C++ : String with Pointer in hindi , what is program of String with Pointer in c++ language

By  
what is program of String with Pointer in c++ language , C++ : String with Pointer in hindi :-
इससे पहले के article मे , pointer के basic , pointer array , arithmetic operations , new और delete command को discuss किया है अब इस
article मे pointer variable से string को declare करना के process और access करना के प्रोसेस को discuss किया है |
String और Pointer
String C++ language मे सबसे महतवपूर्ण data type है | इसका use कई महत्वपूर्ण operations मे किया जाता है  | और pointer variable द्वारा Oops के concept को perform किया जाता है | इसलिए oops concept को string से connect करने के लिए string को pointer variable से associated किया जाता है |
String Decalrtion
जब किसी string को declare किया जाता है | तब निन्म syntax को use किया जाता है :-
char name [10];
इस उदाहरण मे name string को declare किया जाता है | जिसकी size 10 है इसका मतलब है की string मे 10 character को store हो सकता है | string data type को initial करने के लिए :
char name [10] = “Parth”;
cout<<“Name : “<<name;
इस statement मे , string variable name मे parth string को assign किया जाता है | और cout statement से array को print किया जाता है | array का address charecter का address होता है | इसलिए cout statement से string के first charater ‘p’ के address पर स्थित character को display करता है |जो की character को तब तक display करता है जब तक null value नहीं आ जाता है | इसका आउटपुट होगा :
#include<iostream.h>
#include<conio.h>
void main()
{
using namespace std;
char name [20];
cout<<“Enter name :”<<endl;
cin.get(name);
cout<<“Name : “<<name<<endl;
getch();
}
इस उदाहरण मे , यूजर द्वारा input किये गये data को  string variable ‘name ‘ मे assign करा देते है और cout statement से string variable name को display करा देते है |
इस प्रकार के प्रोग्राम मे , string variable name मे first character के address को hold करता है | जिससे c++ प्रोग्राम मे कई प्रॉब्लम create हो जाती है | इस प्रॉब्लम को दूर करने के लिए  pointer को use करते है जिसका type character होता है | जिसे cout statement मे इस pointer variable को pass किया जाता है |
जब किसी string को string constant , string array और string pointer की तरह use किया जा सकता है |  इस सभी प्रकार मे string variable मे address को pass किया जाता है |
इसका उदाहरण है :
#include<iostream.h>
#include<conio.h>
void main()
{
using namespace std;
char name [20];
char last[20];
const char *first_name = “Mr”;
char *last_name ;
cout<<“Enter name :”<<endl;
cin.get(name);
cout<<“Name : “<<first_name<<name<<endl;
cout<<“Enter last name :”<<endl;
cin.get(last);
last_name=&last ;
cout<< “Your full name : ” first_name<<name<<last-name<<endl;
delete [] last_name ;
getch();
}
Explanation
 इस उदाहरण मे एक character array और दो string pointer को declare किया  है | सबसे पहले यूजर द्वारा input किये गये name की value को name [] variable मे assign करते है |
 और पहले pointer variable ‘first_name’मे  Mr को assign किया जाता है | इसमें  pointer variable ‘first_name’ string का address को assign किया जाता है | pointer variable से एक memory space को create किया जाता है जिसमे string को store किया जा सकता है |
 और जब string pointer variable को declare किया जाता है  तब memory space allocate होता है जिसमे यूजर द्वारा input किये जाने वाले last name को assign किया जाता है |
 और इसके अलावा const keyword को भी use किया जाता है | जिसका मतलब है की first name की value हमेशा constant होती है | इसमें cout statement से character array और string को  दोनों को ही display करता है | लेकिन  जब हम किसी string pointer को display करते है तब blank line को print किया जाता है |
अतः कई कंप्यूटर सिस्टम मे  string pointer और character array को निन्म तरह से control करते है |
1.कुछ complier मे string liternal read ओनली constant की तरह use किया जाता है | ये runtime error को define करता है जब कोई नए data को इस string leternal मे लिखा जाता है |
2.कुछ complier केवल एक string leternal को use करते है | सभी string leternal को एक्सप्रेस करने के लिए |
इसका आउटपुट होगा :
Enter name : Parth
Name : Mr Parth
Enter last name : Patel
Your full name : Mr Parth Patel
String.h Functions
String.h libarary मे कई सारे string के pre define function को define किया जाता है अब इस article मे ,string.h के कुछ सबसे महतवपूर्ण फ़ुन्क्तिओन्स को discuss करेगे :-
strlen()
इस function से string के length को calculate किया जाता है |string के length का मतलब है string मे input किये गये character की सख्या | इस function का use कई सारे प्रोग्राम जैसे string application मे किया जता है | इसका syntax होता ]है |
strlen(string name );
यहा पर string name ; string का नाम है |
इसका उदाहरण है :
#include<iostream.h>
#include<conio.h>
#include<string.h>
void main()
{
using namespace std;
std:string name [20];
cout<<“Enter Name :”<<endl;
cin.get(name);
int length = strlen(name);
cout<<“string “<<name <<“has an size”<<length.<<endl;
getch();
}
इस उदाहरण मे name एक string है | जिसकी length को length variable मे assign किया जाता है | इसका आउटपुट होगा :
Enter Name : Parth
string name has an size 5.
strcpy()
इस function से  किसी string को दुसरे string मे  copy किया जाता है |इस function का use कई सारे प्रोग्राम जैसे string application मे किया जता है | इसका syntax होता ]ै |
strlen(string name1 ,string name2  );
यहा पर string name1 ; string का नाम जिसमे string name2 के value को copy किया जाता  है |
इसका उदाहरण है :
#include<iostream.h>
#include<conio.h>
#include<string.h>
void main()
{
using namespace std;
std:string name1 [20];
std:string name2 [20];
cout<<“Enter Name2 :”<<endl;
cin.get(name2);
strcpy(name1,name2);
cout<<“Value of name1 :”<<name1<<endl;
cout<<“Value of name2 :”<<name2<<endl;
getch();
}
 इसका आउटपुट होगा :
Enter Name2 : Parth
Value of name1 : Parth
Value of name2 : Parth
इस article मे string को pointer variable से use करना और string.h header file से strlen() और strcpy() को discuss किया है अब इस article मे strututre को pointer variable से create करने के प्रोसेस को discuss करेगे |