Preprocessor : Compiler Control Directives in hindi कम्पाइलर कण्ट्रोल डायरेक्टिव क्या है c कंप्यूटर भाषा में हिंदी में

By  
कम्पाइलर कण्ट्रोल डायरेक्टिव क्या है c कंप्यूटर भाषा में हिंदी में Preprocessor : Compiler Control Directives in hindi :-

जब किसी large प्रोग्राम को run करते है तभी कुछ प्रॉब्लम आती है :-

1. जब किसी प्रोग्राम मे macro को define किया जाता है|तो ये पता लगाना मुश्किल है की macro define होता है या नहीं |
2.जब कोई यूजर दो अलग अलग कंप्यूटर के लिए प्रोग्राम बनता है तब कुछ lines की जरुरत होती उन प्रोग्राम को दो दो अलग अलग कंप्यूटर मे run करने के लिए|
3.जब हम अलग अलग कस्टमर के लिए प्रोग्राम बनाते है तब केवल एक प्रोग्राम उन दोनों कस्टमर्स  के लिए बनाना पड़ता है |
 इन सभी प्रॉब्लम का एक solution होता है अलग अलग प्रोग्राम को develop करना अलग अलग condition के लिए |
या फिर एक प्रोग्रम को develop करना जिसमे कई ऑप्शनल code होगे और किसी condition के फॉलो होंव पर control उए sepcific code पर मूव हो जायेगा |इस प्रोसेस को Compiler Control Directives कहते है |इस प्रोसेस मे lines को switch on और off कर सकते है |
Condition 1 
इस प्रकार  मे condition को macro मे define की जाती है |इस condition मे macro हमेशा declare होगा जो की condition expression हो hold करेगा |जैसे
#include “filename “
#ifndef  MACRO_NAME 
#define  MACRO_NAME 1
#endif
इस syntax मे, file name उस file का नाम है जिसमे MACRO_NAME की डेफिनिशन होती है |
#ifndef  MACRO_NAME statement से macro_name की definition को file _name मे search होती है |अगर  MACRO_NAME की definition file name मे नहीं होती तब  ‘#ifndef’ और ‘#endif’ के बीच की सभी statements perform होगी |
और अगर MACRO_NAME की definition मिलती है तब macro statement का declartion नहीं होगा |
Condition 2 
जब किसी प्रोग्राम को सभी कंप्यूटर के लिए पोर्टेबल बनाने के लिए इस तरह के प्रोग्रामिंग का use करेगे |इअका syntax है :-
main()
{
statement 1;
statement 2;
#ifdef MAC_BOOK
{
statement for portabality;
}
else
{
statement for portablity for Normal HP machine;
}
#endif
staement 3;
statement 4;
}
अगर MAC_BOOK  define होता है complier ,mac book के लिए code को perform करता है |नहीं तो नार्मल HP machine को code perform होता है |
Condition 3.
ये syntax condition 2 की तरह होते है जैसे
main()
{
statement 1;
statement 2;
#ifdef customer 1
{
statement;
}
else
{
code for customer 2;
}
#endif
staement 3;
statement 4;
}
जब customer 1 define होता है तब customer 1 से associate code perform होगा |और नहीं तो customer 2 का code perform होगा |
ANSI Addition :
ANSI addition से C language मे पहले से define preprocessor के आलावा दुसरे preprocessor को add कर सकते है |
1.#elif directive
इस preprocessor से if…else….if sequenceको बनता है |इसका उदाहरन है :-
#if  expression 1
statement1 
#elif expression 2
statement 2
……………..
……………..
#elif expression N
statement N
 
#endif
उदाहरण के लिए :
 
#if MACHINE==MAC
#define FILE “mac.h”
#elif MACHINE==HP
#define FILE “hp.h”
 
#elif MACHINE==WIPRO
#define FILE “wipro.h”
#endif
2.#pragma Directive
ये statement implementation oriented directive है जो कई प्रकार के statement कोम्प्लिएर को देता है |जैसे time और space optimization |इसका  syntax है :-
#pragma name;
इसमें name ,pragma का नाम है जिसे यूजर use करना चाहता है |इसका उदाहरण है :-
#pragma loop_optimization(on);
 
इस statement से किसी loop को optimize करने के लिए  किया जाता है |
3.#error
इस statement का use ,error message को produce करने के लिए किया जाता है |इसका syntax है :-
#error message
ये statement error message produce होता है और प्रोग्रम terminate हो जाता है |
उदाहरण के लिए :
#if !defined(FILE_G)
#error NO GRAPHIC CARD
#endif
4.Stringing operator
इस operator का use ,macro statement मे string को define करने के लिए किया जाता है |इस operator से किसी macro statement के formal  argument को string मे convert कर सकते है |
जैसे
#define sub(ab) printf(#ab ” = %d \n “, ab)
main()
{
……………
……………
sub(a-b);
}
इस article मे हमने Compiler Control Directives और ANSI addition को पढ़ा |age आने वाले article मे macro based example को पढेगे |