एक डी.सी. मशीन में दिकपरिवर्तन का कार्य बदलना है The function of a commutator in a dc machine is to convert

By  

11. The function of a commutator in a dc machine is to convert:
एक डी.सी. मशीन में दिकपरिवर्तन का कार्य बदलना है-
(अ) Unidirectional current to direct current
एक दिशीय धारा से दिष्ट धारा
(ब) Alternating current to unidirectional current
प्रत्यावर्ती धारा से एक दिशीय धारा
(स) Alternating current to direct current
प्रत्यावर्ती धारा से दिष्ट धारा
(द) Alternating current to alternating current
प्रत्यावर्ती धारा से प्रत्यावर्ती धारा

उत्तर : (ब)
D.C. मशीन में Commultator का कार्य प्रत्यावर्ती धारा को एकदिशीय धारा में परिवर्तित करना है।
दिक्परिवर्तक का मुख्य कार्य आर्मेचर कुण्डलन में प्रेरित प्रत्यावर्ती धारा (A.C.) को दिष्ट धारा (DC) में परिवर्तित करके उसे बाह्य परिपथ में भेजना है। दिक्परिवर्तक कठोर कर्षित ताँबे के खण्डों का बना होता है।
12. At a frequency less than the resonant frequency_________
अनुनाद आवृत्ति से कम आवृत्ति पर _________
(अ)series circuit is capacitive and parallel circuit is inductive / श्रेणी परिपथ संधारित्र और समानांतर परिपथ प्रेरक होता है।
(ब) series circuit is inductive and parallel circuit is capacitive / श्रेणी परिपथ प्रेरक ओर समानांतर परिपथ संधारित्र होता है।
(स) both circuits are inductive / दोनों परिपथ, प्रेरक होते हैं।
(द) both circuits are capacitive / दोनों परिपथ, संधारित्र होते हैं।
13. For punch and crane applications the……….. are used :
चरखी और क्रेन के अनुप्रयोगों के लिये ………………..प्रयोग किया जाता है-
(अ) Starting, stopping, Speed controllers and reversing / शुरू, रोकना, पीछे हटाना, गति नियंत्रक
(ब) Speed controllers / गति नियन्त्रक
(स) Starting, stopping / शुरू करना, रोकना
(द) Reversing / रिवर्सिंग
14. if N is the speed of a D.C. series motor and I, is the armature current then
यदि डी.सी. सीरीज मोटर की गति N तथा आर्मेचर धारा I हो तो
(अ) N 1 (ब) N 1 (स) N 17 (द) N
15. आमतौर पर लाइटनिंग अरेस्टर को, किसके पास लगाने की प्राथमिकता दी जाती है-
(अ) ट्रांसफार्मर (ब) परिपथ विच्छेदक
(स) आइसोलेटर (द) बसबार
16. Which one of the following doesn’t require any mechanical commutation ?
निम्न में से किसमें किसी यांत्रिक रूपान्तरण कीद्य आवश्यकता नहीं होती है?
(अ) Induction motor / प्रेरण मोटर
(ब) Electric motor / वैद्युत मोटर
(स) Transformer / परिणामित्र
(द) Transformer and electric motor
परिणामित्र और वैद्युत मोटर
17. From no-load to full-load, synchronous motors give:
नो लोड से पूर्ण भार तक तुल्यकालिक मोटर…….. देती है-
(अ) Constant speed / स्थिर गति
(ब) Variable speed / अस्थिर गति
(स) Gradually increasing speed / बढ़ती हुई गति
(द) Gradualy decreasing speed / घटती हुई गति
18. Voltage limit for AC single phase induction motor is:
AC एकल फेज प्रेरण मोटर में वोल्टता सीमा होती है-
(अ) 3 kv (ब) 1.5 kV
(स) 250 V (द) 11 kV
19. Low order harmonic (LOH) one of the performance parameter of single phase half bridge inverter
लो आर्डर हार्मोनिक (LOH) यह सिंगल फेज हाफ ब्रिज इन्वर्टर के कार्य प्रदर्शन मानदंडो में से एक है-
