क्रोमेटिन किसे कहते हैं | क्रोमेटिन की परिभाषा क्या है किससे बना होता है अर्थ मतलब chromatin in hindi

By  

chromatin in hindi meaning and definition क्रोमेटिन किसे कहते हैं | क्रोमेटिन की परिभाषा क्या है किससे बना होता है अर्थ मतलब ?

क्रोमेटीन (Chromatin)

न्यूक्यिोप्लाज्म (nucleoplasm) में जो केन्द्रकजालिका दिखाई देती है वह वास्तव में असंख्य (numerous), हल्की अभिरंजित टेढ़ी-मेढ़ी धागेनुमा संरचनाएं धंसी रहती हैं इन्हें क्रोमेटिन धागे (chromatin thread) या क्रोमोनिमेटा (chromonemata) कहते हैं। हल्की कुण्डलित (coiled) क्रोमोनिमेटा (chromonemata) आपस में गुंथकर (anastomose) जालिका (net work) बनाते हैं। क्रोमेटिन, जालिका या ऐक्रोमेटीन (achromatin) की बनी होती है। ये अम्लीय रंजकों (acidic dyes) से गहरी तथा क्षारीय रंजकों (basic dyes) से हल्की अभिरंजित होती है। सूक्ष्म क्रोमेटिन धागे गहरी अभिरंजित क्रोमेटिन कणिकाओं (chromatin granules) या क्रोमोमीअर (chromomere) मोती की माला सदृश दिखाई देते हैं। कोशिका विभाजन के समय केन्द्रकीय जालिका (nuclear reticulum) या क्रोमेटिन जालिका (chromatin network) संघनित (condense) होकर धागे या शलाका (rod) जैसी संरचनाएँ बनाते हैं जिन्हें गुणसूत्र (chromosome) कहते हैं । गुणसूत्र केन्द्रक विभाजन में अपनी उपस्थिति बनाए रखते हैं।
क्रोमेटीन के प्रकार (Types of Chromatin)
यह दो प्रकार के होते हैंः–
(1) यूक्रोमेटीन (Euchromatin)
(2) हीटरोक्रोमेटीन (Hetero chromatin)
(1) यूक्रोमेटिन (Euchromatin)
अन्तरावस्था में क्रोमोसोम की क्रोमेटिन (chromatin) सूक्ष्म धागों (fine threads) के रूप में फैली रहती है। क्रोमोसोम में क्रोमेटिन यूक्रोमेटीन तथा हीटरोक्रोमेटिन में विभाजित रहता है। कुछ स्थानों पर क्रोमेटिन संघनित (condense) तथा गहरी अभिरंजित होता है। यह स्थल हीट्रोक्रोमेटिन (heterochromatin) श्कहलाते हैं। इनके अलावा विसरित स्थल (dispersed region) यूक्रोमेटिन (euchromatin) कहलाते हैं। यूकोमेटिन (euchromatin) तथा हीट्रोक्रोमेटिन (heterochromatin) डीएनए से बनते हैं। यूक्रोमेटीन व हीटरोक्रोमेटीन में निम्नलिखित तुलनात्मक लक्षण इस प्रकार हैं

सारणी 1.3: यूक्रोमेटिन तथा हीटिरोक्रोमोटिन में तुलना
क्र.सं. यूक्रोमेटिन हीटिरोक्रोमेटिन
1. यह रंगने पर हल्का रंग लेता है। यह गहरा रंग लेता है।
2. यह गु सूत्रों के असंगठित व कुण्डलित स्थानों में पाया जाता है। यह गुणसूत्रों के संघनित (condensed) स्थानों में पाया जाता है।
3. इस पर वातावरणीय कारक जैसे तापमान, लिंग, आयु इत्यादि का प्रभाव अपेक्षाकृत कम होता है। इस पर वातावरणीय कारकों का प्रभाव अपेक्षाकृत ज्यादा होता है।
4. यूक्रोमेटिन में क्रोसिंग ओवर की आवृत्ति (frequencey of crossing over) अपेक्षाकृत अधिक होती है। इनमें क्रोसिंग ओवर की आवृत्ति अपेक्षाकृत कम होती है।
5. इसका डीएनए आनुवांशिकी आधार पर अधिक सक्रिय होता है। इसका डीएनए कम सक्रिय होता है।
6. ये ज्यादा सक्रिय रहते हैं।
ये कार्यप्रणाली के आधार पर कम सक्रिय होते हैं।

