लेटराइट मिट्टी किस राज्य में पाई जाती है ? लैटेराइट मिट्टी कहां पाई जाती है विशेषता दूसरा नाम क्या है

By   October 12, 2021

लैटेराइट मिट्टी कहां पाई जाती है विशेषता दूसरा नाम क्या है लेटराइट मिट्टी किस राज्य में पाई जाती है ?

मिट्टी
ऑनलाइन परीक्षा-प्रश्न (2016)
 काली मिट्टी और किस नाम से जानी जाती है? – रेगुर मिट्टी
 भारत में लाल मिट्टी सामान्यतः कौन-से क्षेत्र में पाई जाती है?
– दक्षिणी पठार के पूर्वी और दक्षिणी भाग में
 दोआब का क्या मतलब होता है? – दो नदियों के बीच की भूमि
ऑफलाइन परीक्षा-प्रश्न (2006-2015)
1. ऊंचे क्षेत्रों में लैटेराइट मृदा की रचना होती है-
(अ) क्षारीय (ब) लवणीय
(स) अम्लीय (द) संतुलित
S.S.C. मैट्रिक स्तरीय परीक्षा, 2008
उत्तर-(स)
ऊंचे क्षेत्रों की लैटेराइट मृदा अम्लीय प्रकार की होती है। लैटेराइट मिट्टी का निर्माण भारी वर्षा के कारण हुई निक्षालन प्रक्रिया के कारण होता है। शुष्क मौसम में यह मिट्टी सूख जाती है और इसका स्वरूप चट्टानी हो जाता है। इस मिट्टी का विस्तार लगभग 1.26 लाख वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में है। यह मिट्टी पूर्वी और पश्चिमी घाट के क्षेत्रों, राजमहल की पहाड़ियों, दक्षिणी महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, उड़ीसा और पश्चिम बंगाल के कुछ जिलों, मेघालय और झारखंड के संथाल परगना जिले में मिलती है।
2. निम्नलिखित में से किस राज्य में लैटेराइट मिट्टी पाई जाती है ?

(अ) केरल (ब) उत्तर प्रदेश
(स) राजस्थान (द) महाराष्ट्र
S.S.C.C.P.O. परीक्षा, 2015
उत्तर-(अ) और (द)
उपर्युक्त प्रश्न की व्याख्या देखें।
3. लैटेराइट मिट्टी कहां पाई जाती है?
(अ) भारी वर्षा वाले प्रदेश में
(ब) मरुस्थल में
(स) उष्णकटिबंधीय प्रदेश में
(द) आर्द्र तथा शुष्क जलवायु वाले उष्णकटिबंधीय क्षेत्र में
S.S.C.F.C.I. परीक्षा, 2012
उत्तर-(द)
लैटेराइट मृदा का निर्माण आर्द्र तथा शुष्क जलवायु वाले उष्णकटिबंधीय क्षेत्र में होता है। इसमें लौह एवं एल्युमीनियम प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं।
4. पर्वतीय स्लोपों (भ्पसस ैसवचमे) पर मृदा अपरदन को किस प्रकार नियंत्रित किया जा सकता है?
(अ) वनरोपण (ब) सोपान कृषि
(स) पट्टीदार खेती (द) समोच्च रेखीय जुताई
S.S.C. स्नातक स्तरीय परीक्षा, 2010
उत्तर-(द)
पर्वतीय ढलानों पर, मृदा अपरदन के ढाल को काटकर सीढ़ीनुमा खेत बनाकर और समोच्च-रेखीय जुताई (ब्वदजवनत च्सवनहीपदह) करके नियंत्रित किया जा सकता है। सोपान कृषि के द्वारा भी ऐसा किया जा सकता है परंतु समोच्च-रेखीय विधि सर्वाधिक उपयुक्त है।
5. भारत के उत्तरी मैदानों की मृदा सामान्यतः कैसे बनी है?
