कोलाइड के उपयोग Uses of colloid in hindi

Uses of colloid in hindi कोलाइड के उपयोग : 

(1) जल को स्वच्छ करने में :

प्राकृतिक स्रोतों से प्राप्त जल में मिट्टी के कोलाइडी कण होते है। इसमें फिटकरी (पोटाश ऐलम ) डालने पर फिटकरी के धनायनों द्वारा मिट्टी के कणों का स्कन्दन हो जाता है इन्हें छानकर हटा देते है।

(2) गन्दे वस्त्र को स्वच्छ करने की क्रियाविधि : (अध्ययन कर चुके )

(3) औषधि के रूप में :

कोलॉइडी औषधियाँ अधिक प्रभावी होती है क्योंकि इनमें अधिशोषण की क्षमता अधिक होती है ये निम्न है

 1. Ag सॉल (अर्जिरॉल )  नेत्र संक्रमण उपचार में
 2. Sb सॉल  कालाजार उपचार में
 3.   Sसॉल  चर्म रोग के उपचार में
 4. मिल्क ऑफ़ मैग्निशिया  उदर रोग के उपचार में
 5. Au सॉल  अन्तः पेशी इंजेक्शन में

(4) चर्म उद्योग में :

चर्म जैली जैसा पदार्थ है इसमें प्रोटीन के धनावेशित कोलाइडी कण होते है इसे टेनिन अम्ल (ऋणावेशित सॉल ) में डालने पर चमड़ी की सतह पर स्कंदन हो जाता है जिससे चमड़ी कठोर हो जाती है इससे जूते , चप्पल , पर्स आदि बनाये जाते है।

(5) रबर उद्योग में :

रबर के पेड़ से प्राप्त गाढ़े दूधिया द्रव को लेटेक्स या रबर क्षीर कहते है। इसमें रबर के कोलाइडी कण होते है लेटेक्स को गर्म करने पर रबर के कोलाइडी कणों का स्कन्दन हो जाता है अर्थात रबर प्राप्त होता है।

(6) फोटोग्राफी में :

जिलेटिन में AgBr के कोलॉइडी कण होते है इस विलयन का लेप फोटोग्राफी प्लेट पर कर दिया जाता है।

(7) धूम्र के विधुत अवक्षेप में :

कारखानों से निकलने वाले धुँए में कार्बन आर्सेनिक के कण होते है इसे कॉट्रेल अवक्षेप में से गुजारते है। कॉट्रेल अवक्षेप में उच्च विधुत विभव के कारण कार्बन तथा आर्सेनिक के कणो का स्कन्दन हो जाता है ये पैंदे में एकत्रित हो जाते है।

कोलाइड क्या है परिभाषा व कोलाइडी विलयन की प्रावस्था colloid definition and solution

What is colloid definition and phase of colloid solution कोलाइड क्या है परिभाषा व कोलाइडी विलयन की प्रावस्था

कोलाइड (Colloid): थॉमस ग्राहम के अनुसार वे पदार्थ जो जन्तु झिल्ली में से विसरित हो जाते है उन्हें क्रिस्टलॉइड कहते है।  जैसे नमक , यूरिया विलयन।

वे पदार्थ जो जन्तु झिल्ली में से विसरित नहीं होते उन्हें कोलाइड कहते है।

जैसे : स्टार्च , गोंद , जलेडीन आदि।

थॉमस ग्राहम का यह वर्गीकरण उचित नहीं है क्योंकि नमक जल में क्रिस्टलॉइड की तरह जबकि एल्कोहल में कोलाइड की तरह व्यवहार करता है।

उपरोक्त कथन से स्पष्ट है की कोलाइड कोई पदार्थ नहीं है परन्तु पदार्थ की एक अवस्था है जिसके कणों का आकार 1nm से 1000nm या 10-9 meter से  10-6 m होता है।

विलयन के प्रकार :

कणो के आधार पर विलयन तीन प्रकार के होते है।

1. वास्तविक विलयन : इनके कणो का आधार 1nm से कम होता है।

2. कोलाइडी विलयन : इनके कणो का आकार 1nm से 1000nm होता है।

3. विलम्बन : इनके कणो का आकार 1000nm से अधिक होता है , इन कणों को आखों से देख सकते है।

कोलॉइडी विलयन की प्रावस्था (Phase of colloidis):

कोलाइडी विलयन में दो प्रावस्थायें होती है।

1. परिक्षित प्रावस्था :

कोलाइडी विलयन में उपस्थित कोलाइडी कणों की प्रावस्था को परिक्षित प्रावस्था कहते है इसे विलेय के समान माना जाता है।

2. परिक्षेपण माध्यम :

कोलाइडी कण जिस माध्यम में वितरित रहते है उसे परिक्षेपण माध्यम कहते है।  इसे विलायक के समान माना जाता है।