7. इसका विभाजन कोशिका चक्र के 5 फेज के शुरू में होता है। इसका विभाजन कोशिका चक्र के 5 फेज के अंत में होता है।
क्रोमोसेन्टर (Chromocentres)
कभी-कभी ये देखा गया है कि अन्तरावस्था केन्द्रक (interphase nucleus) के काफी बड़े भाग क्षारीय फ्यूश्चिन (basic fuschin) से गहरे अभिरंजित हो जाते हैं। ये स्थल क्रोमोसेन्टर (chromocentre) कहलाते हैं। क्रोमोसेन्टर (chromocentre) मूलतः आकार में सेन्ट्रोमीअर (centromere) से काफी बड़े होते हैं। इस तरह क्रोमोसेन्टर केन्द्रक के अनेक या सम्पूर्ण गुणसूत्रों के हेट्रोक्रोमेटिक स्थलों को प्रदर्शित करते हैं।
लिंग क्रोमेटिन (Sex chromatin)
कुछ स्तनधारियों की कोशिकाओं में अन्तरावस्था (interphase) में विशिष्ट हीट्रोक्रोमेटिक काय (heterochromatic bodies) पाई जाती है। ये लिंग क्रोमेटिन परीक्षण (sex chromatin test) के प्रति संवेदनशील होते हैं। लगभग 0.8 – 1.1 μ व्यास वाली इन संरचनाओं या लिंग क्रोमेटिन काय (sex chromatin bodies) को ‘बार काय‘ (Barr body) कहते हैं। ये मादा कोशिकाओं में सुसंगठित होती हैं किन्तु नर कोशिकाओं के केन्द्रक में इनकी आवृत्ति (frequency) बहुत कम होती है। ये केन्द्रक के परिधीय क्षेत्र (peripheral region) या केन्द्रक कला (nuclear membrane) के पास पायी जाती है। कोशिका के विभिन्न प्रकार तथा विविध प्रजातियों में यह केन्द्रक में अलगअलंग स्थितियों (positions) पर भी पाए जा सकते हैं। एक ही प्राणी की विभिन्न कोशिकाओं में भी लिंग क्रोमेटिन काय (sex chromatin body) की स्थिति भिन्न-भिन्न हो सकती है।
लिंग क्रोमेटिन काय (sex chromatin bodies) की संख्या सामान्यतः लिंग गुणसूत्र सेट की संख्या पर निर्भर है। आमतौर पर द्विगुणित गुणसूत्र सेट (diploid chromosome set) में एकल लिंग क्रोमेटिन काय (sex chromatin body) पाई जाती है लेकिन गुणसूत्रों की संख्या बढ़ने के साथ ही इनकी संख्या में बढ़ोतरी संभव है। उदाहरण के लिए मादा प्राणियों की चतुर्गुणित कोशिकाओं (tetraploid cells) में दो लिंग क्रोमेटिन काय पायी जाती है।
विभिन्न प्रकार की क्रोमेटिन का वितरण
(Distribution of dffierent types of chromatins)
केन्द्रक में विभिन्न प्रकार की क्रोमेटिन अलग-अलग विस्थलों (locations) में पाई जाती है किन्तु आमतौर पर निम्न प्रकार की स्थितियाँ अधिक मिलती हैं-
(1) क्रोमेटिन के गहरे अभिरंजित समूह जो कि आंतर केन्द्रक कला से सम्पर्क में रहते हैं संघनित परिधीय हीट्रोक्रोमेटिन (condensed peripheral heterochromatin) कहलाते हैं।
(2) इसमें कुछ कम संघनित (less condensed) क्रोमेटिन को पेरिक्रोमेटिन (perichromatin) कहते हैं।
(3) विसरित क्रोमेटिन (dispersed chromatin) या यूक्रोमेटिन (euchromatin) परिधीय क्रोमेटिन (peripheral chromatin) तथा केन्द्रिक क्रोमेटिन (nucleolar chromatin) के मध्य पाई जाता है। यह हल्की अभिरंजित होती है तथा इसे अन्तर क्रोमेटिन (inter chromatin) भी कहते हैं।
