मानियारो का राजकुमार कौन था maniyaro ka rajkumar in hindi ‘मनियरों का राजकुमार‘ किसे कहा जाता है ?

By   May 16, 2021

‘मनियरों का राजकुमार‘ किसे कहा जाता है ?  maniyaro ka rajkumar in hindi मानियारो का राजकुमार कौन था  ?

प्रश्न –  ‘मनियरों का राजकुमार‘ किसे कहा जाता है?
(अ) इब्राहीम लोधी (ब) मोहम्मद बिन तुगलक
(स) बाबर (द) अकबर
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2015
उत्तर-(ब)
मुहम्मद बिन तुगलक को ‘मनियरों का राजकुमार‘ कहा जाता है।

1. स्वयं को दूसरा सिकंदर (सिकंदर-ए-सानी) कहने वाला सुल्तान था-
(अ) बलबन (ब) अलाउद्दीन खिलजी
(स) मुहम्मद बिन तुगलक (द) सिकंदर लोदी
S.S.C. मैट्रिक स्तरीय परीक्षा, 2008
उत्तर-(ब)
अलाउद्दीन खिलजी स्वयं को दूसरा सिकंदर (सिकंदर-ए-सानी) कहता था। यह खिलजी वंश का सबसे योग्य शासक था। इसने ‘यामिन-उल-खिलाफत-नासिरी-उल-मोमिनीन‘ की उपाधि ग्रहण की थी।
2. सल्तनत वंश की विशालतम स्थायी सेना, जिसका भुगतान सीधा राज्य द्वारा किया जाता था, बनाई थी-
(अ) इल्तुतमिश ने (ब) अलाउद्दीन खिलजी ने
(स) मुहम्मद बिन तुगलक ने (द) सिकंदर लोदी ने
S.S.C. मैट्रिक स्तरीय परीक्षा, 2008
उत्तर-(ब)
अलाउद्दीन खिलजी ने अपने शासनकाल में सेना को नकद वेतन देने तथा स्थायी सेना रखने की शुरुआत की उसने घोड़ा दागने एवं सैनिकों का हुलिया लिखने की प्रथा भी शुरू की।
3. दक्षिण विजय करने का मिशन अलाउद्दीन खिलजी ने किसे सौंपा?
(अ) शाजी मलिक (ब) खिज्र खान
(स) मलिक काफूर (द) उलूग खान
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2015
उत्तर-(स)
मदुरई, पांड्य राज्य की राजधानी थी। 1311 ई. में दिल्ली के सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी के सेनापति (जनरल) के रूप में मलिक काफूर ने यहां आक्रमण किया। यहां का शासक वीर पांड्य राजधानी छोड़कर भाग गया। मदुरई तक पहुंचने वाला मलिक काफूर दिल्ली का प्रथम जनरल था। इसने देवगिरि, वारंगल, काकतीय तथा मदुरा आदि राज्यों को विजित किया।
4. बाजार विनियमन प्रणाली आरंभ की गई थी-
(अ) मुहम्मद बिन तुगलक द्वारा (ब) इल्तुतमिश द्वारा
(स) अलाउद्दीन खिलजी द्वारा (द) गयासुद्दीन द्वारा
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2013
उत्तर-(स)
बाजार विनियमन प्रणाली, अलाउद्दीन खिलजी द्वारा आरंभ की गई थी। अलाउद्दीन के बाजार नियंत्रण की पूरी व्यवस्था का संचालन ‘दीवान-ए-रियासत‘ नामक अधिकारी करता था।
5. वह सुल्तान कौन था, जिसने खलीफा के अधिकार को मानने
से इंकार कर दिया था?
(अ) अलाउद्दीन खिलजी (ब) गयासुद्दीन खिलजी
(स) मुहम्मद बिन तुगलक (द) कुतुबुद्दीन मुबारक
S.S.C. मैट्रिक स्तरीय परीक्षा, 2008
उत्तर-(अ)