(अ) तलावचन द्वारा (ब) तलोच्चन द्वारा
(स) स्वस्थाने अपक्षयण द्वारा (द) अपरदन द्वारा
S.S.C. स्नातक स्तरीय परीक्षा, 2011
उत्तर-(ब)
भारत के उत्तरी मैदानों की मृदा सामान्यतः तलोच्चन द्वारा बनी है। उत्तरी मैदान का निर्माण नदियों द्वारा लाए गए निक्षेपित मलबे से हुआ है।
6. कपास के उत्पादन के लिए सबसे अच्छी मिट्टी कौनसी है?
(अ) काली लावा मिट्टी (ब) दोमट मिट्टी
(स) पूर्ण जल वाहित मृदा (द) कछारी मिट्टी
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2015
उत्तर-(अ)
कपास के उत्पादन के लिए सबसे अच्छी काली मिट्टी है। इसे ही कपास की मिट्टी कहा जाता है। इसमें उच्च जलधारण क्षमता और वायु संचारण अधिक होता है।
7. निम्नलिखित में से वह फसल कौन-सी है जो जलोढ़ मिट्टी में उगती है और जिसके लिए प्रचुर मात्रा में पानी की आवश्यकता होती है?
(अ) चाय (ब) गेंहू
(स) चावल (द) मूंगफली
S.S.C. मैट्रिक स्तरीय परीक्षा, 2006
उत्तर-(स)
चावल ऐसी फसल है जो जलोढ़ मिट्टी में उगती है तथा इसे जल की प्रचुर मात्रा की आवश्यकता होती है।
8. लोनी और क्षारीय मृदा का भारत में एक और नाम है-
(अ) रेगर (ब) बंगर
(स) कल्लर (द) खादर
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2012
उत्तर-(स)
लोनी और क्षारीय मिट्टियां राजस्थान, उत्तर प्रदेश, बिहार, हरियाणा, पंजाब एवं महाराष्ट्र राज्यों के शुष्क क्षेत्रों में पाई जाती हैं। इन अनुपजाऊ क्षेत्रों को रेह, कल्लर, ऊसर, राकर, धुर, कर्ल एवं चोपन आदि नामों से जाना जाता है।
9. व्यर्थ भूमि के अंतर्गत अधिकतम क्षेत्र वाला राज्य है-
(अ) राजस्थान (ब) गुजरात
(स) मध्य प्रदेश (द) जम्मू और कश्मीर
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2012
उत्तर-(अ)
व्यर्थ भूमि के अंतर्गत अधिकतम क्षेत्र वाला राज्य राजस्थान है। गुजरात, मध्य प्रदेश एवं जम्मू और कश्मीर राज्य में इस राज्य से कम व्यर्थ भूमि है।
10. पेट्रोलॉजी किसका अध्ययन है?
(अ) भूमि (ब) खनिज
(स) चट्टान (द) मृदा
S.S.C.C.P.O. परीक्षा, 2012
उत्तर-(स)
पेद्रोलाॅजी (शैलिकी), जियोलोजी की एक शाखा है। इसके अंतर्गत चट्टानों की उत्पत्ति, संघटन, वितरण एवं संरचना का अध्ययन किया जाता है।
11. मृदा की लवणता मापी जाती है-
(अ) चालकता मापी से (ब) आर्द्रता मापी से (स) साइक्रोमीटर से (द) वृद्धिमापी से
S.S.C. संयुक्त स्नातक स्तरीय (ज्पमत.प्) परीक्षा, 2012
उत्तर-(अ)
मृदा में लवणता की मात्रा का पता लगाने के लिए चालकता मापी का प्रयोग किया जाता है। साइक्रोमीटर एक प्रकार का आर्द्रता मापी है।
 जलवायु
ऑनलाइन परीक्षा प्रश्न (2016)
 भारत के उत्तर-पश्चिमी भाग में शीतकाल में किस कारण से वर्षा होती है? – पश्चिमी विक्षोम
 दक्षिण-पश्चिम मानसून से भारत के पूर्वी तट की अपेक्षा पश्चिमी तट पर ज्यादा वर्षा क्यों होती है?
– पश्चिमी घाट हवा को रोकती है जिससे बारिश होती है
 पश्चिमी विक्षोभ, नार्वेस्टर, लू एवं मैंगो शावर में से कौन सी हवाएं भूमध्यसागर से भारत के उत्तर-पश्चिमी भाग की ओर चलती है?
