Author Archives: admin

विद्वान शब्द का स्त्रीलिंग क्या है | विद्वान का स्त्रीलिंग रूप क्या है | vidwan ka ling badlo kya hai hindi mein

vidwan ka ling badlo kya hai hindi mein विद्वान का स्त्रीलिंग रूप क्या है ? प्रश्न . विद्वान शब्द का स्त्रीलिंग होगा (अ) विदुषी (ब) विद्वती (स) विद्योतमा (द) विद्वांश उत्तर-(अ) 51. ‘बघेली‘ बोली का संबंध किस उपभाषा से है? (अ) राजस्थानी (ब) पूर्वी हिन्दी (स) बिहारी (द) पश्चिमी हिन्दी उत्तर-(ब) 52. अमृता प्रीतम किस… Continue reading »

कौन सी भाषा संस्कृत भाषा की अपभ्रंश है | निम्न में कौन सी भाषा संस्कृत की अपभ्रंश है kaun si bhasha sanskrit ki apbhransh hai

kaun si bhasha sanskrit ki apbhransh hai कौन सी भाषा संस्कृत भाषा की अपभ्रंश है ? हिंदी साहित्य 2 प्रश्न . निम्न में कौन सी भाषा संस्कृत भाषा की अपभ्रंश है? (अ) खड़ी बोली (ब) ब्रज (स) अवधी (द) पालि उत्तर-(द) 1. उर्दू किस भाषा का शब्द है? (अ) फारसी (ब) हिन्दी (स) तुर्की (द)… Continue reading »

रस सूत्र किस आचार्य की देन है | रससूत्र के जनक कौन माने जाते हैं ras sutra ke janak kaun hai

ras sutra ke janak kaun hai in hindi रस सूत्र किस आचार्य की देन है  ? प्रश्न . रससूत्र के जनक माने जाते हैं (अ) भरतमुनि (ब) अभिनवगुप्त (स) तुलसीदास (द) भट्टनायक उत्तर- (अ) 42. साधारणीकरण और व्यक्ति वैचिन्न्यवाद’ निबन्ध के लेखक हैं (अ) आचार्य शुक्ल (ब) डॉ. नगेन्द्र (स) हजारी प्रसाद द्विवेदी (द) महावीर… Continue reading »

हिन्दी भाषा की कितनी विख्यात बोलियाँ है ? हिंदी भाषा की बोलियाँ कितनी है hindi bhasha me kitni vikhyat boliya hai

hindi bhasha me kitni vikhyat boliya hai हिन्दी भाषा की कितनी विख्यात बोलियाँ है ? हिंदी भाषा की बोलियाँ कितनी है | हिंदी साहित्य 1 1. हिन्दी भाषा की कितनी विख्यात बोलियाँ हैं? (अ) चार (ब) दस (स) आठ (द) पाँच उत्तर- (स) 2. हिन्दी भाषा का प्रथम प्रामाणिक ग्रंथ कौन-सा है? (अ) सतसई (ब)… Continue reading »

अन्वीक्षण का संधि विग्रह क्या होगा | अन्वेषण का शुद्ध सन्धि विच्छेद है। anvikskhan ka sandhi viched

anvikskhan ka sandhi viched in hindi अन्वीक्षण का संधि विग्रह क्या होगा | अन्वेषण का शुद्ध सन्धि विच्छेद है। विविध 1. = विराम चिह्न प्रयुक्त होता है- (अ) विवरण चिह्न (ब) तुल्यतासूचक (स) लाघव चिह्न (द) संयोजक चिह्न उत्तर- (ब) प्रश्न. अन्वेषण का शुद्ध सन्धि विच्छेद है। (अ) अन्वेष+ण (ब) अन्वे+षण (स) अनु+वेषण (द) अनु+एषण… Continue reading »

मीनाक्षी शब्द का अर्थ क्या है | मीनाक्षी शब्द का हिंदी में अर्थ होता है | meenakshi word meaning in hindi

meenakshi word meaning in hindi मीनाक्षी शब्द का अर्थ क्या है | मीनाक्षी शब्द का हिंदी में अर्थ होता है किसे कहते है ? नाम का मतलब बताइये | शब्दकोष 1. भावयुक्त शुद्ध अनुवाद चुनिए- (अ) मैं उल्लिसित था। (ब) मैं खुशी से ऊपर था। (स) मेरा दिल बाग-बाग हो गया। (द) मेरी खुशी ज्यादा… Continue reading »

अन्तर जाइलमी फ्लोयम का निर्माण (formation of interxylary phloem in hindi) अंतर जाइलमी फ्लोएम बनना 

अंतर जाइलमी फ्लोएम बनना समझाइये | अन्तर जाइलमी फ्लोयम का निर्माण (formation of interxylary phloem in hindi) जाइलम में फ्लोयम खांचो का निर्माण (development of phloem wedges in xylem) : बिग्नोनिया के तने में प्राथमिक संरचना पूर्णतया सामान्य होती है और जब द्वितीयक वृद्धि प्रारंभ होती है तो उस समय भी संवहन कैम्बियम एक सामान्य वलय… Continue reading »

कारक के उदाहरण बताइए | कारक पर आधारित प्रश्न और उत्तर | karak examples in hindi grammer

karak examples in hindi grammer कारक के उदाहरण बताइए | कारक पर आधारित प्रश्न और उत्तर | कारक 1. क्रियापरक व्याकरणिक कोटि चिन्हित कीजिए। (अ) कारक (ब) लिंग (स) वचन (द) पक्ष उत्तर- (अ) 2. ‘कुर्सी पर मास्टर जी बैठे हैं‘ इस वाक्य में ‘कुर्सी‘ शब्द किस कारक में है? (अ) करण कारक (ब) सम्प्रदान… Continue reading »

वाक्य क्रम संयोजन | सही क्रम का वाक्य प्रयोग निर्माण | sequencing sentences exercises pdf in hindi

sequencing sentences exercises pdf in hindi वाक्य क्रम संयोजन | सही क्रम का वाक्य प्रयोग निर्माण ? वाक्य कर्म संयोजन निर्देश: (प्रश्न संख्या 1 से 5): निम्नलिखित वाक्यों में उनके प्रथम तथा अन्तिम अंश संख्या 1 और 6 के अन्तर्गत दिए गए हैं। बीच वाले चार अंश (य), (र), (ल), (व) के अन्तर्गत बिना क्रम… Continue reading »

असंगत द्वितीयक वृद्धि क्या है | असंगत द्वितीयक वृद्धि किसे कहते है | कारण | anomalous secondary growth in hindi

anomalous secondary growth in hindi असंगत द्वितीयक वृद्धि क्या है | असंगत द्वितीयक वृद्धि किसे कहते है | कारण ? प्रस्तावना : द्विबीजपत्री तनों में अन्त: पुलीय और अन्तरापूलीय कैम्बियम मिलकर एक सतत वलय बनाते है। यह कैम्बियम वलय तने के केन्द्रीय भाग की तरफ द्वितीयक जाइलम और बाहर की तरफ द्वितीयक फ्लोयम बनाती है।… Continue reading »