सर्दियों संक्रांति महान संयोजन के रूप winter solstice great conjunction in hindi दो ग्रहों की शीतकालीन संक्रांति

By   December 20, 2020

winter solstice great conjunction in hindi (सर्दियों संक्रांति महान संयोजन के रूप) दो ग्रहों की शीतकालीन संक्रांति , winter solstice double planet in hindi : today doodle is shwoing something interesting on it’s doodle which incident happed in hundreds years in once. let discuss about this in detail ब्रह्माण्ड में उपस्थित शनि गृह और बृहस्पति ग्रह आपस में ऐसा संयोग करने जा रहे है जिसके बारे में पूरी दुनिया को बताने के लिए गूगल ने अपने डूडल पर इस नाम से डूडल लगाया है और इसको नाम दिया है सर्दी संक्रांति महान संयोजन।

हम आपको बता दे कि आज यानी 21 दिसम्बर को शनि और बृहस्पति ग्रह आपस में एक संयोजन करने जा रहे है और इस संयोजन में ये एक दुसरे को काफी निकट आ जायेंगे और ऐसा बहुत कम स्थितियों में होता है , ऐसा माना जाता है कि आज ये दोनों ग्रह आपस में बहुत निकट आ जायेंगे जिससे एक महान संयोजन का रूप बनेगा और इससे पूर्व यह महान रूप 1623 में देखा गया था। इसके बाद ये दोनों ग्रह आपस में इतने समीप कभी नहीं आये और यही कारण है कि इसको महान संयोजन के रूप में देखा जा सकता है।

यह एक खगोलीय घटना के रूप में देखा जा सकता है जिसके अंतर्गत ब्रह्माण्ड में स्थित शनि और बृहस्पति ग्रह जो आकार में भी काफी बड़े है एक दुसरे के पास या निकट आ जायेंगे और इस स्थिति को महान संयोजन की स्थिति कहा जाता है। इसे महान इसलिए कहा जाता है कि ऐसा बहुत कम होता है और इस दुर्लभ स्थिति को इसकी दुर्लभता के कारण इसको महान संयोजन कहा जाता है।

इस महान संयोजन के समय अर्थात 21 दिसम्बर की रात को जब शनि और बृहस्पति ग्रह आपस में एक दुसरे के समीप आ जायेंगे इस स्थिति में आकाश में एक दुर्लभ दृश्य का निर्माण होगा जो कई सैकड़ो वर्षो में एक बार देखने को मिलता है और यह दृश्य इस बार 21 दिसम्बर की रात को यानी आज रात को घटित होने जा रहा है , आप इस दृश्य को देख सके इसलिए गूगल को इसे डूडल पर लगाया है ताकि आप इस अभूतपूर्व दृश्य के बारे में और इस दृश्य के पीछे के कारण को अच्छी तरह समझ सके।

इसको “बृहस्पति-शनि J ग्रेट कॉनजंक्शन” कहा जा सकता है , अब आप सोच रहे होंगे की आप इस दृश्य को भारत देश में कहा देख सकते है तो हम आपको बता दे कि इस महान संयोजन की स्थिति को आप सोमवार के दिन यानी आज 21 दिसम्बर 2021 की रात को शाम को 6.30 से 7.30 बजे तक बेंगलुरु में स्थित जवाहरलाल नेहरू तारामंडल में इस खगोलीय घटना को देख सकते है इसके लिए यहाँ विशेष प्रकार की व्यवस्था की गयी है ताकि सैकड़ो वर्षो में घटित होने वाली इस आकाशीय घटना को आप देखना चुक नहीं जाए , याद रखिये की ऐसा माना जाता है कि 1623 के बाद आज पहली बार शनि और बृहस्पति ग्रह आपस में इतने समीप आ रहे है और इसकी वजह से आकाश में या अन्तरिक्ष में एक विशेष घटना का निर्माण होगा जिसे महान संयोजन नाम दिया जाता है।

भारत देश में कोरोना काल के चलते लोगो की अधिक भीड़ एकत्रित नहीं की जा सकती और साथ ही जो व्यक्ति आ रहे है उनके लिए विशेष इंतजाम किए जायेंगे जैसे देह से दूरी , मास्क , सैनेटाइजर आदि की उचित व्यवस्था। लेकिन भीड़ या लोगो की एकाएक भिड को कण्ट्रोल स्थिति में बनाये रखने के लिए यहाँ वही व्यक्ति इस आकाशीय घटना को देख सकता है जिसने ऑनलाइन अपना पंजीकरण करवाया है और जिसे आज्ञा दी गयी है केवल वे ही व्यक्ति तहखाने में यह दृश्य देखने के लिए जाने के लिए प्रतिबद्ध है।

बाकी लोगों से यह अनुरोध किया गया है कि वे इस दृश्य को घर पर रहकर इसे “www.taralaya.org” इस वेबसाइट पर लाइव देख सकते है इसमें आपको इस घटना को अर्थात दोनों ग्रहों के निकट आने की घटना को लाइव दिखाया जायेगा।

भारत में यह संयोग सबसे बड़ी रात के रूप में भी देखा जाता है , हम आपको बता दे कि 21 दिसम्बर हमारे देश में सबसे बड़ी रात के रूप में मानी जाती है अर्थात दुसरे शब्दों में हम कह सकते है कि इस दिन को सबसे छोटे दिन के रूप में देखा जा सकता है।