आउटपुट डिवाइस का एक उदाहरण है ? निम्नलिखित में से कौन-सा एक आउटपुट डिवाइस है नाम क्या है

By  

निम्नलिखित में से कौन-सा एक आउटपुट डिवाइस है नाम क्या है आउटपुट डिवाइस का एक उदाहरण है ?

प्रश्न और उत्तर 

10. आउटपुट डिवाइस का एक उदाहरण है –
(अ) स्कैनर (ब) प्लॉटर (स) टैप (द) सॉफ्टवेयर
11. इनमें से कौन कंप्यूटर की लिमिटेशन को परिभाषित करता है रू
(अ) गति (ब) शुद्धता (स) परिश्रमशीलता (द) कोई प्फ नहीं
12. प्रथम जेनेरेशन कम्प्युटर मे इलेक्ट्रोनिक घटक के रूप में प्रयोग किया गया
(अ) वेक्यूम ट्यूब, चुम्बकीय ड्रम (ब) ट्रांसिस्टर, मेग्नेटिक कोर
(स) इंटीग्रेटेड सर्किट (IC) (द) माइक्रोप्रोसेसर
13. प्रथम जेनेरेशन कम्प्युटर का समय काल –
(अ) 1956 -1965 (ब) 1942 -1956
(स) 1965 -1975 (द) 1975 -1988
14. सेकंड जेनेरेशन कम्प्युटर मे इलेक्ट्रोनिक घटक के रूप में प्रयोग किया गया-
(अ) वेक्यूम ट्यूब, चुम्बकीय ड्रम (ब) ट्रांसिस्टर, मेग्नेटिक कोर
(स) इंटीग्रेटेड सर्किट (IC) (द) माइक्रोप्रोसेसर
15. इंटीग्रेटेड सर्किट (IC) का सर्वप्रथम उपयोग हुआ –
(अ) फर्स्ट जेनेरेशन (ब) सेकंड जेनेरेशन
(स) थर्ड जेनेरेशन (द) फोर्थ जेनेरेशन
16. VLSI तकनीक का सर्वप्रथम उपयोग हुआ –
(अ) फर्स्ट जेनेरेशन (ब) सेकंड जेनेरेशन
(स) थर्ड जेनेरेशन (द) फोर्थ जेनेरेशन
17. ULSI तकनीक का उपयोग होता हैं
(अ) पंचम (फिफ्थ) जेनेरेशन कम्प्युटर (ब) सेकंड जेनेरेशन
(स) थर्ड जेनेरेशन कम्प्युटर (द) फोर्थ जेनेरेशन
18. पस्कालीन का आविष्कार कब और किसने किया –
(अ) 1642 मे ब्लेस पास्कल द्वारा (ब) 1646 मे लिबनिज द्वारा
(स) 1971 मे इंटेल द्वारा (द) उपरोक्त मे से कोई नहीं
19. ULSI की फुल फॉर्म हैं –
(अ) अल्ट्रा लॉन्ग स्केल इंटीग्रेशन (ब) अल्ट्रा लूज स्केल इंटीग्रेशन
(स) अल्ट्रा लार्ज स्केल इंटीग्रेशन (द) उपरोक्त में से कोई नहीं
20.  Arithometerdk आविष्कार किया गया –
(अ) ब्लेस पास्कल द्वारा (ब) लिबनिज द्वारा
(स) चार्ल जेवियर थॉमस डी कोलमर द्वारा (द) उपरोक्त मे से कोई नहीं
21. First All – Purpose इलेक्ट्रोनिक डिजिटल कम्प्युटर हैं –
(अ) ENIAC (ब) UNIVAC (स) IBM PENTIUM (द) CRAY
22. वर्तमान कम्प्युटर के जनक हैं –
(अ) ब्लेस पास्कल (ब) लिबनिज (स) अगस्टा एडीए किंग (द) चाल बैवेज
23. फर्स्ट वाणिज्यिक कम्प्युटर हैं –
(अ) ENIAC (ब) UNIVAC (स) IBM PENTIUM (द) CRAY