– पश्चिमी विक्षोम
ऑफलाइन परीक्षा-प्रश्न (2006-2015)
1. भारत के भू-भाग के कितने प्रतिशत भाग पर वर्ष में 75 सेमी. से कम वर्षा होती है?
(अ) 35 प्रतिशत (ब) 45 प्रतिशत
(स) 40 प्रतिशत (द) 30 प्रतिशत
S.S.C. मैट्रिक स्तरीय परीक्षा, 2006
उत्तर-(अ)
भारत में मानसूनी वर्षा की अल्पता अथवा अधिकता का सामना करना पड़ता है। जब तेज मानसूनी वर्षा होती है तो निचले क्षेत्रों में जल भराव हो जाता है तथा ऊंचे भागों में मृदा अपरदन हो जाता है। मानसून की अनिश्चितता, एक अन्य पहलू है। हमें औसतन पांच वर्षों में एक बार सूखे का सामना करना पड़ता है। देश के 35 प्रतिशत भाग पर 75 सेमी. से कम वर्षा होती है।
2. भारत का सबसे सूखा भाग है-
(अ) पश्चिम राजस्थान (ब) जम्मू और कश्मीर
(स) गुजरात (द) मध्य प्रदेश
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2014
उत्तर-(अ)
भारत का सबसे सूखा भाग पश्चिम राजस्थान है।
3. भारत की जलवायु है-
(अ) विषुवतीय (ब) मानसूनी
(स) भूमध्यसागरीय (द) महाद्वीपीय
S.S.C.F.C.I. परीक्षा, 2012
उत्तर-(ब)
भारत की जलवायु मानसूनी है। यहां ऋतु परिवर्तन के साथ वायु की दिशाओं में भी परिवर्तन होता है।
4. भारत की जलवायु पर निम्नलिखित में से किसका प्रभाव नहीं पड़ता?
(अ) मानसून
(ब) महासागरीय धाराएं
(स) भूमध्यरेखा का सान्निध्य
(द) हिंद महासागर का अस्तित्व
S.S.C. Section off. परीक्षा, 2006
उत्तर-(ब)
भारत की जलवायु पर प्रत्यक्षतः किसी महासागरीय जलधारा का प्रभाव नहीं है। भारत की जलवायु को प्रभावित करने वाले कारक हैं- अक्षांश, समुद्र से निकटता, मानसून पवनें, उच्चावच्च और मिट्टी की प्रकृति।
5. गर्म शुष्क मौसम के दौरान भारतीय उपमहाद्वीप पर निम्नलिखित में से किस क्षेत्र में निम्नतम दाब रहता है?
(अ) कच्छ का रण (ब) राजस्थान
(स) पश्चिमोत्तर भारत (द) मेघालय
S.S.C. मल्टी टास्किंग परीक्षा, 2014
उत्तर-(स)
21 मार्च के बाद जब सूर्य उत्तरायण होता है तो उत्तरी भारत में गर्मी बढ़ने लगती है। मध्य जून आते-आते गर्मी बेहद बढ़ जाती है एवं पश्चिमोत्तर भारत तथा पाकिस्तान निम्न दाब का क्षेत्र बन जाता है। ये निम्न दाब इतने शक्तिशाली होते हैं कि द. गोलार्ध की व्यापारिक पवनें विषुवत रेखा पार कर इस ओर आकर्षित हो जाती हैं व दक्षिण-पश्चिमी मानसूनी पवनों के रूप में आवतीय पवन तंत्र का अंग बन जाती हैं। इस प्रकार मानूसन का प्रारंभ होता है।
6. दक्षिण-पूर्वी व्यापारिक हवाएं बारिश के मौसम में भारतीय उप महाद्वीप से किसके कारण आकर्षित होती हैं?
