दल शिक्षण क्या है , दल शिक्षण की विशेषताएं की परिभाषा अर्थ किसे कहते है team teaching method in hindi

By  

team teaching method in hindi दल शिक्षण क्या है , दल शिक्षण की विशेषताएं की परिभाषा अर्थ किसे कहते है ?

दल शिक्षण का क्या सम्प्रत्यय है? दल शिक्षण के पाँच लाभ लिखिये।
What is concept of ‘Team Teaching?k~ Give five advantages Team-Teaching.
उत्तर-दल शिक्षण का अर्थ (Meaning of Team Teaching)- दल शिक्षण का आशय ऐसे शिक्षण से है जिसमें एक से अधिक अध्यापक मिलकर अपनी-अपनी योग्यता एवं कौशल का प्रयोग करते हुए, एक कक्षा में, एक साथ शिक्षण करते हैं।
कार्लो आलसन के अनुसार, “दल शिक्षण अनुदेशन परिस्थितियों को उत्पन्न करने की एक प्रविधि है जिसमें दो या दो से अधिक अध्यापक अपने कौशल तथा शिक्षण योजना का छात्रों के एक समूह के शिक्षण में सहयोग करते हैं जिसमें लचीली योजना प्रयोग में लाई जाती है जो किसी विशिष्ट अनुदेशन की आवश्यकतानुसार बदली भी जा सकती है।”
शेफलिन तथा ओल्डस के अनुसार, “दल शिक्षण एक अनुदेशनात्मक संगठन है जिसमें अध्यापकों को कुछ छात्र सौंप दिये जाते हैं। इन छात्रों के समूह को दो या दो से अधिक अध्यापक एक साथ मिलकर प्रयत्न करते हुए शिक्षा देते हैं।ष्
देसाई ने शिक्षण की इस विधि का परिभाषित करते हुए लिखा है, “दल शिक्षण एक प्रकार की शिक्षण व्यवस्था है जिसमें दो या दो से अधिक शिक्षकों को पूर्ण अथवा आशिक रूप से पाठ्यवस्तु के शिक्षण का दायित्व सौंपा जाता है। ये शिक्षक एक ही कक्षा को एक साथ पढ़ाते हैं।”
दल-शिक्षण के लाभ-दल शिक्षण के निम्न लाभ हैं अथवा दल-शिक्षण की आवश्यकता निम्न कारणों से बढ़ती जा रही है-
1. शिक्षकों का अभाव-सरकार प्रबन्ध साधनों के अभाव के कारण पर्याप्त संख्या में शिक्षकों की नियुक्ति नहीं कर पाती है। इससे शिक्षकों का अभाव रहता है। दल-शिक्षण द्वारा यह अभाव खलता नहीं है।
2. छात्र संख्या में वृद्धि- छात्र संख्या में निरन्तर वृद्धि हो रही है । कक्षा में अनुशासन व नियन्त्रण बनाये रखने के लिये एक से अधिक शिक्षकों की आवश्यकता महसूस की जाती है।।
3. विज्ञान की प्रगति-आज विज्ञान की उन्नति के कारण एक अध्यापक शिक्षण, तकनीकी कार्य एवं विद्युत कर्मचारी का कार्य नहीं किया जा सकता। इसीलिये दल-शिक्षण आवश्यक है।
4. पाठ्यक्रमों में परिवर्तन-पाठ्यक्रमों में आये दिन परिवर्तन किये जाते हैं। नवीन तकनीकी विषयों का शिक्षण अकेला शिक्षक नहीं करा सकता इसलिये अन्य शिक्षकों का सहयोग आवश्यक है।
5. ज्ञान में वृद्धि-जमाने के साथ विषयों में सम्बन्धित ज्ञान में उल्लेखनीय वृद्धि हई है। दल-शिक्षण से विशिष्टीकृत ज्ञान प्रदान करने में सहायता मिलती है।
6. नवीन शिक्षण योजनाओं का विकास-आज विगत कुछ वर्षों में विभिन्न विद्वानों के कछ विशिष्ट योजनाओं का विकास किया है। शिक्षण योजनायें छात्रों की व्यक्तिगत विभिन्नताओं के अनुसार शिक्षण कार्य करने पर बल देती है। यह कार्य दल शिक्षण सहयोग द्वारा किया जाता है।