Tag Archives: चार्वाक नीतिशास्त्र

अस्तित्ववाद का अर्थ और परिभाषा क्या है , अस्तित्ववादी दर्शन के जनक कौन है Existentialist Ethics

ethicssociologyadmin0

Existentialist Ethics in hindi अस्तित्ववाद का अर्थ और परिभाषा क्या है , अस्तित्ववादी दर्शन के जनक कौन है ?  अस्तित्ववादी नैतिकता – जीन पॉल सात्र्र (Existentialist Ethics – Jean Paul Sartre) 20वीं शताब्दी के महान अस्तित्ववादी दार्शनिक सात्र्र वस्तुतः बौद्ध लोकप्रिय दार्शनिकों में से एक हैं। सात्र्र को अस्तित्ववादी दर्शन का जनक भी कहा जाता है। अस्तित्ववाद को ज्यादातर एक दार्शनिक और सांस्कृतिक आन्दोलन के रूप में देखा जाता है। व्यक्तिगत दार्शनिक विचार तथा अनुभव से ही अस्तित्ववाद की शुरुआत मानी जाती है। अस्तित्ववादियों का मानना है कि पारम्परिक दर्शन […]

error: Content is protected !!