हमारी app डाउनलोड करे और फ्री में पढाई करे
WhatsApp Group Join Now
Telegram Join Join Now
Download our app now हमारी app डाउनलोड करे

जेनॉन (Xe) तत्व का परमाणु क्रमांक , परमाणु भार कितना होता है , जेनॉन (Xe) की खोज किसने और कब की ?

By   June 27, 2023

जानिये जेनॉन (Xe) तत्व का परमाणु क्रमांक , परमाणु भार कितना होता है , जेनॉन (Xe) की खोज किसने और कब की ?

प्रश्न : जेनॉन (Xe) का परमाणु क्रमांक कितना होता है ?

सब्सक्राइब करे youtube चैनल

उत्तर : जेनॉन (Xe) का परमाणु क्रमांक ’54’ होता है अर्थात जेनॉन (Xe) आवर्त सारणी में नंबर 54 पर पाया जाता है |

प्रश्न : जेनॉन (Xe) का परमाणु भार क्या होता है ?

उत्तर : जेनॉन (Xe) तत्व का परमाणु मान ‘131.293’ होता है |

प्रश्न : जेनॉन (Xe) की खोज किसने और कब की थी ?

उत्तर : आवर्त सारणी में उपस्थित जेनॉन (Xe) नामक तत्व की खोज ‘डब्ल्यू. रामसे व एम. ट्रेवर्स’ द्वारा सन ‘1898’ में की गयी थी |

जेनॉन (Xe) के बारे में अन्य महत्वपूर्ण जानकारी 

जेनॉन (Xe) एक नाबिकीय गैस है जो मूल रूप से अवाणीय और रंगहीन होता है। यह एक उच्चायुक्त तत्व है और विभिन्न उपयोगों के लिए उपयुक्त होता है। जेनॉन के कुछ महत्वपूर्ण उपयोग निम्नलिखित हैं:

1. बिजली के प्रकाशन में: जेनॉन का प्रकाशनीय गैस के रूप में उपयोग होता है, जिसके कारण इसका उपयोग बिजली के प्रकाशन में किया जाता है। इसे जेनॉन बिजली कहा जाता है और यह विज्ञान, पथशाला, टेलीविजन, सिनेमा और अन्य ऊर्जा प्रयोगों में प्रयोग होता है।

2. लेजर उपकरणों में: जेनॉन के उत्पादन में उपयोग होने के कारण, इसे लेजर उपकरणों में उपयोग किया जाता है। यह लेजर बीम के रूप में उपयोगी होता है, जिसके द्वारा विभिन्न अनुप्रयोगों में लेजर लाइट प्रकाशित किया जाता है, जैसे कि चिकित्सा, उद्योग, संगणक यांत्रिकी, आदि।

3. खंडितरक माध्यम के रूप में: जेनॉन खंडितरक माध्यम के रूप में भी उपयोगी होत

ा है। यह रेडियोलॉजिकल और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में उपयोग होता है, जिनमें कोण अनुप्रवाह, प्रतिबिम्बन और तटस्थ धाराओं को तोड़ने के लिए उपयोग किया जाता है।

4. विज्ञानिक अध्ययन में: जेनॉन को विज्ञानिक अध्ययनों में भी उपयोग किया जाता है। इसके माध्यम से वैज्ञानिक प्रयोगों को संचालित किया जाता है और नई अध्ययनों और अनुसंधानों के लिए ज्यामिति उपकरण के रूप में उपयोग किया जाता है।

जेनॉन के इन उपयोगों के अलावा, यह और भी अनेक क्षेत्रों में उपयोगी हो सकता है, जैसे कि क्रिस्टलोग्राफी, विज्ञान, जलविद्युत उपकरण, गैस क्रोमेटोग्राफी, आदि।