modify नहीं किया जा सकता है तब class constructor को modify किया जाता है | इसका code निन्म होता है :-
string (const :: string & company , int n , int price);

इस constructor को use करने पर interface भी change हो जाता है | इसके लिए main() code मे निन्म तरह से object को initial किया जाता है |
इस constructor style से private सेक्शन मे कोई भी change नहीं होता है बल्कि public सेक्शन मे change होता है |
इसके लिए main() function मे निन्म code होता है :
string name ;
getline (cout  , name );
stock min (name , 12 , 200);

इस तरह से class को modify करके memory और time complxity को कम किया जा सकता है |