24. कम्प्युटर हैं –
(अ) एक इलेक्ट्रिक डिवाइस (ब) एक इलेक्ट्रोनिक डिवाइस
(स) उपरोक्त मे से कोई नहीं (द) उपरोक्त दोनों
25. वह प्रोग्राम जो कम्प्युटर के आन्तरिक संसाधनो का प्रबंधन करता हैं –
(अ) सिस्टम सॉफ्टवेयर (ब) ऑपरेटिंग सॉफ्टवेयर
(स) एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर (द) उपरोक्त मे से कोई नहीं
26. वह प्रोग्राम जो कम्प्युटर और यूजर के बीच इंटरफेस प्रदान करता हैं –
(अ) वेब ब्राउजर (ब) ऑपरेटिंग सॉफ्टवेयर
(स) एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर (द) उपरोक्त मे से कोई नहीं
27. ऑपरेटिंग सॉफ्टवेयर हैं –
(अ) विंडोज OS (ब) वर्ड प्रॉसेसर (स) वेब ब्राउजर (द) उपरोक्त मे से कोई नहीं
28. जो प्रोग्राम यूजर्स के लिए तैयार किए जाते हैं –
(अ) वेब ब्राउजर (ब) ऑपरेटिंग सॉफ्टवेयर
(स) एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर (द) उपरोक्त मे से कोई नहीं ,
29. इंटरनेट पर उपलब्ध इन्फॉर्मेशन को खोजने में सहायक हैं –
(अ) वेब ब्राउजार (ब) ऑपरेटिंग सॉफ्टवेयर
(स) एप्लिकेशन सॉफ्टवेयर (द) उपरोक्त में से कोई नहीं
30. प्रोसेसिंग डिवाइस हैं –
(अ) मॉनिटर, प्रिंटर, स्पीकर (ब) माइक्रोफोन, माऊस, स्कैनर
(स) सीपीयू, मेमोरी, मदर बोर्ड (द) उपरोक्त मे से कोई नहीं
31. अवांछनीय फाइलों को हटाने एवं डिस्क स्पेस को व्यवस्थित कर सकते हैं –
(अ) वेब ब्राउजर (ब) डिस्क फ्रेग्मेंटर
(स) डिवाइस ड्राईवर (द) उपरोक्त मे से कोई नहीं
32. निम्न मे से इंटरनेट के पिता के रूप मे जाने जाते हैं –
(अ) विंटन जी. सर्फ (ब) बिल गेट्स (स) इसाक न्यूटन (द) टीम ली
33. नेटस्केप नैविगेटर एक प्रकार का हैं –
(अ) यूटिलिटी प्रोग्राम (ब) ऑपरेटिंग सिस्टम (स) वेब आधारित प्रोग्राम (द) ब्राउजर
34. ………… को सर्विस प्रोग्राम भी कहा जाता हैं –
(अ) यूटिलिटी प्रोग्राम (ब) ऑपरेटिंग सिस्टम
(स) वेब आधारित प्रोग्राम (द) ब्राउजर
35. ध्वनि व संगीत को सुनने हेतु स्पीकर होता हैं –
(अ) आउटपुट डिवाइस (ब) इनपुट डिवाइस
(स) वेब आधारित प्रोग्राम (द) ब्राउजर
36. सॉफ्टवेयर का प्राथमिक उद्देश्य डेटा को किसमे परिवर्तित करना हैं –
(अ) वेबसाइट (ब) प्रोग्राम (स) इन्फॉर्मेशन (द) ओब्जेक्ट्स
37. तापमान, दबाव, गति आदि संकेतों के आधार पर कार्य करने वाले कम्प्यूटर कौनसे होते है-
(अ) डिजिटल कम्प्यूटर (ब) एनालॉग कम्प्यूटर
(स) (अ) और (ब) (द) कोई नहीं

