शुक्राणुजनन एवं वीर्यसेचन (स्परमिएशन) की परिभाषा लिखिए। spermiogenesis and spermatogenesis definition in hindi

प्रश्न 8. शुक्राणुजनन एवं वीर्यसेचन (स्परमिएशन) की परिभाषा लिखिए। (spermiogenesis and spermatogenesis definition in hindi)
उत्तर : शुक्राणुजनन (Spermiogenesis) – गोल अचल स्पर्मेटिड्स (spermatids) के चल शुक्राणुओं (motile sperms) में परिवर्तित होने की प्रक्रिया को ही शुक्राणुजनन अथवा शुक्राणु कायान्तरण (spermiogenesis) कहा जाता हैं।

अन्य परिभाषा :

शुक्राणुजनन (Spermiogenesis) :- नर के वृषण में शुक्राणुओं के निर्माण की प्रक्रिया को ही शुक्राणुजनन कहा जाता है , इन्हें नर युग्मक भी कहते हैं | मानव में यदि लिंग निर्धारण के लिए निर्धारण तत्वों की बात करे तो यह एक महत्वपूर्ण तत्व माना जाता है |
वीर्यसेचन (Spermiation) :- जब मादा जंतु अथवा मादा पादप के जननांग में नर पादप या जंतु के शुक्राणु पहुँचते है तो इस प्रक्रिया को वीर्यसेचन कहते हैं | अर्थात वह प्रक्रिया जिसमें शुक्राणु मादा के जननांग में पहुँचते है उसे वीर्य सेचन कहा जाता है | इस क्रिया का प्रयोग सामान्यतया लैंगिक प्रजनन के माध्यम से गर्भधारण हेतु किया जाता है |

अन्य परिभाषा :

वीर्यसेचन (Spermiation) :- शुक्राणु कायान्तरण के बाद मुक्त शुक्राणुओं के शीर्ष सर्टोली कोशिकाओं (sertoli cells) में अन्तःस्थापित (embedded) हो जाते हैं। शुक्रजनक नलिकाओं के स्तर से शुक्राणुओं के उनकी गुहा (छिद्र) (lumen) में मोचित या मुक्त (released) होने की प्रक्रिया को वीर्यसेचन (spermiation) कहते हैं।