अलाउद्दीन खिलजी ने खलीफा के अधिकारों को मानने से इंकार कर दिया था, जबकि कुतुबुद्दीन मुबारक खिलजी ने स्वयं को खलीफा घोषित किया था। अलाउद्दीन खिलजी के बचपन का नाम ‘अली गुरशास्प‘ था।
6. निम्नलिखित में से किसे ‘भारत का तोता‘ कहा जाता है?
(अ) हुसैन शाह (ब) अमीर खुसरो
(स) बारबक शाह (द) नानक
S.S.C. मल्टी टास्किंग परीक्षा, 2014
उत्तर-(ब)
अमीर खुसरो को तूति-ए-हिंद अथवा ‘भारत का तोता‘ कहा जाता है।
7. निम्नलिखित में से, बलबन से लेकर गयासुद्दीन तुगलक तक, सभी सुल्तानों के संरक्षण का किसने उपभोग किया? (अ) बदायूंनी (ब) जियाउद्दीन बरनी
(स) अमीर खुसरो (द) इब्नबतूता
S.S.C. संयुक्त स्नातक स्तरीय (Tier-I) परीक्षा, 2013
उत्तर-(स)
अमीर खुसरो ने दिल्ली सल्तनत के शासक बलबन से लेकर गयासुद्दीन तुगलक तक सभी सुल्तानों का संरक्षण प्राप्त किया था। 1253 ई. में उत्तर प्रदेश के पटियाली कस्बे में जन्मे, अमीर खुसरो का मूल नाम अबुल हसन अमीर खुसरु था।
8. किस कारण से मुहम्मद बिन तुगलक असफल व्यक्ति था?
(अ) वह विक्षिप्त था
(ब) वह व्यावहारिक राजनेता नहीं था
(स) उसने राजधानी दूसरे शहर को बनाया
(द) उसने चीन के साथ युद्ध किया
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2011
उत्तर-(ब)
मुहम्मद बिन तुगलक को असफल व्यक्ति मानने का सर्वप्रथम कारण यह है कि वह व्यावहारिक राजनेता नहीं था। वस्तुतः वह राजधानी परिवर्तन, प्रतीक मुद्रा आदि तत्कालीन रूप से अव्यावहारिक अनेक राजनीतिक प्रयोगों के कारण ही असफल शासक सिद्ध हुआ।
9. वर्तमान दौलताबाद जहां मुहम्मद बिन तुगलक ने दिल्ली से राजधानी को स्थानांतरित किया था, किसके समीप स्थित है-
(अ) मैसूर (ब) औरंगाबाद
(स) निजामाबाद (द) भोपाल
S.S.C. मल्टी टास्किंग परीक्षा, 2014
उत्तर-(ब)
दौलताबाद (अहमदनगर जिले में स्थित) महाराष्ट्र का एक नगर है। इसका प्राचीन नाम ‘देवगिरी‘ है। इसके समीप का जिला औरंगाबाद है।
10. ब्राह्मणों पर भी जजिया लगाने वाला दिल्ली सुल्तान कौन था?
(अ) फिरोज तुगलक (ब) मुहम्मद तुगलक
(स) बलबन (द) अलाउद्दीन खिलजी
S.S.C. संयुक्त स्नातक स्तरीय (Tier-I) परीक्षा, 2014
उत्तर-(अ)
ब्राह्मणों पर भी जजिया लगाने वाला दिल्ली का सुल्तान फिरोज तुगलक था। उसने हिंदुओं को ‘जिम्मी‘ (इस्लाम स्वीकार न करने वाला) कहा। उल्लेखनीय है कि भारतीय उपमहाद्वीप में सर्वप्रथम जजिया कर प्रतिरोपित करने का श्रेय मुहम्मद गोरी को है।
11. भारत में चमड़े की प्रतीक मुद्रा किसने प्रारंभ की?
(अ) अकबर (ब) मुहम्मद बिन तुगलक
(स) बाबर (द) हुमायूं
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2014
उत्तर-(ब)
भारत में चमड़े की प्रतीक मुद्रा, मुहम्मद बिन तुगलक ने प्रारंभ की थी।