(अ) उत्तर-पश्चिम भारत में कम वायु दाब के होने से।
(ब) उत्तरी-पूर्वी व्यापारिक हवाओं के प्रभाव।
(स) भूमध्य रेखा पर चक्रवात के बनने से।
(द) पूर्वी हवाओं के प्रभाव।
S.S.C. संयुक्त स्नातक स्तरीय (Tier-I) परीक्षा, 2015
उत्तर-(अ)
दक्षिण गोलार्द्ध की व्यापारिक हवाएं उत्तर-पश्चिम भारत के शक्तिशाली निम्न दाब के क्षेत्र से आकर्षित होती हैं। ग्रीष्म ऋतु में भारत में उच्च तापमान के कारण उ.प्र. भारत में निम्न दाब की स्थिति बनती है, जिस कारण दक्षिण-पूर्वी व्यापारिक हवाएं भारत में प्रवेश करती हैं।
7. अक्टूबर और नवंबर के महीनों में भारी वर्षा होती है-
(अ) गारो, खासी तथा जैंतिया की पहाड़ियों में।
(ब) छोटा नागपुर पठार में।
(स) कोरोमंडल तट पर।
(द) मालवा पठार में।
S.S.C. संयुक्त हायर सेकण्डरी (10़2) स्तरीय परीक्षा, 2011
उत्तर-(स)
निवर्तित मानसून बंगाल की खाड़ी से जलवाष्प ग्रहण कर पूर्वी तटीय भागों में वर्षा करता है। भारत में शरद ऋतु अर्थात अक्टूबर नवंबर में लौटते मानसून (उत्तर-पूर्वी मानसून) से तमिलनाडु तट (कोरोमंडल) पर 65-75 सेमी. तक वर्षा होती है जो आंतरिक भागों की तरफ घटती जाती है अतः अभीष्ट उत्तर विकल्प (स) है।
8. उत्तरी पूर्वी मानसून से किस प्रदेश में वर्षा होती है?
(अ) तमिलनाडु (ब) असम
(स) केरल (द) पश्चिमी बंगाल
S.S.C. संयुक्त स्नातक स्तरीय (ज्पमत.प्) परीक्षा, 2015
उत्तर-(अ)
उपर्युक्त प्रश्न की व्याख्या देखें।
9. नीचे दिए कोडों का प्रयोग करके जोड़े बनाइए-
सूची सूची
(वन की प्रकृति) (क्षेत्र)
A. उष्णकटिबंधीय सदाहरित 1. शिवालिक
B. मानसून 2. शिलांग
C. समशीतोष्ण 3. प. बंगाल
D. मैंग्रोव 4. नीलगिरि
A    B    C   D
(अ) 2 4 1 3
(ब) 3 1 4 2
(स) 2 1 4 3
(द) 3 4 1 2

S.S.C. संयुक्त स्नातक स्तरीय (Tier-I) परीक्षा, 2012
उत्तर-(स)
वन की प्रकृति एवं उनसे संबंधित क्षेत्रों का सुमेलन निम्नानुसार है-
वन की प्रकृति क्षेत्र
उष्णकटिबंधीय सदाहरित – शिलांग
मानसून – शिवालिक
समशीतोष्ण – नीलगिरि
मैंग्रोव – प. बंगाल
10. वायुमंडल में प्रायः गर्मी कहां से आती है?
