C++ : Math Class ( Part -1 ) in hindi , sin() , cosine() , tan() , sinh() , cosh() , tanh() maths class in c++ language

By  
इससे पहले के article मे ctype और string class को discuss किया जाता है | इस class मे define किये गये function को discuss किया गया है अब इस article मे math class मे define किये गये function को भी discuss करेगे |math class
इससे पहले operator article मे , basic mathematically operation addition , subtraction , multiplication और division को discuss किया है लेकिन जब advance operation जैसे power , square , cube , trigmetric value को find करने के लिए math class मे define किये function को use किया जाता है | इस class मे निन्म function होता है :

sin()
इस function का use किसी value की sin value को find करने के लिए किया जाता है | sin() function का use trigonometric के मुख्य value को find करने मे किया जाता है |इसका syntax निन्म होता है :
sin(x);
‘यहा पर
sin() ; ये sin function है जिसका use variable ‘x’ की sin value को find किया जाता है |
x : ये variable का नाम है जिसका  sine value को find करना है |
इसका उदाहरन होता है :
#include<iostream.h>
#include<conio.h>
void main()
{
int degree1 , degree2  ;
cout<<“Enter degree1 : “;
cin>>degree1;
cout<<“Enter degree2 : “;
cin>>degree2;
float value1 = sin(degree1);
float value2 = sin(degree2);
cout<<“sin(degree1) :”<<value1<<endl
cout<<“sin(degree2) :”<<value2 <<endl;
}
getch();
}
इसके उदाहरन मे , यूजर द्वारा दो value को input किया जाता है | इन value को degree1 , degree2 मे assign किया जाता है | और इस
value1 = sin(degree1); इस statement से value 1 से sin () value को calculate किया जाता है |
value2 = sin(degree2); इस statement से value 2 से sin () value को calculate किया जाता है |
इसका आउटपुट होगा :
Enter degree1 : 30
Enter degree2 : 60
sin(degree1) : 0.8790
sin(degree2) : 0.50

cosine()
इस function का use किसी value की cosin value को find करने के लिए किया जाता है | cosin() function का use trigometric के मुख्य  consine value को find करने मे किया जाता है |इसका syntax निन्म होता है :
cosin(a);
‘यहा पर
cosin() ; ये cosin function है जिसका use variable ‘x’ की cosin value को find किया जाता है |
a : ये variable का नाम है जिसका  cosin value को find करना है |
इसका उदाहरन होता है :
#include<iostream.h>
#include<conio.h>
void main()
{
int d1 , d2  ;
cout<<“Enter degree1 : “;
cin>>degree1;
cout<<“Enter degree2 : “;
cin>>degree2;
float value1 = cosin(d1);
float value2 = cosin(d2);
cout<<“cosin(d1) :”<<value1<<endl
cout<<“cosin(d2) :”<<value2 <<endl;
}
getch();
}
इसके उदाहरन मे , यूजर द्वारा दो value को input किया जाता है | इन value को d1 , d2 मे assign किया जाता है | और इस
value1 = cosin(d1); इस statement से value 1 से cosin () value को calculate किया जाता है |
value2 = cosin(d2); इस statement से value 2 से cosin () value को calculate किया जाता है |
इसका आउटपुट होगा :
Enter degree1 : 60
Enter degree2 : 30
cosin(d1) : 0.50
cosin(d2) : 0.8790

tan()
c++ language मे tan () को भी use किया जा सकता है | इस function का use किसी value की tan value को find करने के लिए किया जाता है | cosin() function का use trigometric के मुख्य  tangent value को find करने मे किया जाता है |इसका syntax निन्म होता है :
tan(x);
यहा पर
tan() ; ये tan function है जिसका use variable ‘x’ की tan value को find किया जाता है |
x : ये variable का नाम है जिसका  tan value को find करना है |
इसका उदाहरन होता है :
#include<iostream.h>
#include<conio.h>
void main()
{
int degree1 , degree2  ;
cout<<“Enter degree1 : “;
cin>>degree1;
cout<<“Enter degree2 : “;
cin>>degree2;
float v1 = tan(degree1);
float v2 = tan(degree2);
cout<<“tan(degree1) :”<<v1<<endl
cout<<“tan(degree2) :”<<v2 <<endl;
}
getch();
}
इसके उदाहरन मे , यूजर द्वारा दो value को input किया जाता है | इन value को degree1 , degree2 मे assign किया जाता है | और इस
v1 = tan(degree1); इस statement से degree1से tan () value को calculate किया जाता है |
v2 = tan(degree2); इस statement से degree2 से tan () value को calculate किया जाता है |
इसका आउटपुट होगा :
Enter degree1 : 45
Enter degree2 : 60
tan (degree1) : 1
tan (degree2) : 0.50

