स्तनपायी में सबसे बड़ी ग्रंथि कौन-सी होती है ? मानव शरीर की सबसे बड़ी ग्रंथि का नाम खाली स्थान है

By  

मानव शरीर की सबसे बड़ी ग्रंथि का नाम खाली स्थान है स्तनपायी में सबसे बड़ी ग्रंथि कौन-सी होती है ?  in mammals largest gland is in hindi ?

प्रश्न : स्तनपायी में सबसे बड़ी ग्रंथि कौन-सी होती है?
(अ) कर्णपूर्व ग्रंथि (ब) यकृत
(स) अग्न्याशय (द) प्लीहा
S.S.C. स्टेनोग्राफर परीक्षा, 2014
उत्तर-(ब)
यकृत स्तनपायी में पाई जाने वाली सबसे बड़ी ग्रंथि तथा सबसे बड़ा आंतरिक अंग है। अग्न्याशय स्तनपायी में पाई जाने वाली द्वितीय सबसे बड़ी ग्रंथि है।

1. मानव हृदय में कक्षों (Chambers) की संख्या है-
(अ) चार (ब) दो
(स) तीन (द) पांच
S.S.C. स्नातक स्तरीय परीक्षा, 2008
उत्तर-(अ)
मानव हृदय चार कक्षों में बंटा होता है। ऊपर की ओर छोटे दाएं एव बाएं अलिंद तथा नीचे की ओर बड़े दाएं एवं बाएं निलय होते हैै। अलिंद की दीवारें अपेक्षाकृत पतली होती हैं। एक अंतरअलिंदीय पट्ट दाएं एवं बाएँ अलिंदों को पृथक करता है।
2. मानव हृदय में कितने वाल्व (Valve sets) होते हैं?
(अ) चार (ब) तीन
(स) दो (द) एक
S.S.C. (डाटा एंट्री ऑपरेटर) परीक्षा, 2008
उत्तर-(अ)
उपर्युक्त प्रश्न की व्याख्या देखें।
3. पहला सफल हृदय प्रत्यारोपण किया था-
(अ) डी.एस. पेन्टल ने (ब) सी.एन. बर्नार्ड ने
(स) डी. शेट्टी ने (द) पी.के. सेन ने
S.S.C.Section off. परीक्षा, 2007
उत्तर-(ब)
पहला सफल हृदय प्रत्यारोपण सी.एन. बर्नार्ड ने किया था।
4. ई.सी.जी. किसकी गतिविधि को दर्शाता है?
(अ) मस्तिष्क (ब) हृदय
(स) फुफ्फुस (द) वृक्क
S.S.C.Tax Asst. परीक्षा, 2008
उत्तर-(ब)
ई.सी.जी. (इलेक्ट्रोकॉर्डियोग्राम) एक प्रकार का चिकित्सीय परीक्षण है जो हृदय की गतिविधि को दर्शाता है।
5. मानवों का एक मिनट में लगभग कितनी बार हृदय स्पंदन होता है?

(अ) 25 बार (ब) 30 बार
(स) 72 बार (द) 96 बार
S.S.C.CPO परीक्षा, 2009
उत्तर-(स)
मानव हृदय हृदयावरण (पेरीकार्डियम) नामक थैली में सुरक्षित रहता है। इसका भार लगभग 300 ग्राम होता है। मनुष्य का हृदय चार कोष्ठों का बना होता है। मनुष्य का हृदय एक मिनट में 72 बार धड़कता है। शरीर से हृदय में ले जाने वाली रक्तवाहिनी को शिरा तथा हृदय से शरीर में ले जाने वाली रक्तवाहिनी को धमनी कहते हैं।
6. दिल का दौरा किस कारण होता है?
(अ) हृदय पर जीवाणु का हमला
(ब) हृदय गति का रुक जाना
(स) हृदय में रक्त की आपूर्ति में कमी
(द) अज्ञात कारणों से हृदय के कार्य में बाधा आना
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2011
उत्तर-(स)
हृदय की मांसपेशियों को कम रक्त पहुंचने या बिल्कुल भी रक्त न पहुंचने की वजह से दिल का दौरा पड़ता है।

 

अंतःस्रावी ग्रंथि
ऑनलाइन परीक्षा-प्रश्न (2016)
 पैंक्रियास की कोशिकाए, जो इंसुलिन उत्पन्न करती है, क्या कहलाती हैं? – आइलैट्स ऑफ लैंगरहैंस
 मानव शरीर के किस अंग से इंसुलिन का स्राव होता है?
– अग्न्याशय
 मानव शरीर में सबसे बड़ी ग्रंथि कौन-सी है? – लीवर
 थायमस ग्रंथि जिस हॉर्मोन्स को पैदा करती है, उसे क्या कहते हैं?
– थायमोसिन
 सिग्मोएड कोलन किसका भाग है? -बड़ी आंत

ऑफलाइन परीक्षा प्रश्न (2006-2015)
1. निम्नलिखित में से कौन-सी ग्रंथि सेक्स हॉर्मोंस का स्राव करती है?

