C99 – Header Files in c language in hindi , assert.h , complex.h , ctype.h , errno.h , float.h

By  
assert.h , complex.h , ctype.h , errno.h , float.h , C99 – Header Files in c language in hindi :-
C99 मे कई नयी header files को add किया गया है इस article मे हम इन header file को पढेगे|जो की अलग अलग कार्यो के लिए use किया जाता है |

  1. assert.h

c statnard library के द्वारा provide assert.h header file का use macro को define करने के लिए किया जाता है |इस header file से macro को define किया जाता है जो प्रोग्राम के assumption को check करता है|

और एक message print करता है जो की assumption के false होने पर ही print होता है|

macro assert को define करने के लिए दुसरे macro NDEBUG को define करना होता है | NDEBUG assert.h का पार्ट नहीं होता है |बल्कि NDEBUG source file को define करता है |

ये एक मात्र header file जो किसी function को hold नहीं करता है बल्कि एक macro को define करता है |

इसका syntax है :-

void assert (int expression );

यहा पर

int expression : ये expression है जिसके false होने पर aessertion message print होता है | और true होने पर प्रोग्राम पर कोई भी effect नहीं पड़ता है |

उदाहरण के लिए :

#include<conio.h>

#include<stdio.h>

#include<assert.h>
#define NDEBUG

Void main()

{

Int a,b,c;

Printf(“Enter data ”);

Scanf(“%d %d ”,&a &b);

Assert((c=a+b)> 50)

Printf(“addition is small than 50”);

Getch();

}

इस उदाहरण मे asssert statement नहीं लिखा गया है क्योकि assert statement optional होता है |अगर addition की value 50 से large होती है जिससे assert statement print होगा और program terminate हो जाती है |

2. complex.h

complex.h header file सभी complex number releted function store होते है |इसमें complex number के real पार्ट और imaginary पार्ट releated function को include करता है |जब इस header file को include किया जाता है तब तीन complex numbers को access कर सकते है |

  1. double complex

2. float complex

3. long double complex

इसके अलावा basic airthmatic operation (addition ,multiplication,division और sunbtraction) complex number पर पेर्फ्रोम होता है |

इस header file को सार मे हम बाद मे पढ़े |

3. ctype.h

इस हेडर file मे , charecter को test और convert करने के लिए function को include किया गया है |सभी function integer को function के argumnet मे लेते है |सभी function ‘1’ देता है अगर condition satisfied होता है |इसमें function होते है :-

1.isalnum(): check whether the passed character is alphanumerical

2.isalpha () : check whether the passed character is alphabetic

3.iscnhtr () : check whether the passed character is control character

4.isdigit() : check whether the passed character is integer

5.islower() : check whether the passed character is in lower case

6.isupper() : check whether the passed character is in upper case

7.isprint() : check whether the passed character is printable

8.isspace() : check whether the passed character contain space

9.tolower() : convert string into lower case

10.toupper(): convert strint into upper case

4. errno.h
इस header file का use integer variable errno को define करने के लिए किया जाता है |ये macro सिस्टम cal / function को call करता है जो की error को handel करता है |इस macro का use modifiable value को expand करता है | जिसे read और modified कर सकते है |

जब किसी प्रोग्राम को start किया जाता है errno के value को ‘0’ से set करते है इस header file मे तीन functions होते है :-
1.extern int errno : इस macro से उन सिस्टम call/ function को बुलाया जाता है जिससे पता चलता है की प्रोग्राम मे खा error हो रही है |
2.EDOM डोमेन error : इस macro से डोमेन error जब input argument डोमेन ( जहा पर function को declare किया जाता है ) से बहार होता है |
3.Erange range error :
इस macro से range error को declare करते है |अगर input argument की value range से बहार होती है तब इस प्रकार की error message आता है |
4.fenv.h
इस हेडर file मे store macro को floating point environment के error को declare करने के लिए किया जाता है |airthmatic और लॉजिकल operation का use किया जाता है |

4. float.h
इस header file मे store function और macro का use floating number के limit को set करने के लिए किया जाता है |इसमें निन्म function होते है :
1.PTRDIFF_MIN : इस function का use minimum value के लिए किया जाता है |
2.PIRDIFF_MAX : इस function के use maximum value के लिए किया जाता है |
3.SIZE_MAX : इस function का use size को maximum करने के लिए किया जाता है |
4.SIZE_ATOMIC_MIN :इस function का use size का आटोमेटिक minimum करने के लिए किया जाता है |
5.SIZE_ATOMIC_MAX:इस function काuse size का आटोमेटिक maximum करने के लिए किया जाता है |
6.WINT_MIN:इस function का use windows integer की value को minimum करने के लिए किया जाता है
7.WINT_MAX :इस function का use windows integer की value को maximum करने के लिए किया जाता है|
8.WCHAR_MIN : इस function का use , charecter को minimum करने के लिए किया जाता है |
9.WCHAR_MAX :इस function का use , charecter को maximum करने के लिए किया जाता है |
5.stdbool.h
C99 boolean type को support करता है |इसलिए इस header file मे boolean number से related operation और expression को use किया जाता है |
1.bool: इस keyword का use datatype को declare करने के लिए किया जाता है |
2.true : ये condition को specify करता है |इसकी value ‘1’ होती है |
3.false : ये false condition को specify करता है |इअकी value ‘0’ होती है |
उदहारण के लिए :
#include<conio.h>
#include<stdio.h>
#include<stdbool.h>
void main()
{
int a.b,c;
printf(“Enter ‘1’ or ‘0’ :”);
scnaf(“%d”,&a);
printf(“Enter ‘1’ or ‘0’ :”);
scnaf(“%d”,&b);
int c = a && b;
if(c == true )
{
printf(“Both input are ‘1’ . “);
}
else
{
printf(” Both inputs are not ‘1’ .”)
}
getch();
}
आउटपुट होगा  :
Enter ‘1’ or ‘0’ : 1
Enter ‘1’ or ‘0’ : 1
Both input are ‘1’ .
इस article मे , हमने C99 के कुछ header file का basic को पढ़ा है| आगे आने वाले article मे इस सभी header file को सार से पढेगे |