(अ) सूर्याताप (ब) चालन
(स) विकिरण (द) संवहन
S.S.C.Section off. परीक्षा, 2006
उत्तर-(स)
पृथ्वी द्वारा प्राप्त प्रवेशी सौर विकिरण (सूर्याताप) जो लघु तरंगों के रूप में होता है, पृथ्वी स्वयं गर्म होने के बाद एक विकिरण पिंड बन जाती है और वायुमंडल में दीर्घ तरंगों के रूप में ऊर्जा का विकिरण करने लगती है। यही ऊर्जा वायुमंडल को नीचे से गर्म करती है। इस प्रक्रिया को पार्थिव विकिरण कहा जाता है। दीर्घ तरंग विकिरण वायुमंडलीय गैसों मुख्यतः कार्बन-डाइऑक्साइड एवं अन्य ग्रीन हाऊस गैसों द्वारा शोषित कर लिया जाता है। इस प्रकार वायुमंडल पार्थिव विकिरण द्वारा अप्रत्यक्ष रूप से गर्म होता है न कि सीधे सूर्याताप से।
11. चेन्नई को दक्षिणी पश्चिमी मानसून से अन्य स्थानों की अपेक्षा कम वर्षा मिलती है क्योंकि-
(अ) मानसून कोरोमंडल तट के समांतर चलते हैं ।
(ब) चेन्नई बहुत गर्म है और नमी को संघनित नहीं होने देता (स) वे अपतट पवनें हैं
(द) उपर्युक्त सभी
S.S.C.F.C.I. परीक्षा, 2012
उत्तर-(द)
चेन्नई को दक्षिणी-पश्चिमी मानसून से अन्य स्थानों की अपेक्षा कम वर्षा मिलने का प्रमुख कारण है-मानसून के कोरोमंडल तट के समांतर चलना, चेन्नई का अपेक्षाकृत अधिक गर्म होना जिससे सधनन क्रिया बाधित होती है तथा तटीय पवनों का अत्यधिक दूरी तय करना।
12. दक्षिणी-पश्चिमी मानसून की अवधि के दौरान तमिलनाडु सूखा रहता है क्योंकि-
(अ) यह वृष्टि – छाया क्षेत्र में स्थित है।
(ब) ताप इतना अधिक है कि पवन ठंडी नहीं हो पाती।
(स) पवन इस क्षेत्र तक नहीं पहुंचती
(द) इस क्षेत्र में कोई भी पर्वत नहीं है
S.S.C.C.P.O परीक्षा, 2012
उत्तर-(अ)
दक्षिणी पश्चिमी मानसून की अवधि के दौरान तमिलनाडु के शुष्क रहने का प्रमुख कारण इसका वृष्टि-छाया क्षेत्र में स्थित होना है।
13. गुवाहाटी से चंडीगढ़ तक मानसूनी वर्षा की प्रवृत्ति क्या होती-
(अ) अनियमित प्रवृत्ति (ब) वर्धमान प्रवृत्ति
(स) ह्रासमान प्रवृत्ति (द) चक्रीय प्रवृत्ति
S.S.C.स्टेनोग्राफर परीक्षा, 2014
उत्तर-(स)
गुवाहाटी से चंडीगढ़ तक मानसूनी वर्षा ह्रासमान प्रवृत्ति की होती है।
14. निम्नलिखित में से कौन-सा भारत का सबसे अधिक आर्द्र स्थान है?
(अ) महाबलेश्वर (ब) चेरापूंजी
(स) उधकमंडलम (द) मासिनराम या माउसीनराम
S.S.C.C.P.O. परीक्षा, 2007
उत्तर-(द)
भारत का सबसे अधिक आर्द्र स्थल मेघालय के पूर्वी खासी पहाड़ी जिले में अवस्थित मासिनराम है।
15. वर्ष में 50 सेमी. से कम वर्षा वाला क्षेत्र है-
(अ) मेघालय (ब) कश्मीर में लेह
(स) कोरोमंडल तट (द) कोंकण तट
S.S.C.C.P.O. परीक्षा, 2007
उत्तर-(ब)
वर्ष में 50 सेमी. से कम वर्षा प्राप्त करने वाले क्षेत्र हैं- कश्मीर में लेह, पश्चिमी राजस्थान, कच्छ तथा सौराष्ट्र तट और तमिलनाडु का रायल सीमा क्षेत्र है।
16. भारत के धान के प्रदेश …….. सेमी से अधिक वर्षा वाले क्षेत्रों में स्थित हैं।
(अ) 120 (ब) 140
(स) 100 (द) 80
S.S.C.C.P.O. परीक्षा, 2012
उत्तर-(स)
देश की खाद्य फसलों में चावल का प्रथम स्थान है। भारत के धान के प्रदेश 100 सेमी. से अधिक वर्षा वाले क्षेत्रों में स्थित हैं। वस्तुतः 100 सेमी. की समवर्षा रेखा भारत को दो भागों में विभाजित करती है जिसके पूर्व में धान और पश्चिम में गेहूं की कृषि होती है।