(4) परिकेन्द्रिक क्रोमटिन (perinucleolar chromatin) केन्द्रिक संगठक (nucleolar organçer) तथा केन्द्रिक (nucleolus) के चारों ओर पाई जाने वाली संघनित क्रोमेटिन (condensed chromatin) है। यह केन्द्रक विभाजन (nuclear division) के उपरान्त केन्द्रिक (nucleolus) के पुर्नसंगठन (reorganisation) में सहायक हैं।
(5) अन्तरा केन्द्रिकीय क्रोमेटिन (intranucleolar chromatin) केन्द्रिक के अन्दर पाई जाती है किन्तु ये परिकेन्द्रकीय क्रोमेटिन (perinucleolar chromatin) से जुड़ी हुई (connected) दिखाई देती हैं और सम्मिलित रूप से इन्हें केन्द्रिकीय क्रोमेटिन (nucleolar chromatin) भी कहा जाता है।
(6) विसरित केन्द्रिकीय क्रोमेटिन (dffiused nucleolar chromatin) राइबोन्यूक्लियो प्रोटीन (ribonucleo protein) के साथ न्यूक्लियोप्लाज्म (nucleoplasm) में विसरित (dffiused) रहती है।
गुणसूत्र क्रोमेटिन का आण्विक संगठन (Molecular Organisation of chromosome)
गुणसूत्र क्रोमेटीन (Chromatin) गुणसूत्र के अवयव से बने होते हैं। यह क्रोमेटीन आकांरिर्क। (morphology) के अनुसार दो प्रकार के होते हैं युक्रोमेटीन (euchromtin) तथा हीटरोक्रोमेटीन (Heterochromatin)। यूक्रोमेटीन में जीन सक्रिय व हीटरोकोमेटीन में निष्क्रिय (incative) रहते हैं। इनमें सघनता के स्तर में अन्तर होने से कुण्डलन में भिन्नता पायी जाती है। ये रासायनिक दृष्टि से एकसमान होते हैं परन्तु यूक्रोमेटीन कोशिका की विभाजन अवस्था में सघन व गहरे रंग से अभिरंजित व कुण्डलित होता है जबकि अन्तरावस्था में विरल (dffiuse) तथा हल्के रंग से अभिरंजित व अकुण्डलित होता है। हीटरोक्रोमेटीन दोनों अवस्थाओं में विपरीत व्यवहार करते हैं अर्थात विभाजन अवस्था में विरल व हल्के रंग से अभिरंजित व अकुण्डलित होता है तथा अन्तरावस्था के दौरान सघन तथा गहरे रंग से अभिरंजित व कुण्डलित पाया जाता है।
गुणसूत्र की संरचनात्मक इकाई (structural unit) डीएनए कॉम्पलेक्स (DNA complex) तथा प्रोटीन के 1: 1 अनुपात (भार के अनुसार) से बनती है। प्रत्येक डीएनए अणु दो सूत्रों के सर्पिल क्रम (spiral fashion) में लिपटने से बना द्विकुण्डलित सीढ़ीनुमा होता है। डुप्रॉ (Dupraw, 1965 and 1970) तथा रिस (Ris, 1967) ने बताया कि यूकेरिओटिक गुणसूत्र क्रोमेटिन (eukarotic chromatin) अत्यधिक लम्बे, अत्यन्त वलयित (folded) डीएनए एकल सूत्र तथा कुछ आरएनए का बना होता है। इसके चारों ओर प्रोटीन का आवरण पाया जाता है। न्यूक्लियो प्रोटीन के इस सूत्र की मोटाई लगभग 100 ऊ होती है। इसे एक सूत्रीय (नदपेजतंदकमक) या यूनिनीम धारणा (unineme concept) कहते हैं। ड्रोसोफिला (äosophila) के सबसे लम्बे गुणसूत्र क्रोमेटिन में, डीएनए 4.0 cm लम्बा तथा 80×109 अणुभार का होता है। स्तनधारियों की एकल कोशिका (single cell) में उपस्थित सम्पूर्ण डीएनए की लम्बाई लगभग 2 मीटर होती है तथा इसमें 5.5 x 109 क्षरीय युग्म (base pair) पाए जाते हैं।
कायिक कोशिकाओं में क्रोमेटिन सूत्रों का व्यास लगभग 20 दउ (200 ऊ) होता है। ये डीएनए तथा क्षारीय प्रोटीन (basic proteins) या हिस्टोन (histone) के समान मात्रा में मिलने से बनते हैं।