(अ) Is the smallest of all harmonic components
यह सभी हार्मोनिक घटकों में सबसे छोटा है
(ब) Is that harmonic component whose frequency ____ is closest to the fundamental / यह वह हार्मोनिक घटक है जिसके फ्रिक्वेंसी बुनियादी से सबसे करीब है
(स) Has an amplitude greater than or equal to 3% of the fundamental component / इसका आयाम बुनियादी घटक के 3ः से अधिक या बराबर है
(द) Is that harmonic component whose frequency is closest to the fundamental has an amplitude greater than or equal to 3% of the fundamental component / यह वह हामानिक घटक है जिसके फ्रिक्वेंसी बुनियादी से सबसे करीब है, इसका आयाम बुनियादी घटक के 3% से अधिक या बराबर है
20. A DC chopper is fed from constant voltage mains. The duty ratio a of the chopper is progressively increased while the chopper feeds RL. load. The per unit current ripple would
एक डी.सी. चोपर वोल्टेज मेंस से जुड़ा हुआ है जब चोपर RL लोड को सप्लाई कर रहा है धीरे-धीरे ं (duty cycle) को बढ़ाया जा रहा है तब प्रति धारा होगी-
(अ) Increase to a maximum value at α = 0.5 and then decrease
α = 0.5 अधिकतम मान तक बढ़ाया जाता है और उसके बाद घटाया जाता है
(ब) Decrease progressively / धीरे-धीरे घटाया जाता है
(स) Decrease to a minimum value at α = 0.5 and then increase
α = 0.5 न्यूनतम मान तक घटाया जाता है और उसके बाद अधिकतम मान तक बढ़ाया जाता है।
(द) Increase progressively / धीरे-धीरे बढ़ाया जाता है।
21. The PLC was invented by
PLC का अविष्कार किया गया था
(अ) Bill Gates / बिलल गेट्स द्वारा
(ब) Dick Morley / डिक मोर्ले द्वारा
(स) Bill Landis / बिल लैंडिस द्वारा
(द) Tod Cunningham / टॉड कनिन्घम द्वारा
22. A second order servo has unity feedback and an open-loop transfer function.  G;s)= 500/S;S़15). The Settling time is:
एक द्वितीय आर्डर सर्वो का एकक फीडबैक तथा ओपन लूप ट्रांसफर फंक्शन G;s)= 500/S;S़15) है। सेटलिंग समय है-
(अ) 2 sec (ब) 0.53sec
(स) 500sec (द) 0.5sec
23. Susceptibility for Paramagnetic materials is :
पैरामैग्नेटिक पदार्थों की ससेप्टीबिलीटी होती है-
(अ) Positive and small / धनात्मक एवं कम
(ब) Negative and small / ऋणात्मक एवं कम
(स) Positive and large / धनात्मक एवं अधिक
(द) Negative and large / ऋणात्मक एवं अधिक
24. In insulators :  / अवरोधकों में
(अ) Internal Electric Charges flows freely
external electric field / आंतरिक विद्युत आवेश बाह्य
विद्युत क्षेत्र के साथ मुक्त से प्रवाहित होता है
(ब) Internal Electric Charges does not flows
freely external electric field
आंतरिक विद्युत आवेश बाह्य क्षेत्र के साथ मुक्त रूप से
प्रवाहित नहीं होता है
(स) Internal Electric Charges flows along with
external electric field / आंतरिक विद्युत आवेश बाह्य
विद्युत क्षेत्र के साथ-साथ प्रवाहित होता है
(द) Internal Electric Charges flows opposite to
external electric field / आंतरिक विद्युत आवेश बाह्य
विद्युत क्षेत्र के विपरीत प्रवाहित होता है
25. Ohm’s Law is followed by :
निम्न में से कौन ओह्म के नियम का पालन करता है-
(अ) Metal rectifier / मेटल रेक्टिफायर
(ब) Copper electrode /कॉपर इलेक्ट्रोड
(स) Crystal detector / क्रिस्टल डिटेक्टर
(द) Arc lamp / आर्क लैंप