अध्याय 1 – कम्प्यूटर का इतिहास

31. सॉफ्टवेयर का उद्देश्य है – आकड़ों, अनप्रोसेस्ड तथ्यों को सूचना (प्रोसेस्ड तथ्य) में बदलना।
32. कम्प्यूटर की विशेषताएं – गति (स्पीड), शुद्धता (एक्यूरेसी), उच्च संचयन क्षमता (हाई स्टोरेज कैपेसिटी), विविधता, परिश्रमशीलता (डिलिजेंस), सीमा (लिमिटेशन) आदि।
33. आईपोड्स या इन्टरनेट से वीडियों देखने के लिए आवश्यक – सॉफ्टवेयर, हार्डवेयर एवं इंटरनेट कनेक्शन।
34. प्रोग्राम का दूसरा नाम है – सॉफ्टवेयर।
35. सॉफ्टवेयर कितने प्रकार के होते हैं – सिस्टर सॉफ्टवेयर एवं एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर
36. सिस्टम सॉफटवेयर – यह प्रोग्रामों का संग्रह है, जो कम्प्यूटर को अपने आंतरिक संसाधनों का प्रबंधन करने में मदद करता है।
37. सिस्टम सॉफ्टवेयर के घटक – ऑपरेटिंग सिस्टम, यूटिलिटीज, डिवाइस ड्राइवर एवं सर्वर आदि।
38. ऑपरेटिंग सॉफ्टवेयर – यह सिस्टम सॉफ्टवेयर है जो कम्प्यूटर और उपयोगकर्ता (यूजर) के बीच इंटरफेस प्रदान करता है तथा कम्प्यूटर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर संसाधनों का प्रबंधन करता है। उदाहरण – विडोज ओएस, लिनक्स, यूनिक्स आदि।
39. प्रचलित ऑपरेटिंग सिस्टम है — विन्डोज 7, विन्डोज 8.1, विन्डोज 10, विन्डोज एक्सपी, मैक ओ एस, Ubuntu 14X, Open Suse, Google Chrome OS, Freebsd, Solaris etc.
40. यूटिलिटिज (सर्विस प्रोग्राम) का कार्य है – कम्प्यूटर संसाधनों के प्रबन्धन का कार्य।
41. अनावश्यक फाइलों को हटाकर फायलों को सुव्यवस्थित करता है – डिस्क डीफ्रैगमेंटर
42. एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर – इन्हे एंड यूजर प्रोग्राम भी कहते हैं, जो यूजर्स के लिए तैयार किए जाते हैं। जैसे वर्ड प्रोसेसर, वेब ब्राउजर, एक्सेल आदि।
43. वेब ब्राउजर – एक एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर है जो इंटरनेट पर उपलब्ध इनफोर्मेशन एवं कंटेट को खोजने में सहायक होता है।
44. सर्वाधिक प्रचलित ब्राउजर है – इंटरनेट एक्सप्लोरर, ळववहसम ब्ीतवउम थ्पतमविगए Safari, Opera एवं नेटस्केप नेवीगेटर ।
45. स्पेशलाइज्ड एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर – ग्राफिक्स, ऑडियो, विडियो, मल्टीमीडिया वेब लेखन, कृत्रिम बुद्वि (Artificial Intelligence)
46. सॉफ्टवेयर सूट – एप्लीकेशन सॉफ्टवेयर का समूह ।
47. हार्डवेयर – कम्प्यूटर के जिन कम्पोनेन्ट को छू कर महसूस कर सकते हैं, हार्डवेयर कहलाते हैं जैसे की-बोर्ड, माउस, मॉनिटर, प्रिटर, मदरबोर्ड, चिप्स, केबल, एक्सपेंशन कार्ड आदि।
48. इनपुट डिवाइस – डेटा और प्रोग्राम को कम्प्यूटर द्वारा प्रोसेस किये जाने वाले रूप में परिवर्तन करता है।
49. आउटपुट डिवाइस – प्रोसेस्ड सूचनाओं को यूजर के समझने योग्य रूप में प्रस्तुत करता है।
50. प्रोसेसिंग डिवाईस – इन्फोर्मेशन की प्रोसेसिंग के लिए जिम्मेदार – जैसे सीपीयू, मैमोरी और मदर बोर्ड डिवाइस आदि।
51. स्टोरेज डिवाइस -कम्प्यूटर के भीतर डेटा संग्रह करता है। उदाहरण – हार्ड डिस्क ड्राइव व कॉम्पेक्ट डिस्क ड्राइव,
52. इनपुट डिवाइस – ट्रेकबाल, टचपैड, माइक्रोफोन, की बोर्ड, सेंसर, माउस, जोस्टिक, स्केनर, वेब कैमरा आदि।
53. आउटपुट डिवाइस – मॉनिटर, प्रिन्टर, हैडफोन, स्पीकर, टचस्क्रीन, प्रोजेक्टर आदि।
54. कम्प्यूटर केवल विद्युत संकेतों (बाइनरी सिस्टम) को ही समझ सकता है।
55. कम्प्यूटर का IQ (Intelligent quotient) नहीं होता है। ।
56. यूटिलिटीज – यह सेवाएँ आपरेटिंग सिस्टम द्वारा दी जाती है। जैसे – डिस्क फ्रेग्मेंटर आदि।
57. डिस्क फ्रेग्मेंटर – यह अवांछनीय फाइलों को हटाने एवं डिस्क के संसाधनों को पूर्ण रूप से काम में लेने के लिए उपयोगी होता है। इस सुविधा में हम डिस्क स्पेस भी व्यवस्थित कर सकते है।
58. डिवाइस ड्राइवर – यह इनपुट और आउटपुट डिवाइस को शेष कम्प्यूटर प्रणाली के साथ संवाद (कम्यूनिकेशन) करने की अनुमति प्रदान करते हैं।
59. सर्वर – अलग-अलग यूजर द्वारा विभिन्न प्रकार के प्रोग्राम रन करने के लिए सर्वर की आवश्यकता होती है।