अर्द्ध विक्षेप विधि से धारामापी का प्रतिरोध तथा दक्षतांक ज्ञात करना half deflection method experiment class 12 in hindi

By  

half deflection method experiment class 12 in hindi अर्द्ध विक्षेप विधि से धारामापी का प्रतिरोध तथा दक्षतांक ज्ञात करना ?

प्रयोग संख्या
Experiment No.
उद्देश्य (Object):
अर्द्ध विक्षेप विधि से धारामापी का प्रतिरोध तथा दक्षतांक ज्ञात करना ।
उपकरण (Apparatus) :
धारामापी, बैटरी, उच्च प्रतिरोध बॉक्स (H.R.B), प्रतिरोध बॉक्स (R.B.), दो कुंजी तथा संयोजक तार आदि
परिपथ चित्र (Circuit Diagram):
सिद्धान्त (Theory):
यदि कुंजी K2 के खुले होने पर, धारामापी के श्रेणीक्रम में प्रयुक्त प्रतिरोध त्भ् के लिए कुंजी K1 के बन्द होपर धारामापी में विक्षेप n अंश हो तथा धारामापी के समान्तर क्रम में प्रतिरोध R प्रयुक्त कर कुंजी K2 के बन्द करने प यह विशेष आधा अर्थात् n/2 रह जाये तो
धारामापी का प्रतिरोध G = RH × R/ RH . R
तथा धारामापी का दक्षतांक X = 1/n = 1/n ;E/RH ़ G)
जहां RH = उच्च प्रतिरोध बॉक्स में प्रयुक्त प्रतिरोध, R = धारामापी के समान्तरक्रम में प्रयुक्त प्रतिरोध, E = सेल बैटरी) का विद्युत वाहक बल
प्रयोग विधि (Method)ः
सर्वप्रथम हम दिए गए प्रायोगिक व्यवस्था चित्रानुसार परिपथ संयोजन करते हैं।
अब हम बैटरी का विद्युत वाहक बल E तथा धारामापी के एक ओर के कुल अंशों की संख्या N नोट कर लेते हैं।
अब उच्च प्रतिरोध बॉक्स में कुछ प्रतिरोध (-4000 ओम से 5000 ओम) प्रयुक्त कर कुंजी K1 की डॉट लगा देते हैं, कुंजी K2 को खुला रखते हैं तथा उच्च प्रतिरोध बॉक्स में प्रतिरोध का मान RH इस प्रकार प्रयुक्त करते हैं कि धारामापी के विक्षेपित भागों की संख्या एक सम संख्या हो। माना यह n है।
अब कुंजी K2 की डॉट भी लगा देते हैं तथा R.B में इतना प्रतिरोध R प्रयुक्त करते हैं कि धारामापी का विक्षेप ठीक आधा अर्थात् n/2 हो जाए।
उपरोक्त पाठ्यांकों को प्रेक्षण सारणी में नोट कर लेते हैं तथा H.R.B. की सहायता से धारामापी के विक्षेप का भिन्न-भिन्न सम संख्याओं पर व्यवस्थित कर प्रयोग को पद 3 से 5 तक, 5 बार दोहराते हैं।
प्रेक्षण (Observations) :
सेल (बैटरी) का विद्युत वाहक बल E = …… वोल्ट
धारामापी के एक ओर के कुल भाग N = …..
क्रम
संख्या H.R.B.
में
प्रयुक्त
प्रतिरोध
RH
(ओम) धारामापी में विक्षेप
n (अंश) अर्द्ध
विक्षेप
n/2
अंश अर्द्ध-विक्षेप
के लिए
R.B. में
प्रयुक्त
प्रतिरोध
(ओम) धारामापी का
प्रतिरोध
G = RH × R
RH – R
(ओम)
धारामापी
का माध्यम
प्रतिरोध
G (ओम) धारामापी
का दक्षतांक
X = 1/n (E/RH़G)
ऐम्पियर/भाग
धारामापी
का माध्यम
दक्षतांक X
ऐम्पियर/भाग
1.
2.
3.
4.
5. G1 =
G2 =
G3 =
G4 =
G5 = X1 =
X2 =
X3 =
X4 =
X5 =

गणना (Calculation) :
1. प्रत्येक प्रेक्षण सेट से सूत्र G = RH × R/RH . R) द्वारा धारामापी के प्रतिरोध G से गणना करते हैं।
2. धारामापी के प्रतिरोध के प्राप्त मानों से धारामापी का माध्य प्रतिरोध ज्ञात कर लेते हैं। धारामापी का माध्य प्रतिरोध
G = G1 ़ G2 ़ G3 ़ G4़ G5/5 =…. ओम
3. प्रत्येक प्रेक्षण सेट से सूत्र X  = 1/n (E/RH़G) द्वारा धारामापी के दक्षतांक की गणना करते हैं।
4. अब दक्षतांक के प्राप्त मानों से धारामापी का माध्य दक्षतांक ज्ञात कर लेते हैं।
धारामापी का माध्य दक्षतांक X = X1 ़X2 ़ X3 ़ X4़ X5/5 =….ऐम्पियर/भाग
परिणाम (Result)ः
दिए गए धारामापी का प्रतिरोध ………… ओम तथा दक्षतांक ……….. एम्पियर/भाग प्राप्त होता है।
सावधानियां (Precautions):
परिपथ में HRB से निकाला गया प्रतिरोध उच्च होना चाहिए। इसके पश्चात् ही कुंजी K1 की डॉट लगा चाहिए।
2. प्रतिरोध R के मान में वृद्धि एवं कमी धीरे-धीरे करनी चाहिये।
सभी संयोजन दृढ़ होने चाहिये।
HRB द्वारा प्राप्त विक्षेप सम संख्या में होना चाहिए।
प्रतिरोध बॉक्सों में प्रयुक्त प्रतिरोधों के अतिरिक्त अन्य सभी डॉट्स कसी होनी चाहिए।
धारा अल्प समय के लिए प्रवाहित करनी चाहिए। प्रत्येक प्रेक्षण सेट के पश्चात् कुंजी K1 की डॉट निकाल देनी चाहिए।
मौखिक प्रश्न व उत्तर (Viva-Voce)ः
प्रयोग संख्या 7(B) के पश्चात् देखें।