sinh()
इस function का use किसी value की hyperbolic sin  value को find करने के लिए किया जाता है sinin() function का use trigometric के मुख्य  hyperbolic sine value को find करने मे किया जाता है |इसका syntax निन्म होता है :
sinh(x);
यहा पर
sinh() ; ये sinh function है जिसका use variable ‘x’ की  hyperbolic sin value को find किया जाता है |
x : ये variable का नाम है जिसका  sinh value को find करना है |
इसका उदाहरन होता है :
#include<iostream.h>
#include<conio.h>
void main()
{
int degree1 , degree2  ;
cout<<“Enter degree1 : “;
cin>>degree1;
cout<<“Enter degree2 : “;
cin>>degree2;
float v1 = sinh(degree1);
float v2 = sinh(degree2);
cout<<” sin(degree1) :”<<v1<<endl
cout<<” sin(degree2) :”<<v2 <<endl;
}
getch();
}
इसके उदाहरन मे , यूजर द्वारा दो value को input किया जाता है | इन value को degree1 , degree2 मे assign किया जाता है | और इस
v1 = sinh(degree1); इस statement से degree1 से hyperbolic  sin () value को calculate किया जाता है |
v2 = sinh(degree2); इस statement से degree2 से  hyperbolic  sin  () value को calculate किया जाता है |
इसका आउटपुट होगा :
Enter degree1 : 45
Enter degree2 : 60
sinh(degree1) : .50
sinh((degree2) : 0.875

cosh()
इस function का use किसी value की hyperbolic cos  value को find करने के लिए किया जाता है cosin() function का use trigometric के मुख्य  hyperbolic consine value को find करने मे किया जाता है |इसका syntax निन्म होता है :
cosh(x);
यहा पर
cosh() ; ये cosh function है जिसका use variable ‘x’ की  hyperbolic  cos value को find किया जाता है |
x : ये variable का नाम है जिसका  cosh value को find करना है |
इसका उदाहरन होता है :
#include<iostream.h>
#include<conio.h>
void main()
{
int degree1 , degree2  ;
cout<<“Enter degree1 : “;
cin>>degree1;
cout<<“Enter degree2 : “;
cin>>degree2;
float v1 = cosh(degree1);
float v2 = cosh(degree2);
cout<<” cos(degree1) :”<<v1<<endl
cout<<” cos(degree2) :”<<v2 <<endl;
}
getch();
}
इसके उदाहरन मे , यूजर द्वारा दो value को input किया जाता है | इन value को degree1 , degree2 मे assign किया जाता है | और इस
v1 = cosh(degree1); इस statement से degree1से hyperbolic  cos () value को calculate किया जाता है |
v2 = cosh(degree2); इस statement से degree2 से  hyperbolic  cos  () value को calculate किया जाता है |
इसका आउटपुट होगा :
Enter degree1 : 45
Enter degree2 : 60
cosh(degree1) : .50
cosh((degree2) : 0.875

tanh()
c++ language मे tanh () को भी use किया जा सकता है | इस function का use किसी value की hyperbolic tan value को find करने के लिए किया जाता है | cosin() function का use trigometric के मुख्य  hyperbolic tangent value को find करने मे किया जाता है |इसका syntax निन्म होता है :
tanh(x);
यहा पर
tanh() ; ये tanh function है जिसका use variable ‘x’ की  hyperbolic tan value को find किया जाता है |
x : ये variable का नाम है जिसका  tanh value को find करना है |
इसका उदाहरन होता है :
#include<iostream.h>
#include<conio.h>
void main()
{
int degree1 , degree2  ;
cout<<“Enter degree1 : “;
cin>>degree1;
cout<<“Enter degree2 : “;
cin>>degree2;
float v1 = tanh(degree1);
float v2 = tanh(degree2);
cout<<“tan(degree1) :”<<v1<<endl
cout<<“tan(degree2) :”<<v2 <<endl;
}
getch();
}
इसके उदाहरन मे , यूजर द्वारा दो value को input किया जाता है | इन value को degree1 , degree2 मे assign किया जाता है | और इस
v1 = tanh(degree1); इस statement से degree1से hyperbolic tan () value को calculate किया जाता है |
v2 = tanh(degree2); इस statement से degree2 से  hyperbolic tan  () value को calculate किया जाता है |
इसका आउटपुट होगा :
Enter degree1 : 45
Enter degree2 : 60
tanh(degree1) : .50
tanh((degree2) : 1

इस article मे  , math क्लासे के trigonometric और hyperbolic trigonmetric function को discuss किया गया है अब आगे के article मे  , math class के कुछ और function को discuss करेगे |