पुरान्त: शायी , विदलन Outcrop , outlier and Inlier in hindi in geology

By  
Outcrop , outlier and Inlier in hindi in geology :
Outcrop : An “outcrop” is the area where the bed rock is exposed on the ground surface .
outlier (पुरान्त: शायी ) चारों ओर से प्राचीन शिलाओं से घिरे हुए नए शैल समूह को पुरान्त:शायी कहा जाता है।  इनका निर्माण प्राय: अपरदन जनित पर्वतो के शीर्षो पर अभिनति की द्रोणिका में या रिफ्ट घाटी में होती है।  झरिया कोयला क्षेत्र भी एक पुरान्त: शायी कहा जाता है क्योंकि इसके चारों ओर प्राचीन कायान्तरित शिलाएँ पायी जाती है।
Inlier (नवान्त: शायी) : चारो ओर नवीन शिलाओं से घिरे पुराने शिला समूहों को नवांत: शायी कहा जाता है।  इनका निर्माण प्राय: नदी घाटी के तल पर किसी गुम्बद के शीर्ष अपदरदन से या किसी उठे हुए शिला खण्ड के भाग में होता है।

Cleavage (विदलन) :

यह वह गुण है जो खनिजों में जोड उत्पन्न करता है तथा इस पर खनिज टूट सकते है।  इनके टूटने पर उत्पन्न दरार को विदलन कहा जाता है।  विदलन कई दिशाओं में पाया जाता है।  कभी कभी क्रिस्टलीय खनिजो में भी विदलन नहीं होता है जैसे क्वार्टज़ में , परन्तु गेलेना तथा कैल्साइट में उत्तम विदलन पाया जाता है।
Overlap (अतिव्यापन) :
कभी कभी दो परतो को मिलाने वाली बीच की सतह कमजोर होती है और ढलाऊ रूप में पुरानी शैल सतह प्रदर्शित करती है जो की धीरे धीरे समुद्र level के नीचे डूबती जाती है जिसके कारण जब नई शैल श्रेणी पुरानी शैलो पर निक्षेपित होती है तो प्रत्येक नई परत c, b और a के रूप में बदल जाती है और पुराने शैल सतह पर अधिकाधिक अतिक्रमण करती जाती है।  इस प्रकार का विषम विन्यास “overlap” के रूप में जाना जाता है।