(अ) एड्रिनल ग्रंथि (ब) थॉइरॉइड ग्रंथि
(स) पीयूष (पिट्यूटरी) ग्रंथि (द) तैल (सेबेशियस) ग्रंथि
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2011
उत्तर-(अ)
अधिवृक्क (Adrenal) वृक्कों के अग्र सिरों पर टोपी के आकार की एक संरचना होती है। इसके दो भाग कॉर्टेक्स एवं मेड्यूला होते हैं। कॉर्टेक्स के लगभग 30 हॉर्मोंसों में कार्टिसोन, कॉर्टिकोस्टेशन, एंड्रोजेंस, एस्ट्रोजेंस आदि लिंग हॉर्मोंस प्रमुख हैं।
2. दुग्धजनक हॉर्मोन का स्राव कहां पर होता है?
(अ) स्तन ग्रंथि (ब) प्लेसेंटा
(स) अंडाशय (द) पीयूष
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2013
उत्तर-(द)
दुग्धजनक हॉर्मोन दुग्ध ग्रंथियों को दुग्ध के स्राव के लिए उत्तेजित करता है। इस हॉर्मोन का स्राव पीयूष ग्रंथि में होता है।
3. पीयूष ग्रंथि शरीर में किस स्थान पर स्थित होती है?
(अ) हृदय के आधार में (ब) मस्तिष्क के आधार में
(स) गर्दन में (द) उदर में
S.S.C. स्नातक स्तरीय परीक्षा, 2010
उत्तर-(ब)
पीयूष ग्रंथि अन मस्तिष्क के पश्चभाग की अधर मित्ति (हाइपोथती छोटे से, शंक्वाकार एवं खोखले प्रवर्ध (इंफंडीबुलम) से कपाल स्फीनॉएड अस्थि के हाइपोफाइसियल गर्त में सुरक्षित ला गोल-सी और भूरी-लाल, सबसे छोटी अंतःस्रावी ग्रंथि होती इसे हाइपोफाइसिसि सेरिब्राइ भी कहते हैं। यह मास्टर ग्रंथि नाम से सुप्रसिद्ध है।
4. निम्नलिखित में वह ग्रंथि कौन-सी है, जो शरीर का ताप रखती है?

(अ) पीनियल-ग्रंथि (ब) पीयूष ग्रंथि
(स) अवटु-ग्रंथि (द) हाइपोथैलेमस
S.S.C. मैट्रिक स्तरीय परीक्षा, 2008
उत्तर-(द)
पीयूष ग्रंथि ‘मास्टर-ग्रंथि‘ कही जाती है और हाइपोथैलेमस ग्रंथि पीयूष-ग्रंथि के भी मास्टर का काम करती है। मस्तिष्क का यह भाग तंत्रिका तंत्र एवं अंतःस्रावी तंत्र के प्रमुख संयोजन की भूमिका निभाता है। यह शरीर-ताप, भूख-प्यास, लैंगिक आचरण तथा शरीर की सुरक्षा आदि का नियंत्रण करता है।
5. मानव शरीर की कौन-सी ग्रंथि, पीयूष ग्रंथि से हॉर्मोनों के रिसाव को नियंत्रित करती है?
(अ) हाइपोथैलेमस ग्रंथि (ब) थाइमस ग्रंथि
(स) थाइरॉइड ग्रंथि (द) एड्रिनल ग्रंथि
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2013
उत्तर-(अ)
उपर्युक्त प्रश्न की व्याख्या देखें।
6. निम्न में से कौन-सा दोनों बहिःस्रावी ग्रंथि और अंतःस्रावी ग्रंथि के रूप में व्यवहार नहीं करता?
(अ) पीयूष (ब) अग्न्याशय
(स) वृषण (द) अंडाशय
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2013
उत्तर-(अ)
पीयूष ग्रंथि, शरीर की सबसे छोटी अंतःस्रावी ग्रंथि है तथा इस ग्रंथि के हॉर्मोन अन्य अंतःस्रावी ग्रंथियों को नियंत्रित करते है। अतः इसे ‘मास्टर ग्रंथि‘ भी कहते हैं जबकि अग्न्याशय, वृषण तथा अंडाशय मिश्रित ग्रंथियां (बहिस्रावी तथा अंतःस्रावी दोनों के रूप में व्यवहार) हैं।
7. मानव शरीर की सबसे बड़ी मिश्रित ग्रंथि है-
(अ) थाइमस (ब) यकृत
(स) अग्न्याशय (द) प्लीहा (ैचसममद)
S.S.C. स्टेनोग्राफर परीक्षा, 2010
उत्तर-(स)
मानव शरीर की सब उदरगुहा में आमाशय में गुलाबी रंग की मिश्रित ग्रंथि अग्न्याशय है। यह में आमाशय के पीछे स्थित लगभग 15 सेमी. लंबी गुलाबी रंग की मिश्रित ग्रंथि होती है। मनुष्य के अग्न्याशय में लगभग 15 से 20 लाख अंतःस्रावी कोशिकाएं होती हैं जिसे लैंगरहंस की द्वीपिकाएं कहते हैं। इसमें चार प्रकार की कोशिकाएं होती हैं जो विशिष्ट हॉर्मोंस स्रावित करती हैं-
अल्फा सेल – ग्लूकैगान
बीटा सेल – इंसुलिन
डेलटा सेल – सोमैटोस्टैटीन
एफ एफ या पी पी सेल – पैंक्रियाटिक पालीपेप्टाइड

9. शरीर में सबसे बड़ी अंतःस्रावी ग्रंथि निम्न में से कौन-सी है?
(अ) अवटु (थाइरॉइड) (ब) परावटु (पैराथाइरॉइड)
(स) अधिवृक्क (एड्रीनल) (द) पीयूष (पिट्युटरी)
S.S.C. संयुक्त स्नातक स्तरीय (ज्पमत-प्) परीक्षा, 2011
उत्तर-(अ)
थाइरॉइड हमारी गर्दन में वायुनाल के शीर्ष भाग पर स्थित होती है। यह भ् के आकार के द्विपालित अंतःस्रावी ग्रंथि होती है। इससे थाइराक्सिन नामक हार्मोन निकलता है जिसका काम आहार उपापचयी दर को बढ़ाना है। इसकी कमी व अधिकता से क्रमशः हाइपोथायराइड