Author Archives: admin

उत्तल लेंस द्वारा प्रतिबिम्ब निर्माण , image formation by convex lens , लेंस का आवर्धन magnification of lens in hindi

लेंस का आवर्धन magnification of lens in hindi :- उत्तल लेंस द्वारा प्रतिबिम्ब निर्माण (image formation by convex lens) : जब बिम्ब अनंत पर स्थित हो – प्रतिबिम्ब मुख्य फोकस पर (F2) पर प्राप्त होगा। प्रतिबिम्ब वास्तविक उल्टा व बिन्दुवत (बहुत छोटा) प्राप्त होगा। जब बिंदु वक्रता केंद्र से पीछे स्थित हो: प्रतिबिम्ब द्वितीय फोकस… Continue reading »

अभिसारी लेंस किसे कहते हैं , उभयोत्तल लेंस या अभिसारी लेंस , उभयावतल लेंस या अपसारी लेंस क्यों कहते है ?

अभिसारी लेंस किसे कहते हैं , उभयोत्तल लेंस या अभिसारी लेंस , उभयावतल लेंस या अपसारी लेंस क्यों कहते है ?

converging lens in hindi अभिसारी लेंस किसे कहते हैं , उभयोत्तल लेंस या अभिसारी लेंस , उभयावतल लेंस या अपसारी लेंस क्यों कहते है ? optical centre of lens in hindi , प्रकाशिकी केन्द्र , प्रकाशिक केंद्र , प्रकाशिकी अक्ष , लेंस के फोकस दूरी  :- लैंस : जब किन्ही दो अपवर्तक पृष्ठों के मध्य समांग… Continue reading »

मृग मरीचिका किसे कहते हैं , मृग मरीचिका किसका उदाहरण है क्या है ? अर्थ हिंदी में , mirage desert in hindi

mirage desert in hindi , मृग मरीचिका किसे कहते हैं , मृग मरीचिका किसका उदाहरण है क्या है ? अर्थ हिंदी में :- प्रकाश का पूर्ण आन्तरिक परावर्तन : जब कोई प्रकाश किरण सघन माध्यम से विरल माध्यम की ओर प्रवेश करती हुई अपवर्तक पृष्ठ पर क्रांतिक कोण से अधिक कोण पर आपतित होती है… Continue reading »

प्रकाश के अपवर्तन के नियम , laws of refraction of light in hindi , प्रकाश के अपवर्तन की कुछ महत्वपूर्ण घटनाएँ 

प्रकाश के अपवर्तन के नियम , laws of refraction of light in hindi , प्रकाश के अपवर्तन की कुछ महत्वपूर्ण घटनाएँ 

laws of refraction of light in hindi , प्रकाश के अपवर्तन के नियम , प्रकाश के अपवर्तन की कुछ महत्वपूर्ण घटनाएँ  :- प्रकाश का अपवर्तन : जब कोई प्रकाश किरण एक माध्यम से दुसरे माध्यम में प्रवेश करती है तो अपने पथ से थोड़ी विचलित हो जाती है , प्रकाश की इस घटना को ही प्रकाश… Continue reading »

उत्तल दर्पण से प्रतिबिम्ब बनना , उत्तल दर्पण से बनने वाले प्रतिबिंब कैसा बनता है , image formation by convex mirror in hindi

image formation by convex mirror in hindi , उत्तल दर्पण से प्रतिबिम्ब बनना , उत्तल दर्पण से बनने वाले प्रतिबिंब कैसा बनता है :- उत्तल दर्पण से प्रतिबिम्ब बनना : (i) यदि वस्तु दर्पण के सामने स्थित हो :- यदि वस्तु उत्तल दर्पण के सामने स्थित हो तब वस्तु AB के B बिन्दु से चलने वाली… Continue reading »

अवतल दर्पण से प्रतिबिम्ब का बनना , image formation by concave mirror , गोलीय दर्पण से प्रतिबिम्ब बनने के नियम 

अवतल दर्पण से प्रतिबिम्ब का बनना , image formation by concave mirror , गोलीय दर्पण से प्रतिबिम्ब बनने के नियम 

गोलीय दर्पण से प्रतिबिम्ब बनने के नियम , अवतल दर्पण से प्रतिबिम्ब का बनना , image formation by concave mirror in hindi :- चिन्ह परिपाटी : 1. आपतित प्रकाश किरण की दिशा में सभी दूरियाँ धनात्मक ली जाती है अत: दर्पण की वस्तु से दूरी धनात्मक ली जाती है। 2. आपतित प्रकाश किरण के विपरीत… Continue reading »

किरण प्रकाशिकी एवं प्रकाशिक यंत्र notes , कक्षा 12 भौतिकी एनसीईआरटी , प्रकाश किरण , ray optics class 12 notes in hindi

किरण प्रकाशिकी एवं प्रकाशिक यंत्र notes , कक्षा 12 भौतिकी एनसीईआरटी , प्रकाश किरण , ray optics class 12 notes in hindi

ray optics class 12 notes in hindi , किरण प्रकाशिकी एवं प्रकाशिक यंत्र notes , कक्षा 12 भौतिकी एनसीईआरटी , प्रकाश किरण :- किरण प्रकाशिकी : प्रकाश का स्वरूप :प्रकाश की वह घटना जिसमे एक तरंग दूसरी तरंग के साथ अन्योन्य क्रिया करती है तब प्रकाश तरंग स्वरूप को प्रदर्शित करता है | यदि प्रकाश… Continue reading »

दूरदर्शी व सूक्ष्मदर्शी की विभेदन क्षमता और विभेदन सीमा limit of resolution and resolving power of microscope and telescope

limit of resolution and resolving power of microscope and telescope , दूरदर्शी व सूक्ष्मदर्शी की विभेदन क्षमता और विभेदन सीमा ज्ञात करना क्या है ? :- दूरदर्शी की विभेदन सीमा (dθ) : दूरदर्शी की विभेदन सीमा दूरस्थ वस्तुओ द्वारा इसके अभिदृश्क पर बनाई गयी वह न्यूनतम कोणीय दूरी है जिस पर दूरदर्शी दोनों वस्तुओ के प्रतिबिम्बों… Continue reading »

 विभेदन क्षमता (resolving power in hindi) , विभेदन सीमा क्या है ? परिभाषा (resolving limit)

resolving power in hindi , विभेदन क्षमता , विभेदन सीमा क्या है ? परिभाषा (resolving limit) :- पोलेरॉइड की व्यवस्था : प्रत्येक पोलेराइड की एक अभिलाक्ष्णिक दिशा होती है जिसके अनुदिश अध्रुवित प्रकाश को गुजारा जाता है इसे पॉलेराइड की ध्रुवण दिशा कहते है। यदि दो पोलेराइडो की ध्रुवण दिशा अथवा अक्ष परस्पर समान्तर हो तब यह… Continue reading »

E-किरण व O-किरण , e ray and o ray in hindi , कैलसाइट क्रिस्टल का अपवर्तनांक , कनाडा बालसम

E-किरण व O-किरण , e ray and o ray in hindi , कैलसाइट क्रिस्टल का अपवर्तनांक , कनाडा बालसम

कैलसाइट क्रिस्टल का अपवर्तनांक , कनाडा बालसम refractive index , E-किरण व O-किरण , e ray and o ray in hindi :- निकोल प्रिज्म : यह एक प्रकाशीय उपकरण होता होता है जिसकी सहायता से समतल से समतल ध्रुवित प्रकाश प्राप्त किया जाता है | यह द्विअपवर्तन के सिद्धांत पर कार्य करता है। जब अध्रुवित… Continue reading »