13. कुतुबमीनार को जैसे हम आज उसे देखते हैं, अंततः पुनर्निर्माण किया गया था?
(अ) बलबन द्वारा (ब) अलाउद्दीन खिलजी द्वारा
(स) सिकंदर लोदी द्वारा (द) फिरोज तुगलक द्वारा
S.S.C. स्टेनोग्राफर परीक्षा, 2011
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2010
उत्तर-(द)
कुतुबमीनार को जैसा आज हम देखते हैं, इस रूप में अंततः उसका पुनर्निर्माण फिरोज शाह तुगलक द्वारा कराया गया था।
14. किस वंश के सुल्तानों ने सबसे अधिक समय तक शासन किया था?
(अ) खिलजी वंश (ब) तुगलक वंश
(स) दास वंश (द) लोदी वंश
S.S.C. स्टेनोग्राफर परीक्षा, 2011
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2010
उत्तर-(ब)
दिए गए वंश एवं उनके शासन की अवधि निम्नानुसार है-
दास वंश – 1206-1290 ई.
खिलजी वंश – 1290-1320 ई.
तुगलक वंश – 1320-1414 ई.
लोदी वंश – 1451-1526 ई.
15. नीचे दिए गए दिल्ली के सुल्तानों के वंशों को कालानुक्रम में व्यवस्थित कीजिए-
1. खिलजी 2. तुगलक
3. सैय्यद 4. गुलाम
(अ) 4,1,3,2 (ब) 1,4,2,3
(स) 1,2,3,4 (द) 4,1,2,3
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2013
उत्तर-(द)
दिल्ली सल्तनत पर शासन करने वाले वंशों का कालानुक्रम निम्नानुसार हैगुलाम (1206-1290ई.), खिलजी (1290-1320 ई.), तुगलक (1320-1414 ई.) एवं सैय्यद (1414-1450 ई.)।
16. निम्नलिखित में से किस सुल्तान ने सती प्रथा रोकने का प्रयास किया?
(अ) अलाउद्दीन खिलजी (ब) मुहम्मद बिन तुगलक
(स) जलालुद्दीन खिलजी (द) फिरोज तुगलक
S.S.C.C.P.O. परीक्षा, 2015
उत्तर-(इ)
सती प्रथा को रोकने का प्रयास करने वाला दिल्ली सल्तनत का सुल्तान मुहम्मद बिन तुगलक था। वह होली में भी हिस्सा लेता था।
17. यात्री इब्नबतूता कहां से आया था?
(अ) मोरक्को (ब) फारस
(स) तुर्की (द) मध्य एशिया
S.S.C.k~ Tax Asst. परीक्षा, 2006
उत्तर-(अ)
इब्नबतूता, मोरक्को का निवासी था। विभिन्न देशों की यात्रा के बाद वह 1333 ई. में मुहम्मद बिन तुगलक के शासनकाल में भारत आया। सुल्तान ने इसे दिल्ली का काजी नियुक्त किया। 1342 ई. में मुहम्मद बिन तुगलक ने इसे अपने राजदूत के रूप में चीन भेजा। स्वदेश लौटने पर इसने ‘रेहला‘ नामक ग्रंथ में अपने यात्रा संस्मरणों का संकलन किया।
18. इब्नबतूता किसके शासनकाल में भारत आया था?
(अ) इल्तुतमिश (ब) अलाउद्दीन खिलजी
(स) मुहम्मद बिन तुगलक (द) बलबन
S.S.C.k~ Tax Asst. परीक्षा, 2008
उत्तर-(स)
उपर्युक्त प्रश्न की व्याख्या देखें।
19. लोधी वंश का संस्थापक कौन था?
(अ) इब्राहीम लोदी (ब) दौलत खान लोदी
(स) बहलोल लोदी (द) सिकंदर लोदी
S.S.C. संयुक्त स्नातक स्तरीय (Tier&I) परीक्षा, 2015
उत्तर-(स)
लोदी वंश का संस्थापक बहलोल लोदी (1451-1489) था उसने सैयद वंश के अंतिम शासक अलाउद्दीन आलमशाह (1445-1450) को अपदस्थ कर दिल्ली का सिंहासन प्राप्त किया था।
20. दिल्ली सल्तनत का राज्यकाल कब समाप्त हुआ?
(अ) 1498 ई. (ब) 1526 ई.
(स) 1565 ई. (द) 1600 ई.
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2014
उत्तर-(ब)
तराइन के द्वितीय युद्ध के पश्चात, मुहम्मद गोरी ने कुतुबुद्दीन ऐबक को भारतीय साम्राज्य का गवर्नर नियुक्त किया था। गोरी के मृत्यु के बाद 1206 ई. में दिल्ली सल्तनत की नींव पड़ी थी और फरगना शासक बाबर व दिल्ली सल्तनत के सुल्तान इब्राहिम लोदी के मध्य 21 अप्रैल, 1526 को पानीपत का प्रथम युद्ध हुआ। जिसमें बाबर की विजय के साथ दिल्ली सल्तनत का अंत हो गया और मुगल वंश का साम्राज्य स्थापित हो गया।
21. दिल्ली सल्तनत का अंतिम वंश क्या था?
(अ) गुलाम वंश (ब) सैयद वंश
(स) खिजली वंश (द) लोदी वंश
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2015
उत्तर-(द)

दिल्ली सल्तनत का अंतिम वंश लोदी था। इस वंश का संस्थापक बहलोल लोदी था जबकि अंतिम शासक इब्राहिम लोदी था।
22. निम्नलिखित का मिलान कीजिए-
सूची I                                   सूची II
(अ) तुगलकाबाद किला         1. अलाउद्दीन खिलजी
(ब) लाल किला (दिल्ली का)    2. शाहजहां
(स) हौज खास                     3. फिरोज शाह तुगलक

(द) द सिटी ऑफ सिरी,         4. गयासुद्दीन तुगलक कूट:
A B C D
(अ) 1 2 3 4
(ब) 4 2 3 1
(स) 4 3 2 1
(द) 3 1 4 2
S.S.C.Tax Asst. परीक्षा, 2009
उत्तर-(ब)
प्रश्न में दिए गए स्थापत्य और उनसे संबंधित शासकों का सुमेलन निम्नानुसार है-
स्थापत्य शासक
तुगलकाबाद किला – गयासुद्दीन तुगलक
लाल किला (दिल्ली का) – शाहजहां
हौज खास – फिरोज शाह तुगलक
द सिटी ऑफ सिरी – अलाउद्दीन खिलजी