विपुंसन से क्या तात्पर्य है ? एक पादप प्रजनक कब और क्यों इस तकनीक का प्रयोग करता है ?

Solved27 viewsChemistry
19
सब्सक्राइब करे youtube चैनल

प्रश्न : विपुंसन से क्या तात्पर्य है ? एक पादप प्रजनक कब और क्यों इस तकनीक का प्रयोग करता है ?

इसका उत्तर आप भी लॉग इन करके दे सकते है और अपना खुद का उत्तर यहाँ दिखा सकते है |

Question is closed for new answers.
admin Selected answer as best 4 days ago
20
सब्सक्राइब करे youtube चैनल

प्रश्न 15. विपुंसन से क्या तात्पर्य है? एक पादप प्रजनक कब और क्यों इस तकनीक का प्रयोग करता है?
उत्तर :
विपुंसन (Emasculation) – द्विलिंगी पुष्पों के अन्दर पराग प्रस्फुटन के पहले पुष्प कलिका से चिमटी की सहायता से परागकोश को अलग करने को विपुंसन (emasculation) कहते हैं।
पादप प्रजनक (plant breeder) : इस तकनीक का उपयोग कृत्रिम संकरण (artificial hybridization) के लिए किया जाता है। विपुंसन और बोरावस्त्र तकनीक (बैगिंग-Bagging) द्वारा फसलों की उन्नत किस्में विकसित की जाती हैं जिससे कृषि क्षेत्र में उत्पादन आदि में काफी सुधार संभव हो पाया है |

जब एक द्विलिंगी पुष्प कली अवस्था में होता है उस समय यदि परागकोष को काटकर पृथक कर लिया जाता है तो इस प्रक्रिया को ही विपुंसन (emasculation) कहा जाता है |
अब बात आती है कि ऐसा क्यों किया जाता है ?
विपुंसन (emasculation) एक कृत्रिम परागण की एक तकनीक का प्रकार है जिसकी सहायता से पादप प्रजनक के माध्यम से आर्थिक महत्व के पौधों की अच्छी नस्लों का विकास किया जाता है |
विपुंसन (emasculation) यह ध्यान रखा जाता है की एच्छिक वर्तिकाग्र युक्त पौधों पर ही परागण हो |

admin Selected answer as best 4 days ago