उत्तरमाला –

12. (अ)
13. (अ)
पंच एवं क्रेन का अनुप्रयोग स्टार्टिंग, स्टापिंग, स्पीड कन्ट्रोल तथा रिवर्स में होता है। क्रेन में सीरीज मोटर का प्रयोग किया जाता है। इसके प्रारम्भिक टार्क का मान उच्च होता है। सीरीज प्रतिरोध द्वारा स्पीड को कन्ट्रोल किया जाता है। इसका प्रयोग क्रेन हायस्ट, ट्राली कार, कन्वेयर आदि में किया जाता है।
14. (अ)
N ∝ Eb/
वि.वा. बल E = V-IaRa
विभिन्न लोड पर म्इ के मान में कोई परिवर्तन नहीं आता Eb का मान हम स्थिर मान सकते हैं चूंकि V की अपेक्षा आर्मेचर धारा (Ia) पर निर्भर नहीं करता है। जिसमें आर्मेचर धारा बढ़ती है तब फ्लक्स ∅ का मान भी बढ़ता है चूंकि इसलिए आर्मेचर धारा बढ़ने से मोटर की गति कम हो जाती है। डी.सी. सीरीज मोटर का स्पीड तथा आर्मेचर धारा का अभिलक्षण Hyperbola nature का होता है।
15. (अ)
लाइटनिंग अरेस्टर को प्रायः ट्रांसफार्मर के पास लगाने की प्राथमिकता दी जाती है तथा इसके अलावा संचरण लाइन फीडर के प्रारम्भ तथा अन्त में तड़ित निरोधकों का प्रयोग किया जाता है। लाइटनिंग अरेस्टर लाइन चालकों द्वारा आयी हुई बादलों की बिजली की हिल्लोल (surge) को स्टेशन या सब स्टेशन की परिसर में प्रवेश होने से पहले पृथ्वी में प्रवेश करा देता है। लाइटनिंग अरेस्टर में ऋणात्मक प्रतिरोध अभिलक्षण वाले पदार्थों का प्रयोग किया जाता है।
16. (अ)
प्रेरण मोटर में किसी यांत्रिक रूपान्तरण की आवश्यकता नहीं होती है। जिससे प्रेरण मोटर के निम्न लाभ है- इनमें कार्बन ब्रुशों का प्रयोग नहीं होता इसलिए इनमें चिंगारी की समस्या नहीं होती। इसकी अनुरक्षण कीमत कम होती है।
17. (अ)
नो लोड से पूर्ण भार तक तुल्यकालिक मोटर स्थिर गति देती है। तल्यकालिक मोटर पर लोड प्रयुक्त करने पर इसकी औसत गति नहीं घटती है तथा मोटर स्थिर गति पर घूमती रहती है। तुल्यकालिक मोटर पर लोड देने पर क्षणिक समय के लिए मोटर कुछ धीमी हो जायेगी तथा रोटर ध्रुव, स्टेटर ध्रुव की अपेक्षा कुछ पीछे रह जायेगा। यह कोण लोड कोण कहलाता है। इस स्थिति में परिणामी वोल्टता म्त बढ़ जाती है तथा मोटर अधिक आर्मेचर धारा लेने लगती है।
18. (स)
AC एकल फेज प्रेरण मोटर में वोल्टता सीमा 250V होती है। एकल फेज ए.सी. प्रेरण मोटर में पिंजरा प्ररूपी रोटर प्रयोग होता है।
19. (द)
लो आर्डर हार्मोनिक (LOH) यह सिंगल फेज हाफ ब्रिज इनवर्टर के कार्य प्रदर्शन मानदंडों में यह वह हार्मोनिक घटक है जिनमें फ्रिक्वेंसी बुनियादी से सबसे करीब है जिसका आयाम बुनियादी घटक के 3% से अधिक या बराबर है।
20. (अ)
21. (ब)
डिक मोर्ले द्वारा PLC का अविष्कार किया गया था। PLC एक प्रोग्रामेबल नियंत्रक होता है जिसमें प्रोग्रामिंग में फेर-बदल द्वारा नियंत्रण एवं इण्टर लॉक व्यवस्था में परिवर्तन सम्भव हो जाता है। प्रोग्रामेबल नियंत्रक जो लॉजिक कथन से सम्बन्धित बाइनरी निवेश संकेत तथा बाइनरी निर्गत संकेत पर कार्य करता है। प्रोग्रामेबल लॉजिक कन्ट्रोलर (PLC) कहलाता है।
22. (ब)
23. (अ)
पैरामैग्नेटिक पदार्थों की ससेप्टीबिलीटी धनात्मक एंव कम होती है। कुछ पदार्थ चुम्बकीय क्षेत्र में रखने जाने पर क्षेत्र की दिशा में मामूली से चुम्बकित हो जाते है तथा किसी शक्तिशाली चुम्बक के सिरे के समीप लाये जाने पर सिरे की ओर आकर्षित होते है इन्हें पैरामैग्नेटिक पदार्थ कहते हैं तथा इनके इस गुण को अनुचुम्बकत्व कहते हैं।
जैसे- A1, Na, Pt, mn आदि।
24. (ब)
विद्युत रोधक में आन्तरिक विद्युत आवेश वाह्य क्षेत्र के साथ मुक्त रूप से प्रवाहित नहीं होता है। अर्थात् इंसुलेटर में इलेक्ट्रॉन का बहाव नहीं होता है। विद्युत रोधक में तापमान बढ़ाने पर उस विद्युत रोधक का आन्तरिक प्रतिरोध का मान घटता है। विद्युत रोधक पर इसलिये ओह्म नियम को लागू नही किया जाता है। विद्युत रोधक में मुक्त इलेक्ट्रॉन की संख्या ना के बराबर अर्थात् शून्य होती है।
25. (ब)
कॉपर इलेक्ट्रोड ओम के नियम का पालन करता है। डायोड, ट्रांजिस्टर, आर्क लैम्प, इलेक्ट्रोलाइट तथा अरेखीय अवयवों पर ओह्म का नियम लागू नहीं होता है।