Author Archives: admin

नेत्र की समंजन क्षमता , निकट बिन्दु , दूर बिन्दु , दृष्टि परास , अबिन्दुकता दोष व निवारण

प्रश्न : नेत्र का चित्र बनाइए और समझाइए कि 1. नेत्र की समझन क्षमता 2. नेत्र का निकट बिन्दु 3. नेत्र का दूर बिन्दु 4. दृष्टि परास 5. निकट दृष्टि दोष व निवारण 6. दूर दृष्टि दोष व निवारण 7. अबिंदुकता दोष व निवारण चित्र 1. नेत्र की समंजन क्षमता (Eye capability):- अन्नत पर रखी वस्तु का… Continue reading »

प्राथमिक इन्द्रधनुष और द्वितीयक इन्द्रधनुष , प्रकीर्णन , रेले का प्रकीर्णन

प्रश्न 1: प्राथमिक इन्द्रधनुष की संरचना समझाइये और यह द्वितीयक इन्द्रधनुष से इस प्रकार भिन्न है। उत्तर : जब सूय एक क्षैतिज की ओर होता है और वर्षा इसके विपरित क्षितिज में हो रही है उस समय मनुष्य अपनी पीट को सूर्य की तरपफ रखे तो इन्द्रधनुष दिखाई देता है। जब वर्षा हो रही होती है… Continue reading »

क्रांतिक कोण , पूर्ण आन्तरिक परावर्तन , शर्तें , उदाहरण

प्रश्न 1: क्रातिक कोण की परिभाषा दीजिए अपतर्वनाक और क्रान्तिक कोण में सम्बन्ध ज्ञात कीजिए तथा पूर्ण आन्तरिक परावर्तनप कि परिभाषा देकर इसकी शर्त लिखिए। क्रांतिक कोण (critical angle):- सघन माध्यम में आपतन कोण का वह मान जिसके लिए विरल माध्यम में आपवर्तन कोण 90 degree होता है। क्रान्तिक कोण कहते है। नोट:- 1. काँच… Continue reading »

अपवर्तन की परिभाषा क्या है , स्नेल का नियम , उदाहरण Refraction in hindi

निम्न को समझाइये 1. अपवर्तन (Refraction)- जब प्रकाश की किरण एक माध्यम से दूसरे माध्यम से प्रवेश करती है तो अपने पथ से विचलित हो जाती है। इस घटना को अपवर्तन कहते है। चित्र 2.  अपवर्तन का नियम – (स्नेल का नियम) (Snell’s law) – आपतन कोण की ज्या और अपवर्तन कोण की ज्या का अनुपात किन्हीं दो… Continue reading »

फोकस बिन्दु , फोकस दूरी , फोकस तल , परावर्तन की परिभाषा क्या है

फोकस बिन्दु , फोकस दूरी , फोकस तल , परावर्तन की परिभाषा क्या है

निम्न की परिभाषा दीजिए। answer : निम्न की परिभाष निम्नानुसार है – 1. फोकस बिन्दु (focus point):- मुख्य अक्ष के समानान्तर आने वाली किरणे दर्पण से परावर्तनप के पश्चात मुख्य अक्ष के जिस बिन्दु पर आकर मिलती है अथवा मिलती हुई प्रतीत होती है उसे फोकस बिन्दु (M) कहते है। 2. फोकस दूरी (focus distance):- दर्पण के ध्रुव… Continue reading »

रेडियो , सूक्ष्म , अवरक्त तरंगे , दृश्य , पराबैंगनी किरणे , एक्स रे (X-ray) , r -rays

विद्युत चुम्बकीय तरंगों का वर्गीकरण कीजिए? Classification of electromagnetic waves उत्तर : विद्युत चुम्बकीय तरंगों का तरंग दध्र्य अथवा आवृति के आधार पर निम्न प्रकार वर्गीकरण किया जाता है। 1. रेडियो तरंगे (radio waves):- इनकी तरंग दैध्र्य 100 किलो से लेकर 3मी. तक होती है। इन तरंगों का उत्पादन L-C  दौलन परिपथ से होता है। ये तरंगे… Continue reading »

भँवर धाराएँ किसे कहते और उपयोग लिखिए Eddy current & uses in hindi

प्रश्न : भँवर धाराएँ किसे कहते और प्रयोग द्वारा समझाइये कि ये अपनी उत्पत्ति के कारण का विरोध करती है इनके कोई दो उपयोग लिखिए? उत्तर : भँवर धारा (Eddy current):- किसी धातु के टुकड़े में चु0 फलक्स में परिवर्तन होने पर धातु के टुकड़े में प्रेरित धारा ऐसे उत्पन्न होती है जैसी कि पानी… Continue reading »

फैराडे का नियम , लेन्ज का नियम , ऊर्जा संरक्षण का नियम

विद्युत चुम्बकीय प्रेरण किसे कहते है फैराडे का विद्युत चु0 प्रेरण का नियम लिखित लेन्ज का नियम लिखे हुए समझाइये कि यह ऊर्जा सरंक्षण के नियम पर आधारित है? उत्तर :  विद्युत चु. प्रेरण – जब किसी बंद परिपथ में चुम्बकीय फलक्स में परिवर्तन होता है तो प्रेरित विद्युत वाहक बल उत्पन्न हो जाता है। जिससे… Continue reading »

B-H वक्र या शैथिल्य वक्र खिचिए और निम्न को समझाइये B-H curve in hindi

B-H curve in hindi B-H वक्र या शैथिल्य वक्र खिचिए और इसके आधार पर निम्न को समझाइये? 1.अवशेष चुम्बकत्व या धारणाशीलता 2. निग्राहिता 3. शैथिल्य 4. शैथिल्य हानि Answer – जब किसी  पदार्थ को चुम्बकीय तीव्रता (H) लगाकर चुम्बकीत करते है तो H का मान बढ़ाने पर B का मान भी बढता है और अन्त… Continue reading »

प्रति चुम्बकीय पदार्थ , अनुचुम्बकीय पदार्थ , लौह चुम्बकीय types of magnetic substances

चुम्बकीय पदार्थों का वर्गीकरण कीजिए और इनकी व्याख्या समझाइये। उत्तर – चुम्बकीय पदार्थों को तीन भागों में बाटा गया है। 1. प्रति चुम्बकीय पदार्थ (Magnetic substances):- यह ऐसे पदार्थ हैं जो चुम्बकीय क्षेत्र में रखने पर बाहरी चुम्बीय क्षेत्र के विपरित दिशा में चुम्बकृीत हो जाते है। इनमें अधिक चु0 क्षेत्र से कम चु0 क्षे…. Continue reading »